Download Safalta App
for better learning

Download
Safalta App

X

तुगलक वंश का इतिहासः Delhi Sultanate Tughlaq dynasty

Safalta Experts Published by: Blog Safalta Updated Tue, 17 Aug 2021 04:05 PM IST


दिल्ली सल्तनतः तुगलक वंश का इतिहास 


तुगलक वंश (1320-1414 ई.)

  • गयासुद्दीन तुगलक (गाजी मलिक, 1320-25 ई.) यह दीपालपुर का सूबेदार था जिसने 5 सितंबर, 1320-25 ई.) को अंतिम खिलजी शासक खुसरव  शाह को पराजित कर तुगलक वंश की नींव डाली एंव 8 सितंबर, 1320 ई. को गयासुद्दीन तुगलक शाह के नाम से गद्दी पर बैठा। 
  •  गयासुद्दीन तुगलक का पिता एक करौना तुर्क था तथा माता पंजाब के जाट की पुत्री थी।
  • गयासुद्दीन तुगलक ने लगभाग 29 बार मंगौलों के आक्रमण विफल किया।
  • गयासुद्दीन तुगलक ने गाज़ी या काफिरों का घातक की उपाधि धारण की थी।
  • गयासुद्दीन ने आर्थिक नीति का आधार संयम (रस्म-ए-मियान) को बनाया और लगान के रूप में कर 1/10 या 1/12 भाग वसूल किया।
  • गयासुद्दीन नहरों का निर्माण करने वाला पहला सुल्तान था।
  • गयासुद्दीन ने अलाउद्दीन के समय में लिए गए अमीरों को भूमि को पुनः लौटा दिया।
  • गयासुद्दीन तुगलक ने दिल्ली के समीप स्थिति पहाड़ियों पर तुगलकाबाद नाम का एक नया नगर स्थापित किया। रोमन शैली में निर्मित इस नगर में एक दुर्ग का निर्माण भी हुआ। इस दुर्ग को छप्पनकोट के नाम से भी जाना जाता है।
इतिहास की संपूर्ण तैयारी के लिए आप हमारे फ्री ई-बुक्स डाउनलोड कर सकते हैं।

                       तुगलक वंश के शासक

शासक काल
गयासुद्दीन तुगलक 1320-25 ई.
मुहम्मद बिन तुगलक 1325-51 ई.
फिरोजशाह तुगलक 1351-88 ई.
गयासुद्दीन तुगलक शाह (गयासुद्दीन तुगलक-2) 1388-89 ई.
अबुबक्र 1389-1390ई.
शाहजादा मुहम्मद 1390-1394ई.
अलाउद्दीन सिकन्दर शाह (हुमायूँ) 1394-1398ई.
नासिरुद्दीन महमूद  1398-1412ई.
  • गयासुद्दीन तुगलक की मृत्यु 1325ई. में बंगाल के अभियान से लौटते समय जूना खाँ द्वारा लाकड़ी के महल में दबकर हो गयी।
  • गयासुद्दीन तुगलक के बाद जूना खाँ मुहम्मद बिन तुगलक के नाम से दिल्ली के सिन्हासन पर बैठा।
  • अफ्रीकी यात्री इब्नबतूता लगभग 1333ई.  में भारत आया सुल्तान ने इसे दिल्ली का काजी नियुक्त किया। 1342 ई.में सुल्तान ने अपने राजदूत के रूप में चिन भेजा।
  • इब्नबतूता की पुस्तक रेहला में मुहम्मद बिन तुगलक के समय की घाटनओं का वर्णन है।
  • मुहम्मद बिन तुगलक की मृत्यु 20 मार्च 1351ई. को सिन्ध जाते समय थट्टा के निकट गोडाल में हो गई। 
  • मुहम्मद बिन तुगलक शेख अलाउद्दीन का शिष्य था, जो अजमेर में शेख मुइनुद्दीन  चिश्ती की दरगाह और बहराइच में सालार मसूद गाज़ी के मकबरे में गया।
  • फिरोज तुगलक ने 300 नगरों की स्थापना की। इसमें हिसार, फिरोजाबाद, फतेहाबाद, जौनपुर, फिरोजपुर प्रमुख है।
  • 1398 ई. में मंगोल अक्ररमणकारी तैमूरलंग ने महमूद तुगलक के काल में भारत पर आक्रमण किया।
Source: jagran


Recent Blog

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree