Ages and Stages of Child Development

Safalta Experts Published by: Blog Safalta Updated Mon, 06 Sep 2021 03:31 PM IST

विकास के अवस्थाएं [Stages of Child Development]
 

विकास वह जटिल प्रक्रिया है जिसके परिणामस्वरूप बालक या व्यक्ति में अंतर्निहित शक्तियां एवं गुण प्रस्फुटित होते है। किशोरावस्था तनाव व तूफानों की अवस्था है। इसमें अर्जित ज्ञान और उसके प्रयोग की सामर्थ्य शिखर पर होती है। लॉवटन (Lawton) ने विकास की अवस्थाओं के संबंध में कहा है, कि हमारे जीवन का विस्तार अनेक अंशों में विभक्त है और प्रत्येक अंश के समायोजन की समस्या है। जीवन भर व्यक्ति अपनी समस्याओं को हल करने की विधियां तथा प्रविधि का अविष्कार करता है।

Source: slideshare

इनमें कुछ विधियां उपयोगी होती है तो कुछ अनुपयोगी। ये एक अंश से दूसरे अंश पर आरोपित भी की जा सकती है और नहीं भी की जा सकती है।" इस कथन से यह स्पष्ट है कि विकास की प्रक्रिया तो एक है किंतु उसका विभाजन अनेक अवस्थाओं में है। व्यक्ति का विकास अनेक चरणों में पूरा होता है।

Free Demo Classes

Register here for Free Demo Classes

Please fill the name
Please enter only 10 digit mobile number
Please select course
Please fill the email
विद्वानों में विकास की प्रक्रिया को लेकर अनेक मतभेद भी है। हम यहां पर कुछ विद्वानों द्वारा किए गए विकास की अवस्थाओं का वर्गीकरण प्रस्तुत कर रहे है।इसके साथ ही CTET परीक्षा की तैयारी के लिए आप सफलता के CTET Champion Batch से जुड़ सकते है - Subscribe Now , जहाँ 60 दिनों के तैयारी और एक्सपर्ट्स गाइडेंस से आप सेना में अफसर बन सकते हैं। 

 
Current Affairs Ebook Free PDF: डाउनलोड  करें General Knowledge Ebook Free PDF: डाउनलोड करें

1.) लेले ने विकास का वर्गीकरण इस प्रकार किया है -

1) शैशव    1 से 5 वर्ष तक
2) बाल्यावस्था   5 से 12 वर्ष तक
3) किशोरावस्था  12 से 18 वर्ष तक

 
(2) रॉस ने अपने ढंग से विकास की अवस्थाएं इस प्रकार बताए हैं

1) शैशव 1 से 3 वर्ष तक
2) आरंभिक काल 3 से 6 वर्ष तक
3) उतर बाल्यकाल 6 से 12 वर्ष तक
4) किशोरावस्था   12 से 18 वर्ष तक


(3) कालसनिक ने विकास प्रक्रिया का वर्गीकरण निम्नलिखित किया है

1) गर्भाधान से जन्म तक पूर्व जन्मकाल
2) नव शैशव                  जन्म से 3 या 4 सप्ताह तक
3) आरंभिक शैशव 1 या 2 से 15 मास तक
4) उत्तर शैशव             15 से 30 मास तक
5) पूर्व बाल्यकाल            30 से 5 वर्ष तक
6) मध्य बाल्यकाल           9 से 12 वर्ष तक
7) किशोरावस्था                  12 से 18 वर्ष तक

सामान्यतः विकास प्रक्रिया का वर्गीकरण निम्नलिखित छः भागों में किया गया है -:
 
1) नव शैशव (New Born)   जन्म से 4 सप्ताह तक
2) आरंभिक शैशव ( Infant )     4 सप्ताह से 1 वर्ष तक
3)  उत्तर शैशव (Toddler)    1 से 3 वर्ष तक
4)  पूर्व बाल्यकाल(Preschooler)    4 से 6 वर्ष तक
5)  बाल्यकाल (School Age Child) 6 से 13 वर्ष तक
6)  किशोरावस्था (Adolescent)   13 से 19 वर्ष तक

Safalta App पर फ्री मॉक-टेस्ट Join Now  के साथ किसी भी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करें।
 

Free E Books