Download Safalta App
for better learning

Download
Safalta App

X
Whatsup

Fundamental Rights Under Indian Constitution

Safalta Experts Published by: Blog Safalta Updated Mon, 23 Aug 2021 06:51 PM IST

Highlights

वे अधिकार जो किसी व्यक्ति के जीवन, स्वतंत्रता एवं अभिवृद्धि के लिए आवश्यक हैं और जिन्हें राज्य के विरुद्ध न्यायपालिका का संरक्षण प्राप्त होता है, मौलिक अधिकार कहलाते हैं।
मौलिक अधिकारों का सूत्रपात 1215 ई. में इंग्लैंड के मैग्नाकार्टा से हुआ।
फ्रांस की राज्य क्रांति ने विश्व को 'स्वतंत्रता, समानता और भ्रातत्व ' का संदेश दिया।
फ्रांस के संविधान में 1789 ई. में सर्वप्रथम ' मानवीय अधिकारों ' को शामिल किया गया था।
 
 

मौलिक अधिकार
[भाग - 1, अनुच्छेद (12-35)]

 
Source: Live law



वे अधिकार जो किसी व्यक्ति के जीवन, स्वतंत्रता एवं अभिवृद्धि के लिए आवश्यक हैं और जिन्हें राज्य के विरुद्ध न्यायपालिका का संरक्षण प्राप्त होता है, मौलिक अधिकार कहलाते हैं।
मौलिक अधिकारों का सूत्रपात 1215 ई. में इंग्लैंड के मैग्नाकार्टा से हुआ।
फ्रांस की राज्य क्रांति ने विश्व को 'स्वतंत्रता, समानता और भ्रातत्व ' का संदेश दिया।
फ्रांस के संविधान में 1789 ई. में सर्वप्रथम ' मानवीय अधिकारों ' को शामिल किया गया था।
 

मौलिक अधिकारों का वर्गीकरण

समानता का अधिकार (अनु.14-18)

  • विधि के समक्ष समता और विधि का सामान संरक्षण (अनु 14)
  • धर्म, मूलवंश, जाति, लिंग या जन्म स्थान के आधार पर विभेद का प्रतिषेध (अनु.15)
  • लोक नियोजन के विषय में अवसर की समानता (अनु 16)।
  • अस्पृश्यता का अंत (अनु .17)।
  • उपाधियों का अंत (अनु.18)।
इतिहास की संपूर्ण तैयारी के लिए आप हमारे फ्री ई-बुक्स डाउनलोड कर सकते हैं।

Free Study Materials

Start Your Preparation with Free Courses and E-Books


 
 
स्वतंत्रता का अधिकार (अन. 19 - 22)
वाक् - स्वतंत्रता आदि विषयक कुछ आधिकारों का संरक्षण।
नोट - अनुच्छेद 19 (1) क से छः स्वतंत्रततायें इस प्रकार हैं -
1) विचार एवं अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता (प्रेस की स्वतंत्रता इसी में निहित है।)
2) शांतिपूर्ण हथियार रहित सम्मेलन की स्वतंत्रता।
3) संगठन की स्वतंत्रता                                     
 

शोषण के विरुद्ध आधिकार

  • मानव के साथ दुर्व्यपार और बालश्रम का प्रतिषेध।
  • कारखानों आदि में बालकों के नियोजन पर प्रतिषेध।

धार्मिक स्वतंत्रता का अधिकार

  • अंतःकरण की और धर्म को आबाध रूप से मानने, आचरण करने की स्वतंत्रता (अनु.25)
  • धार्मिक कार्यों के प्रबंध की स्वतंत्रता (अनु. 26)
  • किसी विशिष्ट धर्म की अभिवृद्धि के लिए करों के बारे में संप्रदाय की स्वतंत्रता (अनु. 27)
  • कुछ शिक्षा संस्थाओं में धार्मिक शिक्षा या धार्मिक उपासना में उपस्थिति होने के बारे में स्वतंत्रता।

सूचना का अधिकार

  • सर्वोच्च न्यायालय ने ईशर आयल लि. बनाम  हेल्थ उत्कर्ष समिति वाद में अनुच्छेद 21 के अंतर्गत सूचना का अधिकार को सम्मिलित किया गया है।
  • सरकार में अक्टूबर, 2005 में सूचना का अधिकार अधिनियम पारित किया। वर्तमान में यह कानूनी अधिकार है।
  • इसका उद्देश्य जनसंबंधी मामलों में पारदर्शिता को बढ़ाना सार्वजनिक जीवन में भ्रष्टाचार को रोकना है। यह अधिनियम नागरिकों को प्रशासन के सभी स्तरों पर सूचना हासिल करने का व्यावहारिक अधिकार प्रदान करती है।

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree