प्रसिद्ध सामाजिक कार्यकर्ता सिंधुताई सपकाल का निधन

Safalta Experts Published by: Abhivardhan Bajpayee Updated Wed, 05 Jan 2022 08:56 PM IST

प्रसिद्ध सामाजिक कार्यकर्ता और पद्मश्री अवार्ड से सम्मानित की जा चुकीं सिंधुताई सपकाल का 4 जनवरी 2022 को 74 वर्ष की आयु में निधन हो गया। वह लम्बे समय से बीमार चल रहीं थीं और दिल का दौरा पड़ने की वजह से उनका निधन हो गया। उल्लेखनीय है कि सिंधुताई को महाराष्ट्र की 'मदर टेरेसा' कहा जाता है। उन्होंने अपना संपूर्ण जीवन अनाथ बच्चों की सेवा में गुजार दिया और लगभग 1400 अनाथ बच्चों को गोद लिया  था। ध्यातव्य है कि सिंधुताई को बच्चों की सेवा के लिए प्रतिष्ठित पद्मश्री समेत कई अन्य पुरस्कारों से भी सम्मानित किया गया।

UP Lekhpal Exam 2022: पीईटी परीक्षा में कितना परसेंटाइल स्कोर करने वाले दे सकेंगे लेखपाल परीक्षा, देखिए यहां

सिंधु ताई-

सिंधु ताई का संबंध महाराष्ट्र के वर्धा जिले के चरवाहे परिवार से  है।

Source: सोशल मीडिया

उनका बचपन अत्यंत कष्टप्रद बीता। जब सिंधुताई नौ साल की थीं तो उनकी शादी अधिक उम्र के व्यक्ति से कर दी गई थी। सिंधु ताई को न तो ससुराल और न ही मायके में रहने के लिए जगह मिली।

Free Demo Classes

Register here for Free Demo Classes

Please fill the name
Please enter only 10 digit mobile number
Please select course
Please fill the email
Something went wrong!
Download App & Start Learning
वह जब गर्भवती थीं तो ससुराल वालों ने उन्हें घर से निकाल दिया और इतना ही नहीं उनके मायके वालों ने भी अपने यहां रखने से मना कर दिया। बाद में उन्होंने अनाथ बच्चों के रहने और खाने की जिम्मेदारी उठाने का निर्णय लिया और इस काम में लग गई। उन्हें इस मानवतावादी कार्य के लिए अब तक 700 से ज्यादा सम्मानों से सम्मानित किया जा चुका है। वर्ष 2021 में सिंधुताई को भारत सरकार द्वारा पदम श्री सम्मान से सम्मानित किया गया। उन्हें डी वाई इंस्टिटूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड रिसर्च पुणे की तरफ से डॉक्टरेट की उपाधि भी मिल चुकी है। सिंधुताई के जीवन पर मराठी फिल्म मी सिंधुताई सपकल बनी है जो वर्ष 2010 में रिलीज हुई थी। इस फिल्म को 54वें लंदन फिल्म फेस्टिवल में भी प्रदर्शित किया जा चुका है।

जानिये क्या है आयुष मंत्रालय का आयुष आहार पायलट प्रोजेक्ट?

महाराष्ट्र

  • राजधानी - मुंबई
  • मुख्यमंत्री -  उद्धव ठाकरे
  • राज्यपाल - भगत सिंह कोश्यारी
  • गठन - 1 मई 1960

Free E Books