Download Safalta App
for better learning

Download
Safalta App

X
Whatsup

शाहजहाँ का इतिहास History of Shah Jahan

Safalta Experts Published by: Blog Safalta Updated Thu, 19 Aug 2021 01:36 PM IST

शाहजहाँ (1627-1658 ई.)

  • शाहजहाँ (खुर्रम) का जन्म 5 फरवरी, 1592 ई. को लाहौर में हुआ था।
  • शाहजहाँ का विवाह आसफ खाँ की पुत्री अरजुमन्द बानु बेगम (मुमताज महल) के साथ हुआ। 
  • जहांगीर की मृत्यु के बाद शाहजहाँ को श्वसुर आसफ खाँ ने खुसरो के पुत्र दाबर बख्श को तत्कालिन तौर पर बादशाह बनाया दिया।
  • शाहरयार ने लाहौर में स्वयं को बादशाह घोषित कर दिया था।
  • आसफ खाँ ने आक्रमण कर शहरयार की आंखें निकलवा दी।
  • शाहजहाँ द्वारा आसफ खाँ को वज़ीर का पद तथा महावत खाँ को खानखाना की उपाधि दी गई।
  • 24 फरवरी, 1628ई. को शाहजहाँअबुल मुज्फ्फर शहाबुद्दीन मुहम्मद साहब किराए-ए-शानी शाहजहाँ के नाम से शासक बना।
  • शाहजहाँ ने सिजदा एंव पायबोस की प्रथा समाप्त कर दी और चहार तस्लीम प्रथा शुरू की।
  • शाहजहां ने इलाही सम्वत् के स्थान पर हिजरी सम्वत् चलाया।
  • शाहजहाँ ने अपने शासन के 11 वें वर्ष झरोखा दर्शन एंव 12 वें वर्षा तुलादान प्रथा को समाप्त करवा दिया।
  • शाहजहाँ ने 1638 ई. में अपनी राजधानी को आगरा से दिल्ली लाने के लिए यमुना नदी के दाहिने तट पर शाहजहाँ नवाद की नींव डाली।
Source: kreately



इतिहास की संपूर्ण तैयारी के लिए आप हमारे फ्री ई-बुक्स डाउनलोड कर सकते हैं।

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree