user image

Ishika Daksh

Ssc & Railways
General Awareness
1 year ago

kolin makenji ne vijay nagar ki khoj kab ki?

user image

Dileep Vishwakarma

1 year ago

हम्पी के खंडहरों को 1800 में कर्नल कॉलिन मैकेंज़ी नामक एक इंजीनियर और पुरातात्त्विक द्वारा प्रकाश में लाया गया था। अंग्रेजी ईस्ट इंडिया कंपनी के एक कर्मचारी, उन्होंने साइट का पहला सर्वेक्षण नक्शा तैयार किया। उन्हें प्राप्त हुई अधिकांश प्रारंभिक जानकारी विरुपाक्ष मंदिर और पंपदेवी के मंदिर के पुजारियों की यादों पर आधारित थी। इसके बाद, 1856 से, फोटोग्राफरों ने स्मारकों को रिकॉर्ड करना शुरू कर दिया, जिससे विद्वानों को उनका अध्ययन करने में मदद मिली। 1836 की शुरुआत में ही पुरालेखविदों ने इस और हम्पी के अन्य मंदिरों में पाए गए कई दर्जन शिलालेखों को एकत्र करना शुरू कर दिया था। कॉलिन मैकेंज़ी को 1815 में भारत के पहले सर्वेयर जनरल के रूप में नियुक्त किया गया था।

Recent Doubts

Close [x]