History of Indian Railways: जाने कैसा रहा है भारतीय रेलवे का इतिहास

Safalta Experts Published by: Kanchan Pathak Updated Tue, 21 Jun 2022 10:52 AM IST

Highlights

भारतीय रेलवे दुनिया का चौथा सबसे बड़ा नेटवर्क है, जो पूरे देश में 1.2 लाख किलोमीटर से भी अधिक स्थानों पर फैला हुआ है. आइये जानते हैं भारत में रेल के पूरे इतिहास के बारे में.  

भारतीय रेलवे का इतिहास - ऐसा कौन होगा जिसने रेल की रोमांचक यात्रा न की हो ? पर क्या आप भारत में रेल का पूरा इतिहास जानते हैं ? भारतीय रेलवे दुनिया का चौथा सबसे बड़ा नेटवर्क है, जो पूरे देश में 1.2 लाख किलोमीटर से भी अधिक स्थानों पर फैला हुआ है. भारतीय रेलवे द्वारा मुख्य रूप से तीन प्रकार की सेवाएं जनता को प्रदान की जाती हैं जिनमें एक्सप्रेस ट्रेन, मेल एक्सप्रेस और पैसेंजर ट्रेनें शामिल हैं. अगर किराए की बात करें तो पैसेंजर ट्रेनों का किराया सबसे कम और मेल एक्सप्रेस ट्रेनों का किराया सबसे ज्यादा होता है. दूसरी ओर, एक्सप्रेस ट्रेनों का किराया बीच बीच का होता है. अगर आप प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं और विशेषज्ञ मार्गदर्शन की तलाश कर रहे हैं, तो आप हमारे जनरल अवेयरनेस ई बुक डाउनलोड कर सकते हैं  FREE GK EBook- Download Now. 
Half Yearly Current Affair 2022 (Hindi) DOWNLOAD NOW
GK Capsule Free pdf - Download here
President of India From 1950 to 2022

Source: Safalta

Free Demo Classes

Register here for Free Demo Classes

Please fill the name
Please enter only 10 digit mobile number
Please select course
Please fill the email

ब्रिटिश भारत में पहली बार सन 1832 में, एक रेलवे प्रणाली स्थापित करने का विचार प्रस्तावित किया गया था. उस समय, ब्रिटेन में रेल यात्रा अपनी प्रारंभिक अवस्था में था, लेकिन ईस्ट इंडिया कंपनी एक व्यापक रेल नेटवर्क विकसित करने के लाभों को अच्छी तरह से जानती थी. एक लंबे दशक की निष्क्रियता के बाद, 1844 में भारत के गवर्नर-जनरल लॉर्ड हार्डिंग द्वारा निजी उद्यमियों को एक रेल प्रणाली स्थापित करने की अनुमति दी गई. वर्ष 1845 तक दो कंपनियों का गठन किया गया था, जिसका नाम "ईस्ट इंडियन रेलवे कंपनी" और "ग्रेट इंडियन पेनिनसुला" रेलवे था.
16 अप्रैल 1853 को, भारत में पहली ट्रेन बोरी बंदर, बॉम्बे या मुंबई और ठाणे के बीच लगभग 34 किमी की दूरी पर चली थी. वर्ष 1880 में बॉम्बे, मद्रास और कलकत्ता के तीन प्रमुख बंदरगाह शहरों के आसपास लगभग 14,500 किलोमीटर का रेलवे नेटवर्क विकसित किया गया था. 1901 में, वाणिज्य और उद्योग विभाग के मार्गदर्शन में रेलवे बोर्ड का गठन किया गया. आइए डालते हैं भारत में रेलवे के विकास के कालक्रम पर एक नज़र -

भारत में रेलवे का इतिहास 

औद्योगिक रेलवे (1832 -1852)
  • सन 1832 में भारत में रेलवे का प्रस्ताव सबसे पहले मद्रास में दिया गया था. लेकिन तब यह सपना कागजों पर ही रह गया था.
  • सन 1835-36 में मद्रास के निकट चिंताद्रिपेट में एक प्रायोगिक रेलवे लाइन जो छोटी थी, का निर्माण किया गया जो बाद में रेड हिल रेलमार्ग बन गया.
  • सन 1873 में रेड हिल रेलवे नाम की देश की पहली ट्रेन रेड हिल्स से मद्रास के चिंताद्रिपेट ब्रिज तक चली थी. इसे एक रोटरी स्टीम लोकोमोटिव इंजन द्वारा खींचा गया था. इसका इंजन इंजीनियर विलियम एवरी और इंजीनियर आर्थर कॉटन द्वारा निर्मित किया गया था. तब रेलवे का उपयोग मुख्य रूप से ग्रेनाइट पत्थर के परिवहन के लिए किया जाता था.
  • सन 1840 के दशक में भारत में रेलवे के लिए कई प्रस्ताव पास हुए मुख्य रूप से कलकत्ता (ईआईआर) और बॉम्बे (जीआईपीआर) के आसपास.
  • सन 1844 में आर मैकडोनाल्ड स्टीफेंसन की रिपोर्ट प्रकाशित हुई - "ब्रिटिश भारत में रेलवे के परिचय की व्यावहारिकता और लाभ पर रिपोर्ट."
  • सन 1845 में राजमुंदरी के पास गोदावरी बांध निर्माण रेलवे राजमुंदरी के दोलेश्वरम में बनाया गया था. इसे भी आर्थर कॉटन ने बनवाया था.
  • 8 मई सन 1845 में मद्रास रेलवे को शामिल किया गया था, उसके बाद उस वर्ष ईस्ट इंडिया रेलवे को शामिल किया गया था.
  • 1 अगस्त सन 1849 को ग्रेट इंडियन पेनिन्सुलर रेलवे (GIPR) को संसद के एक अधिनियम द्वारा शामिल किया गया था.
  • 17 अगस्त सन 1849 को "गारंटी प्रणाली" को नि:शुल्क भूमि प्रदान करने के लिए अंतिम रूप दिया गया था और निजी ब्रिटिश कंपनियों को वापसी की गारंटी पांच प्रतिशत की दर से दी गई थी, जो रेलवे का निर्माण करने के इच्छुक थे.
  • सन 1851 में लोकोमोटिव थॉमसन का उपयोग रुड़की में निर्माण कार्य के लिए किया गया था जो 22 दिसंबर को शुरू हुआ.
  • सन 1852 में मद्रास गारंटीड रेलवे कंपनी का गठन किया गया था.

यह आर्टिकल भी पढ़ें 

बाबरी मस्जिद की समयरेखा- बनने से लेकर विध्वंस तक, राम जन्मभूमि के बारे में सब कुछ
जाने क्या था खिलाफ़त आन्दोलन – कारण और परिणाम
2021 का ग्रेट रेसिग्नेशन क्या है और ऐसा क्यों हुआ, कारण और परिणाम
जानिए मराठा प्रशासन के बारे में पूरी जानकारी
क्या आप जानते हैं 1857 के विद्रोह विद्रोह की शुरुआत कैसे हुई थी
भारत में पुर्तगाली शक्ति का उदय और उनके विनाश का कारण
मुस्लिम लीग की स्थापना के पीछे का इतिहास एवं इसके उदेश्य
भारत में डचों के उदय का इतिहास और उनके पतन के मुख्य कारण

भारत में यात्री रेल का परिचय और विस्तार (1853-1924) 

  • 16 अप्रैल सन 1853 को, भारत में पहली ट्रेन बॉम्बे (अब मुंबई) से ठाणे के लिए रवाना हुई. इसे लॉर्ड डलहौजी ने समर्पित किया था. ट्रेन में 14 गाड़ियां होती हैं और इसे तीन स्टीम लोकोमोटिव इंजनों साहिब, सिंध और सुल्तान द्वारा खींचा जाता था. इसने लगभग 34 किमी की यात्रा की और लगभग 400 लोगों में इसमें सफ़र किया. रेलवे यात्री लाइन का निर्माण और संचालन जीआईपीआर द्वारा किया गया था.
  • उसी समय मद्रास रेलवे को भी शामिल किया गया और मद्रास-आर्कोट लाइन पर काम शुरू हुआ.
  • सन 1854 में पूर्वी खंड में पहली यात्री ट्रेन हावड़ा से हुगली (24 मील) तक संचालित की गई थी. इस रेलवे लाइन का निर्माण और प्रबंधन ईस्ट इंडियन रेलवे कंपनी (EIR) के द्वारा किया गया था.
  • सन 1854 के मई तक, जीआईपीआर बॉम्बे-ठाणे लाइन को कल्याण तक बढ़ा दिया गया और यह एक डबल-ट्रैक लाइन बन गई. इसका उद्घाटन लॉर्ड एलफिंस्टन ने किया था. इसके अलावा, जीआईपीआर ने भायखला में अपनी पहली कार्यशाला खोली.
  • सन 1855 में बीबी एंड सीआई रेलवे को शामिल किया गया और सूरत-बड़ौदा लाइन पर काम शुरू किया गया. ठाणे-कल्याण लाइन का विस्तार उत्तर-पूर्व में वासिंद तक भी किया गया. इसके अलावा, उसी वर्ष, अगस्त में, ईआईआर एक्सप्रेस और फेयरी क्वीन स्टीम लोकोमोटिव लॉन्च किए गए.
  • मई सन 1856 में, मद्रास रेलवे कंपनी द्वारा रॉयपुरम-वलजाह रेल लाइन का निर्माण किया गया था.
  • दक्षिण में पहली ट्रेन सेवा 1 जुलाई को मद्रास रेलवे कंपनी द्वारा रॉयपुरम/व्यासरपडी (मद्रास) से वालजाह रोड (आर्कोट) तक के लिए शुरू हुई.
  • बाद में सिंध, पंजाब और दिल्ली रेलवे का गठन किया गया था जो एक गारंटीकृत रेलवे था.
  • मद्रास रेलवे की पहली कार्यशाला भी उसी वर्ष मद्रास के पास पेरंबूर में खोली गई थी.
  • सन 1858 में ईस्टर्न बंगाल रेलवे और ग्रेट सदर्न ऑफ इंडिया का गठन किया गया.
  • सन 1859 में उत्तर में पहली ट्रेन 3 मार्च को इलाहाबाद से कानपुर के लिए संचालित की गई थी.
  • इसी वर्ष पूर्वी बंगाल रेलवे ने भी कलकत्ता-कुश्तिया लाइन पर निर्माण शुरू किया.
  • तथा इसी वर्ष कलकत्ता और दक्षिण-पूर्वी रेलवे का गठन सरकार से 5% गारंटी के साथ किया गया था.
  • सन 1855-1870 में विभिन्न रेलवे लाइन कंपनियों को शामिल किया गया. जैसे -
  • सन 1860 में जीआईपीआर द्वारा स्थापित भुसावल स्टेशन.
  • वसिंद-आसनगांव लाइन खोली गई.
  • 8 फरवरी 1862 को जमालपुर लोको वर्क्स की स्थापना हुई.
  • इसी साल 20 साल की सब्सिडी के साथ मद्रास के आसपास छोटी लाइनें बनाने के लिए भारतीय ट्रामवे कंपनी का गठन किया गया.
  • टू-टियर सीटिंग को थर्ड क्लास (ईआईआर, जीआईपीआर, आदि पर) में पेश किया गया है. यह भीड़भाड़ को कम करने का एक उपाय था.
  • मद्रास रेलवे लाइन को रेनीगुंटा तक बढ़ा दिया गया.
  • जीएसआईआर की नागपट्टनम-त्रिचिनोलोपी लाइन को यातायात के लिए खोल दिया गया.
Government Scholarship in UP Government Scholarships in Bihar
Government Scholarship in Rajasthan Government scholarship in MP
 
