प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने करी 26 दिसंबर को वीर बाल दिवस के रूप में मनाने की घोषणा

Safalta Experts Published by: Abhivardhan Bajpayee Updated Mon, 10 Jan 2022 04:41 AM IST

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने 9 जनवरी 2022 को श्री गुरु गोविंद सिंह के प्रकाश पर्व के शुभ अवसर पर घोषणा की, कि इस वर्ष से 26 दिसंबर को वीर बाल दिवस के रूप में मनाया जाएगा। इसी दिन (26 दिसंबर) गुरु गोविंद सिंह के दो पुत्र साहिबजादे जोरावर सिंह और फतेह सिंह ने अपना धर्म त्याग कर इस्लाम धर्म कबूल करने से मना कर दिया था और जिसकी सजा के तौर पर उन्हें दीवार में जिंदा चुनवा दिया गया था ।

यह भी पढ़ें- कब और क्यों मनाते हैं प्रवासी भारतीय दिवस ?

गुरु गोविंद सिंह का जन्म 1666 में वर्तमान पटना में हुआ था | उनकी माता का नाम माता गुजरी था | वह दसवें सिख गुरु थे | उन्होंने ही खालसा पंथ की स्थापना की थी। उन्होंने खालसा भक्त की आस्था का आधार कहे जाने वाले पाँच ककार अर्थात "क" शब्द से नाम प्रारंभ होने वाली 5 वस्तुएं निर्धारित करी थी, जो हैं-
  • केश- बिना कटे बाल
  • कंघा- एक लकड़ी की कंघी
  • कड़ा- कलाई पर पहना जाने वाला लोहे या स्टील का ब्रेसलेट
  • कृपाण- एक तलवार
  • कच्छा- कछैरा


यह भी पढ़ें- क्या हैं T20 अंतरराष्ट्रीय मुकाबलों के लिए आईसीसी के नए नियम
पूछें Safalta के Verified Experts से अपने कठिन से कठिन Doubts- यहाँ 

चार साहिबजादें-
दसवें सिख गुरु, गुरु गोबिंद सिंह के चार पुत्र। उनके नाम थे-

  • साहिबज़ादा अजीत सिंह (1687 - 1705),
  • साहिबजादा जुझार सिंह (1691 - 1705),
  • साहिबजादा जोरावर सिंह (1696-1705), 
  • साहिबजादा फतेह सिंह (1699-1705)

Free E Books