Download Safalta App
for better learning

Download
Safalta App

X
Whatsup

मुगल शासक हुमायूँ  एंव सूरी साम्राज्य के शेरशाह सूरी का इतिहास The Suri Empire & Mughal Empire

Safalta Experts Published by: Blog Safalta Updated Tue, 17 Aug 2021 07:14 PM IST

मुगल शासक हुमायूँ  एंव सूरी साम्राज्य के शेरशाह सूरी का इतिहास

हुमायूँ  (1530-1556ई.) 
  • हुमायूं का जन्म 6 मार्च, 1508 ई. में काबुल में हुआ था।
  • हुमायूँ की माँ महिम बेगम शिया  मत में विश्वास रखती थी।
  • हुमायूँ  दर्शनशास्त्र, ज्योतिषशास्त्र,फलित तथा गणित का ज्ञाता था।
  • 30 दिसंबर 1530ई. को 23 वर्ष की अवस्था में हुमायूँ  का राज्याभिषेक आगरा में हुआ।
  • आगरा की गद्दी पर बैठने से पहले हुमायूँ  बदख्शाँ का सूबेदार था।
  • अपने पिता के निर्देशक के अनुसार हुमायूँ ने अपने राज्य का बटवारा अपने भाइयों में कर दिया।
  • 1555 ई. में हुमायूं ने पंजाब शूरा शासक सिकंदर को परजीत कर पुनः दिल्ली की गद्दी पर बैठा।
  • हुमायूं द्वारा लड़े गए चार प्रमुख युद्ध का क्रम है।
  1. देवरा (1531 ई.)
  2. चौसा (1539 ई.)
  3. बिलग्राम (1540ई.)
  4. सरहिन्द का युद्ध (1555 ई.)
  • 1 जनवरी 1556 ई. को दीन पनाह भवन में स्थित पुस्तकालय की सीढ़ीयों से गिरने के करण की मृत्यु हो गई।
इतिहास की संपूर्ण तैयारी के लिए आप हमारे फ्री ई-बुक्स डाउनलोड कर सकते हैं।
Source: Wikipedia




शेरशाह सूरी (1540-1545ई.)
  • सूर साम्राज्य का संस्थापाक अफगान वंशीय शेरशाह सूरी था।
  • इसके बचपन का नाम फरीद खाँ था। यह सूर वंश से संबंधि था। 
  • इसके पिता हसन खाँ जौनपुर राज्य के अन्तर्गत सासाराम के जमींदार थे।
  • फरीद ने एक शेर को तलवार के एक ही बार से मार दिया था। उसकी इस बहादुरी से प्रसन्न होकर बिहार के अफगान शासक सुल्तान मोहम्मद बहार खाँ उसे शेर खाँ की उपाधि प्रदान की।
  • शेरशाह बिलग्राम युद्ध (1540ई.) के बाद दिल्ली की गद्दी पर बैठा।
  • शेरशाह ने भूमि की णाप के लिए 32 अंक वाला सिकन्दरी गज एंव सन की डंडी का प्रयोग किया।
  • कबूलियत एंव पट्टा प्रथा की शुरुआत शेरशाह ने की।
  • शेरशाह ने 1541 ई. में पाटलिपुत्र को पटना के नाम से पुनः स्थापित किया।
  • शेरशाह ने ग्रैंड ट्रक रोड की मरम्मत करवायी।
  • डाक प्रथा का प्रचालन शेरशाह के द्वारा किया गया।

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree