GAGAN Satellite Technology: क्या है 'गगन सैटेलाइट टेक्नोलॉजी' स्वदेशी उपग्रह

safalta experts Published by: Chanchal Singh Updated Sat, 30 Apr 2022 01:55 AM IST

Highlights

यह एक सैटेलाइट-आधारित ऑग्मेंटेशन सिस्टम है जो नागरिक उड्डयन अनुप्रयोगों के लिए आवश्यक अखंडता और सटीकता के साथ सैटेलाइट-आधारित नेविगेशन सेवाएं प्रदान करता है।

GAGAN Satellite Technology :भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) द्वारा गगन (जीपीएस एडेड जीईओ ऑगमेंटेड नेविगेशन) नामक नवीनतम स्वदेशी उपग्रह-आधारित वृद्धि प्रणाली (एसबीएएस) तकनीक को लागू करके सफलतापूर्वक परीक्षण करने के बाद भारत ने एक प्रमुख मील का पत्थर हासिल किया है।  अगर आप प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं और विशेषज्ञ मार्गदर्शन की तलाश कर रहे हैं, तो आप हमारे जनरल अवेयरनेस ई बुक डाउनलोड कर सकते हैं  FREE GK EBook- Download Now.

इस लेख के मुख्य बिंदु

इंडिगो एशिया की पहली एयरलाइन बन गई जिसने राजस्थान के किशनगढ़ हवाई अड्डे पर उतरते समय स्वदेशी रूप से विकसित उपग्रह आधारित नेविगेशन प्रणाली का इस्तेमाल किया।

Source: Safalta

Free Demo Classes

Register here for Free Demo Classes

Please fill the name
Please enter only 10 digit mobile number
Please select course
Please fill the email

एशिया प्रशांत क्षेत्र में भारत पहला देश है जिसने यह उपलब्धि हासिल की है।

Free Daily Current Affair Quiz-Attempt Now with exciting prize

गगन का विकास

गगन को भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) और भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) द्वारा संयुक्त रूप से विकसित किया गया है। अपलिंक और संदर्भ स्टेशनों का उपयोग करके, यह प्रणाली ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम (जीपीएस) सिग्नल में सुधार प्रदान करती है ताकि हवाई यातायात के प्रबंधन में सुधार हो सके।

  April Month Current Affairs Magazine DOWNLOAD NOW 
 

गगन के बारे में

यह एक सैटेलाइट-आधारित ऑग्मेंटेशन सिस्टम है जो नागरिक उड्डयन अनुप्रयोगों के लिए आवश्यक अखंडता और सटीकता के साथ सैटेलाइट-आधारित नेविगेशन सेवाएं प्रदान करता है। इस प्रणाली के उपयोग के माध्यम से भारतीय हवाई क्षेत्र में बेहतर वायु यातायात प्रबंधन प्रदान किया जा सकता है। यह प्रणाली अन्य अंतरराष्ट्रीय एसबीएएस प्रणालियों के साथ अंतःक्रियाशील है जो दुनिया भर में उपयोग की जा रही हैं और क्षेत्रीय सीमाओं में निर्बाध नेविगेशन प्रदान करने में सक्षम होंगी। गगन सिग्नल-इन-स्पेस (एसआईएस) जीसैट-10 और जीसैट-8 के माध्यम से उपलब्ध है।

सटीक लैंडिंग के उद्देश्य से विमान को रेडियो नेविगेशन सहायता पर निर्भर रहना पड़ता है। हालांकि, छोटे हवाई अड्डों में आधुनिक नेविगेशन सहायता की कमी है। इसलिए, ऐसे हवाई अड्डों में दृश्यता की आवश्यकताएं बहुत अधिक हैं। जैसे कि किशनगढ़ हवाई अड्डे पर सभी नियमित यात्री उड़ानों के लिए दृश्यता की आवश्यकता 5,000 मीटर है, लेकिन गगन तकनीक का उपयोग करके, एक विमान लगभग 800 मीटर की दृश्यता के साथ काम कर सकता है। गगन द्वारा विमान के स्थान के बारे में अत्यंत सटीक जानकारी प्रदान की जाती है, जिसमें देशांतर, अक्षांश और ऊंचाई जैसे विभिन्न मापदंडों को शामिल किया जाता है।
 

सभी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए इन फ्री बुक्स को डाउनलोड करें

Hindi Vyakaran E-Book-Download Now

Polity E-Book-Download Now

Sports E-book-Download Now

Science E-book-Download Now

Free E Books