न्यायमूर्ति आयशा मलिक होंगी पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट की पहली महिला न्यायाधीश

Safalta Experts Published by: Abhivardhan Bajpayee Updated Fri, 07 Jan 2022 11:45 PM IST

लाहौर उच्च न्यायालय की न्यायाधीश आयशा मलिक पाकिस्तान के उच्चतम न्यायालय की पहली महिला न्यायाधीश बन सकती हैं। उल्लेखनीय है कि एक उच्चाधिकार समिति द्वारा उनकी पदोन्नति को मंजूरी दे दी गई है। इस प्रकार आयशा  मलिक उच्चतम न्यायालय की पहली महिला न्यायाधीश बनना लगभग तय हो गया है। ध्यातव्य है कि प्रधान न्यायाधीश गुलजार अहमद की अध्यक्षता में पाकिस्तान के न्यायिक आयोग (जेसीपी) ने न्यायमूर्ति मलिक की पदोन्नति को चार के मुकाबले पांच मतों के बहुमत से स्वीकृति दी है। जेसीपी द्वारा मंजूरी के बाद उनके नाम पर संसदीय समिति द्वारा विचार किया जाएगा जो अमूमन जेसीपी की सिफारिश के खिलाफ नहीं जाती है।

यह भी पढ़ें- हिमाचल प्रदेश बना देश का पहला धुआं मुक्त राज्य
To Read more Daily Current Affairs- Click Here


यह दूसरी बार है जब जेसीपी ने न्यायमूर्ति मलिक की पदोन्नति पर फैसला करने के लिए बैठक की।

Free Demo Classes

Register here for Free Demo Classes

Please fill the name
Please enter only 10 digit mobile number
Please select course
Please fill the email
Something went wrong!
Download App & Start Learning

Source: livelaw

न्यायमूर्ति आयशा मलिक का नाम पहली बार पिछले वर्ष 9 सितंबर को जेसीपी के सामने आया था। उस समय उच्च न्यायालय के न्यायाधीशों में मलिक के वरिष्ठता क्रम को लेकर उनकी उच्चतम न्यायालय में पदोन्नति का विरोध हुआ था ।

Safalta के Verified Experts से अपने कठिन से कठिन Doubts- यहाँ पूछें

महत्वपूर्ण तथ्य
पाकिस्तान
  • राजधानी - इस्लामाबाद
  • प्रधानमंत्री -  इमरान खान
  • राष्ट्रपति  - आरिफ अल्वी
  • सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश - गुलजार अहमद
  • राजकीय मुद्रा - पाकिस्तानी रुपया

Free E Books