Why we celebrate IAF day जाने भारतीय वायुसेना दिवस क्यों मनाते हैं

safalta Experts Published by: Blog Safalta Updated Fri, 08 Oct 2021 03:35 PM IST

भारत के ताकत की बात हो और उसमें वायुसेना का नाम ना हो ऐसा हो ही नहीं सकता. भारतीय वायुसेना आज अपनी 89वां वर्षगांठ मना रहा हैं इसकी स्थापना साल 1932 में हुई थी. वायुसीमा की सुरक्षा और विषम परिस्थितियों में हालात को संभालने की जिम्मेदारी भारतीय वायुसेना के जांबाजों के ऊपर हैं। देश आजाद होने से पहले वायुसेना को रॉयल इंडियन एयरफोर्स (आरआईएएफ) कहा जाता था।  आजादी के बाद वायुसेना के नाम में से "रॉयल" शब्द को हटाकर "इंडियन एयरफोर्स" कर दिया गया। गाजियाबाद के हिंडन एयरबेस पर वायुसेना दिवस को धूमधाम के साथ मनाया जाता है। देश के पुराने और अत्याधुनिक विमानों के साथ भारतीय वायुसेना के जवान हैरतअंगेज करतब दिखा कर शौर्य का परिचय देते हैं। भारतीय वायु सेना दुनिया की चौथी सबसे बड़ी परिचालन वाली वायु सेना। यदि आप प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं और विशेषज्ञ मार्गदर्शन की तलाश कर रहे हैं, तो आप हमारे करंट अफेयर्स को सब्सक्राइब करे FREE Current Affairs Ebook- Download Now 
 
Current Affairs Ebook Free PDF: डाउनलोड करें General Knowledge Ebook Free PDF: डाउनलोड करें

हर साल भारतीय वायुसेना दिवस कैसे मनाया जाता है 
हर साल यह विशेष दिन उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद शहर के हिंडन एयर फ़ोर्स स्टेशन पर मनाया जाता है। समारोह तीन सशस्त्र बलों के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ-साथ भारतीय वायुसेना प्रमुख की उपस्थिति में आयोजित किया जाएगा।

Free Demo Classes

Register here for Free Demo Classes

Please fill the name
Please enter only 10 digit mobile number
Please select course
Please fill the email
Something went wrong!
Download App & Start Learning

Source: indian express

इस अवसर का जश्न मनाने के लिए सबसे महत्वपूर्ण और पुराने विमानों को खुले आसमान में एक शानदार शो में रखा जाता है। पिछले साल भारतीय वायु सेना दिवस की थीम "अपने कर्मियों के अथक प्रयास और सर्वोच्च बलिदान" थी।

फ्री मॉक टेस्ट का प्रयास करें- Click Here

भारतीय वायुसेना के पहले चीफ थे थॉमस डब्ल्यू एल्महर्स्ट

1 अप्रैल 1933 को वायुसेना का पहला दस्ता बना, जिसमें 6 आएएफ-ट्रेंड ऑफिसर और 19 जवानों को शामिल किया गया था। भारतीय वायु सेना के पहले कमांडर इन चीफ, एयर मार्शल सर थॉमस डब्ल्यू एल्महर्स्ट थे।
आजादी के बाद सर थॉमस डब्ल्यू एल्महर्स्ट को भारतीय वायु सेना का पहला चीफ, एयर मार्शल बनाया गया था। वह 15 अगस्त 1947 से 22 फरवरी 1950 तक इस पद पर बने रहे थे। एयर फोर्स को आर्मी से 'आजाद' करने का श्रेय सर थॉमस डब्ल्यू एल्महर्स्ट को ही जाता है।

प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें
अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं की बेहतर तैयारी के लिए उम्मीदवार सफलता के फ्री कोर्स की सहायता भी ले सकते हैं। सफलता द्वारा इच्छुक उम्मीदवार परीक्षाओं जैसें- SSC GD, UP लेखपाल, NDA & NA, SSC MTS आदि परीक्षाओं की तैयारी कर सकते हैं। इसके साथ ही इच्छुक उम्मीदवार सफलता ऐप से जुड़कर मॉक-टेस्ट्स, ई-बुक्स और करेंट-अफेयर्स जैसी सुविधाओं का लाभ मुफ्त में ले सकते हैं।

Free E Books