How To Calculate the ROI of Cloud Computing, क्लाउड कंप्यूटिंग के आरओआई की गणना कैसे करें

Safalta Experts Published by: Kanchan Pathak Updated Tue, 13 Sep 2022 11:21 PM IST

Highlights

क्लाउड कंप्यूटिंग की संभावित लागतों का निर्धारण थोडा पेचीदा मामला हो सकता है. इसके लिए आपको न सिर्फ क्लाउड प्रोवाइडर के विभिन्न प्राइस सीलिंग स्ट्रक्चर्स को देखना पड़ेगा बल्कि आपको उन रिसोर्सेज के अनुमान लगाने का एक उचित तरीका भी ढूँढना होगा जिनकी आपको भविष्य में आवश्यकता होगी.

इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता है कि आज बहुत से इंडस्ट्रीज में अधिकांश कंपनियों के लिए क्लाउड कंप्यूटिंग आवश्यक हो गई है. कोरोना महामारी ने बिजनस के परिदृश्य को पूरी तरह से बदल कर रख दिया है. क्लाउड कंप्यूटिंग की संभावित लागतों का निर्धारण थोडा पेचीदा मामला हो सकता है. इसके लिए आपको न सिर्फ क्लाउड प्रोवाइडर के विभिन्न प्राइस सीलिंग स्ट्रक्चर्स को देखना पड़ेगा बल्कि आपको उन रिसोर्सेज के अनुमान लगाने का एक उचित तरीका भी ढूँढना होगा जिनकी आपको भविष्य में आवश्यकता होगी. सबसे बड़ी बात यह है कि आपकी सर्वश्रेष्ठ कोशिशों के बाद भी इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि आपकी गणना सही हीं होगी. और इसकी वजह है क्लाउड का गतिशील (डायनामिक) आर्किटेक्चर मूल्य.  अगर आप प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं और विशेषज्ञ मार्गदर्शन की तलाश कर रहे हैं, तो आप हमारे जनरल अवेयरनेस ई बुक डाउनलोड कर सकते हैं  FREE GK EBook- Download Now. / GK Capsule Free pdf - Download here
September Month Current Affairs Magazine DOWNLOAD NOW 
 

क्या होती है क्लाउड आरओआई (ROI) ?

क्लाउड आरओआई (ROI) यानि कि क्लाउड रीटर्न ऑन इन्वेस्टमेंट आपके निवेश पर लाभ को कैलकुलेट करने का एक माप है.

Source: Safalta.com

मतलब यह कि आपने क्लाउड टेक्नोलॉजी में जो इन्वेस्टमेंट की है उस में से आप कितना प्रॉफिट वापस कमाते हैं या फिर अपना कितना पैसा और समय आप बचा पाते हैं.
 

Cloud Computing Career Opportunities, क्लाउड कंप्यूटिंग के फील्ड में करियर के अवसर

How to Build a Career in Cloud Computing क्लाउड कंप्यूटिंग में करियर कैसे बनाएँ जानें यहाँ

Salary Package in Cloud Computing, क्लाउड कंप्यूटिंग के क्षेत्र में कितनी मिलती है सैलरी जानिये यहाँ

 

कॉस्ट कैलकुलेशन 

अपना समय और पैसा बचाने या फिर आप इन्वेस्टमेंट से ज्यादा प्रॉफिट कमाएँ यानि कि आपकी आरओआई (ROI) का आंकड़ा अच्छा हो इसके लिए यह जरूरी है कि आप अपने फिक्स्ड कॉस्ट्स को वेरिएबल कॉस्ट्स में बदलें. इन्फ्रास्ट्रक्चर, हार्डवेयर, सॉफ्टवेयर, ऑफिस इक्विपमेंट्स इत्यादि मिलकर फिक्स्ड कॉस्ट्स के एक मेजर हिस्से का निर्माण करते हैं. इस फील्ड में काम करने के लिए अपना खुद का इंफ्रास्ट्रक्चर रखने से बेहतर है कि आप किसी होस्ट इंफ्रास्ट्रक्चर के साथ हीं कंटिन्यू करें. इससे आपका आरओआई (ROI) यानि कि रीटर्न ऑन इन्वेस्टमेंट बढेगा क्योंकि क्लाउड कंप्यूटिंग सेक्टर में पे-एज-यू-गो (Pay-As-You-Go) मॉडल का इस्तेमाल होने के कारण केवल उन संसाधनों का मूल्य चुकाना होता है जिनका वास्तव में आपके द्वारा इस्तेमाल हो रहा है. 
इसके अलावा इलेक्ट्रिसिटी के बिल इत्यादि के खर्चों को भी कंसीडर करना होता है. भविष्य की अनुमानित गणना करने का एक बढ़िया तरीका यह हो सकता है कि आप यह देखें कि आपने विगत पास्ट में इसका क्या उपयोग किया है. उदाहरण स्वरुप अगर आप अपने पिछले वर्षों या महीनों के बिजली के बिलों को देखते हैं तो काफी सरलता से इस बात का अनुमान लगा सकते हैं कि अगले कुछ महीनों या वर्षों में आपके खर्च क्या होंगे.
 
Attempt Free Mock Test - Click here
Attempt Free Daily General Awareness Quiz - Click here
Attempt Free Daily Quantitative Aptitude Quiz - Click here
Attempt Free Daily Reasoning Quiz - Click here
Attempt Free Daily General English Quiz - Click here
Attempt Free Daily Current Affair Quiz - Click here
 

कैसे कैलकुलेट करें आरओआई (ROI)

क्लाउड कंप्यूटिंग के सक्सेसफुल उपयोग को हमेशा आंकड़ों में हीं व्यक्त नहीं किया जा सकता है.

Free Demo Classes

Register here for Free Demo Classes

Please fill the name
Please enter only 10 digit mobile number
Please select course
Please fill the email
इसलिए, क्लाउड कंप्यूटिंग के आरओआई (ROI) को सफलतापूर्वक निर्धारित करने के लिए आपको अन्य फैक्टर्स पर भी ध्यान देना होगा. कुछ अन्य महत्वपूर्ण मैट्रिक्स जिन पर आपको ध्यान देना चाहिए, वो हैं :
  • एम्प्लोयी या यूज़र सैटिसफैक्शन
  • सिक्यूरिटी इम्प्रूवमेंट 
  • नई सर्विसेज का आसान और फ्लेक्सिबल इंटीग्रेशन 
  • डायनामिक उपयोग 
  • मेन्टेनेन्स टाइम पर कम समय खर्च होना 
क्लाउड कंप्यूटिंग पर हुए अपने एक्स्पेंडिचर, इन्वेस्टमेंट, सेविंग्स और प्रॉफिट के आंकड़ों की गणना के अलावा इन सभी मैट्रिक्स को ध्यान में रखते हुए आप बड़े हीं आराम से अपना आरओआई (ROI) कैलकुलेट कर सकते हैं. 
 

Free E Books