Biography of Jawaharlal Nehru, जाने पंडित जवाहरलाल नेहरु के जीवन परिचय के बारे में विस्तार से

Safalta Expert Published by: Blog Safalta Updated Mon, 04 Dec 2023 06:07 PM IST

Highlights

जवाहरलाल नेहरु  स्वतंत्र भारत के पहले प्रधानमंत्री थे। वे महात्मा गाँधी के सहायक के तौर पर भारतीय स्वतंत्रता अभियान के मुख्य नेता थे। वे अंत तक भारत को स्वतंत्र बनाने के लिए लड़ते रहे और अंत मे उन्होंने स्वतंत्रता दलाई उसके बाद वे 1964 में उनकी मृत्यु हो गई। उन्हें आधुनिक भारत का रचयिता माना जाता था। पंडित संप्रदाय से होने के कारण उन्हें पंडित नेहरु भी कहा जाता था। जबकि बच्चो से उनके लगाव के कारण बच्चे उन्हें “चाचा नेहरु” के नाम से जानते थे।

Free Demo Classes

Register here for Free Demo Classes

Please fill the name
Please enter only 10 digit mobile number
Please select course
Please fill the email
Something went wrong!
Download App & Start Learning
जवाहरलाल नेहरु  स्वतंत्र भारत के पहले प्रधानमंत्री थे। वे महात्मा गाँधी के सहायक के तौर पर भारतीय स्वतंत्रता अभियान के मुख्य नेता थे। वे अंत तक भारत को स्वतंत्र बनाने के लिए लड़ते रहे और अंत मे उन्होंने स्वतंत्रता दलाई उसके बाद वे 1964 में उनकी मृत्यु हो गई। उन्हें आधुनिक भारत का रचयिता माना जाता था। पंडित संप्रदाय से होने के कारण उन्हें पंडित नेहरु भी कहा जाता था।

Source: safalta

जबकि बच्चो से उनके लगाव के कारण बच्चे उन्हें “चाचा नेहरु” के नाम से जानते थे।  अगर आप प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं और विशेषज्ञ मार्गदर्शन की तलाश कर रहे हैं, तो आप हमारे जनरल अवेयरनेस ई बुक डाउनलोड कर सकते हैं   FREE GK EBook- Download Now. / GK Capsule Free pdf - Download here
 
आरम्भिक जीवन :

जवाहरलाल नेहरू का जन्म 14 नवम्बर 1889 को ब्रिटिश भारत में इलाहाबाद में हुआ। उनके पिता, मोतीलाल नेहरू  एक धनी बैरिस्टर जो कश्मीरी पण्डित समुदाय से थे, स्वतन्त्रता संग्राम के दौरान भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के दो बार अध्यक्ष चुने गए। उनकी माता स्वरूपरानी थुस्सू  जो लाहौर में बसे एक सुपरिचित कश्मीरी ब्राह्मण परिवार से थी, मोतीलाल की दूसरी पत्नी थी व पहली पत्नी की प्रसव के दौरान मृत्यु हो गई थी। जवाहरलाल तीन बच्चों में से सबसे बड़े थे, जिनमें बाकी दो लड़कियाँ थी।

उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा हैरो से और कॉलेज की शिक्षा ट्रिनिटी कॉलेज, लंदन से पूरी की थी। इसके बाद उन्होंने अपनी लॉ की डिग्री कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय से पूरी की इंग्लैंड में उन्होंने सात साल व्यतीत किए जिसमें वहां के फैबियन समाजवाद और आयरिश राष्ट्रवाद के लिए एक तर्कसंगत दृष्टिकोण विकसित किया।

 FREE Current Affairs Ebook- Download Now. 

जवाहरलाल नेहरू 1912 में भारत लौटे और उसके बाद वकालत शुरू की 1916 में उनकी शादी कमला नेहरू से हुई। 1917 में जवाहर लाल नेहरू होम रुल लीग‎ में शामिल हो गए। राजनीति में उनकी असली दीक्षा दो साल बाद 1919 में हुई जब वे महात्मा गांधी के संपर्क में आए। उस समय महात्मा गांधी ने रॉलेट अधिनियम के खिलाफ एक अभियान शुरू किया था। नेहरू, महात्मा गांधी के सक्रिय लेकिन शांतिपूर्ण, सविनय अवज्ञा आंदोलन के प्रति खासे आकर्षित हुए।
 


राजनीतिक जीवन : नेहरू ने ब्रिटेन में अपने समय के दौरान एक छात्र और एक बैरिस्टर के रूप में भारतीय राजनीति में रुचि विकसित की थी। 1912 में भारत लौटने के कुछ महीनों के भीतर, नेहरू ने पटना में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के एक वार्षिक सत्र में भाग लिया। उन्होंने भारत में ब्रिटिश सरकार द्वारा पारित सेंसरशिप अधिनियमों के खिलाफ भी बात की थी। नमक मार्च: 1930

 नेहरू और कांग्रेस के अधिकांश नेता शुरू में ब्रिटिश नमक कर के उद्देश्य से सत्याग्रह के साथ सविनय अवज्ञा शुरू करने की गांधी की योजना के बारे में अस्पष्ट थे।  विरोध में भाप बनने के बाद, उन्हें प्रतीक के रूप में नमक की शक्ति का एहसास हुआ।  नेहरू ने अभूतपूर्व लोकप्रिय प्रतिक्रिया के बारे में टिप्पणी की, "ऐसा लग रहा था जैसे एक वसंत अचानक जारी किया गया था"
 
Current Affairs Ebook Free PDF: डाउनलोड करे General Knowledge Ebook Free PDF: डाउनलोड करें

पंडित जवाहरलाल नेहरु से जुड़े महत्वपूर्ण फैक्ट
 

 पंडित जवाहरलाल नेहरू का जन्म 14 नवंबर 1889 को इलाहाबाद में हुआ था। जवाहरलाल नेहरु हैरो और कैंब्रिज से पढ़ाई करने के बाद 1912 में एट लॉ की डिग्री हासिल की और बार में बुलाए गए। पंडित जवाहरलाल नेहरू स्वतंत्र भारत के पहले प्रधानमंत्री और कांग्रेस पार्टी के 6 बार अध्यक्ष पद को संभालने वाले कार्यकर्ता थे, (लाहौर 1929, लखनऊ 1936, फैजपुर 1947, दिल्ली 1951, हैदराबाद 1953 और कल्याण 1954 में यहां से जवाहरलाल नेहरू ने कांग्रेश के अध्यक्ष पद को संभाला था।

Free Daily Current Affair Quiz-Attempt Now with exciting prize
 
1. 1942 के भारत छोड़ो आंदोलन में जवाहरलाल नेहरू को 9 अगस्त 1942 को मुंबई में गिरफ्तार किया गयै और अहमदनगर जेल में इन्हें रखा गया था, जहां इन्हें 15 जून 1945 को रिहा किया गया।

2. बच्चों के प्यारे चाचा नेहरू के रूप में पंडित जवाहरलाल नेहरू देश को प्रगति और विकास के पथ पर ले जाने वाले खास पथ प्रदर्शक व्यक्ति थे। पंडित जवाहरलाल नेहरू के कार्यकाल में लोकतांत्रिक परंपराओं को मजबूत करना राष्ट्र एवं संविधान के धर्मनिरपेक्ष चरित्र को स्थाई भाव देना और योजनाओं के माध्यम से देश की अर्थव्यवस्था को सुचारू और विकास करना ही इनका मुख्य उद्देश्य रहा था।

3. पंडित जवाहरलाल नेहरू शुरू से ही गांधी जी से प्रभावित थे और 1912 में कांग्रेस पार्टी से जुड़े थे, 1920 के प्रतापगढ़ के पहले किसान मोर्चा को संगठित करने का श्रेय पंडित जवाहरलाल नेहरू को जाता है।

4. 1928 में लखनऊ में साइमन कमीशन के विरोध में नेहरू जी घायल हुए और 1930 के नमक आंदोलन में इन्हें गिरफ्तार किया गया था। उन्होंने इसके लिए 6 महीने की सजा काटी और 1935 में अल्मोड़ा जेल में इन्होंने आत्मकथा लिखी थी।

5. उन्होंने कुल 9 बार जेल की यात्रा की। जवाहरलाल नेहरु ने विश्व भ्रमण किया और अंतरराष्ट्रीय नायक के रूप में जाने गए।

6. नेहरू जी ने पंचशील का सिद्धांत प्रतिपादित किया और 1954 में भारत रत्न से सम्मानित किए गए।

सभी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए इस ऐप से करें फ्री में प्रिपरेशन - Safalta Application

7. नेहरु जी ने तटस्थ राष्ट्रों को संगठित किया और इनका नेतृत्व भी किया था।  स्वाधीनता की लड़ाई को चलाने के लिए की जाने वाली कार्यवाही का खास प्रस्ताव तो एकमत से प्राप्त हो गया था, खास प्रस्ताव इत्तेफाक से 31 दिसंबर की आधी रात के घंटे की चोट के साथ जबकि पिछले साल की जगह नया साल आ रहा था तब मंजूर हुआ।

8. पंडित जवाहरलाल नेहरू के निधन के बाद सर्वपल्ली राधा कृष्ण ने कहा था, जवाहरलाल नेहरू हमारे पीढ़ी के एक महान व्यक्ति थे वे एक ऐसे अद्वितीय राजनीतिज्ञ थे जिनकी मानव मुक्ति की प्रति सेवाएं किरण स्मरणीय रहेंगी।

9. स्वाधीनता संग्राम के योद्धा के रूप में यशस्वी और आधुनिक भारत के निर्माता थे मैथिलीशरण गुप्त की कविताएं में नेहरू जी के संबंध में यह खास पंक्तियां लिखी गई थी 

हम कोटि-कोटि कुटुंबियों की और विश्व विशाल की 
सुख - शांति - चिंता थी, तुम्हारी सहचारी चिरकाल की
 तुम जागते थे रात में भी, जबकि सोते थे सभी 
जन मात्र की सच्ची विजय है, यह जवाहरलाल की 

10आजादी के पहले गठित अंतरिम सरकार और आजादी के बाद 1947 में प्रधान भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू को बनाया गया और 27 मई 1964 को उनके निधन तक यह इस पद पर बने रहे।

सभी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए इन करंट अफेयर को डाउनलोड करें

November Current Affair E-Book  DOWNLOAD NOW
October Current Affairs E-book DOWNLOAD NOW
September Month Current affair DOWNLOAD NOW
August  Month Current Affairs 2022 डाउनलोड नाउ
Monthly Current Affairs July 2022 डाउनलोड नाउ

   


जवाहर लाल नेहरू की मृत्यु ;

1962 के बाद नेहरू के स्वास्थ्य में लगातार गिरावट आने लगी, और उन्होंने 1963 तक कश्मीर में स्वस्थ होने में महीनों बिताए। कुछ इतिहासकार इस नाटकीय गिरावट का श्रेय भारत-चीन युद्ध पर उनके आश्चर्य और चिंता को देते हैं, जिसे उन्होंने विश्वास के विश्वासघात के रूप में माना। 26 मई 1964 को देहरादून से लौटने पर, वे काफी सहज महसूस कर रहे थे और हमेशा की तरह लगभग बजे बिस्तर पर सोने चले गए।  करीब 06:30 बजे तक उन्होंने आराम से रात गुजारी।  बाथरूम से लौटने के तुरंत बाद नेहरू ने पीठ में दर्द की शिकायत की।  उन्होंने उन डॉक्टरों से बात की जिन्होंने कुछ समय के लिए उनका इलाज किया, और लगभग तुरंत ही वह गिर गए।  दोपहर बाद उसकी मौत होने तक वह बेहोश रहा।  27 मई 1964 को स्थानीय समयानुसार 14:00 बजे लोकसभा में उनकी मृत्यु की घोषणा की गई;  मौत का कारण  दिल का दौरा बताया गया।

MS Dhoni Biography: पढ़िए कैप्टन कूल महेंद्र सिंह धोनी का जीवन परिचय

Free Demo Classes

Register here for Free Demo Classes

Trending Courses

Master Certification in Digital Marketing  Programme (Batch-11)
Master Certification in Digital Marketing Programme (Batch-11)

Now at just ₹ 64999 ₹ 12500048% off

Professional Certification Programme in Digital Marketing (Batch-4)
Professional Certification Programme in Digital Marketing (Batch-4)

Now at just ₹ 45999 ₹ 9999954% off

Advanced Certification in Digital Marketing Online Programme (Batch-21)
Advanced Certification in Digital Marketing Online Programme (Batch-21)

Now at just ₹ 20999 ₹ 3599942% off

Advance Certification In Graphic Design  Programme  (Batch-8) : 100 Hours Live Interactive Classes
Advance Certification In Graphic Design Programme (Batch-8) : 100 Hours Live Interactive Classes

Now at just ₹ 15999 ₹ 2999947% off

Flipkart Hot Selling Course in 2024
Flipkart Hot Selling Course in 2024

Now at just ₹ 10000 ₹ 3000067% off

Advanced Certification in Digital Marketing Classroom Programme (Batch-3)
Advanced Certification in Digital Marketing Classroom Programme (Batch-3)

Now at just ₹ 29999 ₹ 9999970% off

Basic Digital Marketing Course (Batch-24): 50 Hours Live+ Recorded Classes!
Basic Digital Marketing Course (Batch-24): 50 Hours Live+ Recorded Classes!

Now at just ₹ 1499 ₹ 999985% off

WhatsApp Business Marketing Course
WhatsApp Business Marketing Course

Now at just ₹ 599 ₹ 159963% off

Advance Excel Course
Advance Excel Course

Now at just ₹ 2499 ₹ 800069% off