           सन 1863 में -
  • सन 1863 में 14 मई को, भोरे घाट से पुणे तक बॉम्बे से जीआईपीआर लाइन का निर्माण किया गया.
  • बीबी एंड सीआई रेलवे ने सूरत-बड़ौदा-अहमदाबाद लाइन को पूरा किया.
  • भारत में पहली लग्जरी गाड़ी बॉम्बे के गवर्नर के लिए बनाई गई.

    सन 1864 में -
  • 1 अगस्त को दिल्ली में पहली ट्रेन, दिल्ली और कलकत्ता के बीच चली.
  • इसके अलावा, इलाहाबाद में नदी के उस पार नावों पर कोच लगाए गए.
  • बीबी और सीआई रेलवे ने बॉम्बे-सूरत लाइन को पूरा किया.
  • बंबई में घोड़ों द्वारा खींची जाने वाली ट्राम के लिए पहले प्रस्ताव बनाए गए.

    सन 1866 में -
  • केंद्रीय लोक निर्माण विभाग में रेलवे शाखा का गठन हुआ.

    सन 1870 में -
  • बीबीसीआई रेलवे अहमदाबाद और बॉम्बे के बीच सीधी ट्रेनें चलाईं गयी.
  • मुगलसराय-लाहौर मेन लाइन का काम पूरा हो गया.
  • ईआईआर पर ट्रेनों में मोबाइल डाकघर सेवाएं शुरू हुई.
  • 9 मई सन 1874 को, कोलाबा और परेल के बीच बंबई में एक घोड़े द्वारा खींचे गए ट्रामवे ने अपना संचालन शुरू किया.
  • सन 1880 में कलकत्ता में ट्रामवे कंपनी की स्थापना हुई.
  • सन 1897 में विभिन्न यात्री रेलवे कंपनियों ने यात्री कोचों में रोशनी की शुरुआत की.
  • सन 1902 में विद्युत प्रकाश व्यवस्था को मानक जुड़नार के रूप में पेश करने वाला पहला जोधपुर रेलवे विभाग बना.
  • सन 1920 में इलेक्ट्रिक सिग्नल लाइटिंग शुरू की गई. इसे बॉम्बे में करी रोड और दादर के बीच पेश किया गया था.

इलेक्ट्रिफिकेशन एंड एक्सपेंशन Electrification and Expansion (1925 - 1950)

सन 1925 में भारत में पहला रेल बजट पेश किया गया.

सन 1925 में -
  • 3 फरवरी को विक्टोरिया टर्मिनस से कुर्ला तक जीआईपीआर की हार्बर शाखा पर पहली इलेक्ट्रिक रेलवे संचालित हुई. इस खंड को उपनगरीय खंड के रूप में नामित किया गया था.
  • उसी वर्ष, वीटी-बांद्रा का विद्युतीकरण भी पूरा हुआ.
  • ईएमयू सेवाएं सैंडहर्स्ट रोड पर एक एलिवेटेड प्लेटफॉर्म के साथ शुरू हुईं.
  • बाद में जीआईपीआर उपनगरीय लाइन का कल्याण तक विद्युतीकरण किया गया.
  • लोकोमोटिव मानक समिति ने मानकों के रूप में विभिन्न आईआरएस लोको वर्गों को भी अपनाया.
सामान्य हिंदी ई-बुक -  फ्री  डाउनलोड करें  
पर्यावरण ई-बुक - फ्री  डाउनलोड करें  
खेल ई-बुक - फ्री  डाउनलोड करें  
साइंस ई-बुक -  फ्री  डाउनलोड करें  
अर्थव्यवस्था ई-बुक -  फ्री  डाउनलोड करें  
भारतीय इतिहास ई-बुक -  फ्री  डाउनलोड करें  

सन 1926 में -
  • कुर्ला-कल्याण खंड को 1,500 वी डीसी के साथ विद्युतीकृत किया गया.
  • मेन लाइन भोरे और थाल घाट (1500 वी डीसी) पर पूना और इगतपुरी तक विद्युतीकृत.
  • चारबाग रेलवे स्टेशन/लखनऊ रेलवे स्टेशन भी उसी वर्ष बनाया गया था.

सन 1927 में -
  • बीबी और सीआई उपनगरीय लाइनें बोरीवली और विरार तक फैलाई गयी.
  • मुंबई में मेन लाइन पर 8-कोच ईएमयू रेक और हार्बर-लाइन पर 4-कोच रेक पेश किए गए.

सन 1928 में -
  • जनवरी 1928 में, बांद्रा-विरार खंड को 1,500 वी डीसी के साथ विद्युतीकृत किया गया.
  • फ्रंटियर मेल ने भी बॉम्बे वीटी से पेशावर तक अपना पहला रनवे बनाया.
  • उसी वर्ष बॉम्बे वीटी और भायखला के बीच जीआईपीआर की तर्ज पर देश का पहला स्वचालित कलर-लाइट सिग्नल चालू हुआ.
  • कानपुर सेंट्रल और लखनऊ स्टेशन खोले गए.
  • ग्रैंड ट्रंक एक्सप्रेस उसी वर्ष पेशावर और मैंगलोर के बीच चलनी शुरू हुयी.
  • पंजाब लिमिटेड एक्सप्रेस मुंबई और लाहौर के बीच चली.
  • स्वचालित रंग-प्रकाश संकेतन को भायखला-कुर्ला खंड तक बढ़ा दिया गया.

सन 1930 में -
  • 1 जून को डेक्कन क्वीन ने दौड़ना शुरू किया. इसे WCP-1 (नंबर 20024, पुराना नंबर EA/1 4006) द्वारा खींचा गया था. जीआईपीआर का नया मार्ग विद्युतीकृत था और इसमें सात कोच थे.
  • कल्याण-पुणे सेक्शन पर इलेक्ट्रिक सेवाएं शुरू हो गई.
  • उसी वर्ष हैदराबाद गोदावरी वैली रेलवे निज़ाम को राज्य रेलवे में विलय कर दिया गया.
  • रेलवे के क्षेत्रों और विकासों का पुनर्गठन (1951-1983)-

सन 1951 में -
  • रेलवे को क्षेत्रीय क्षेत्रों में पुनर्गठित किया गया.
  • 14 अप्रैल को, दक्षिणी रेलवे क्षेत्र की स्थापना की गई.
  • मध्य और पश्चिम रेलवे जोन इसी साल नवंबर में बनाए गए. साथ ही, उसी वर्ष, पश्चिम बंगाल सरकार ने नवंबर में अपने प्रशासनिक कार्यों और संचालन को संभालने के लिए कलकत्ता ट्रामवेज कंपनी के साथ एक समझौता किया.

साल 1952 में -
  • 14 अप्रैल को एनआर, ईआर और एनईआर जोन बनाए गए.
  • NR पर मुकेरियां-पठानकोट लाइन को यातायात के लिए खोल दिया गया.
  • टेल्को ने वाईजी इंजनों का उत्पादन शुरू किया.

साल 1953 में -
  • हावड़ा-बंदेल-बर्दवान विद्युतीकरण का कार्य शुरू.
  • साथ ही, बांद्रा-अंधेरी मेनलाइन का विद्युतीकरण किया गया.

साल 1954 में -
  • 3000V डीसी इंजनों का EM/1 (बाद में WCM-1) वर्ग पेश किया गया.
  • अक्टूबर में, रेलवे बोर्ड का आयोजन किया गया और अध्यक्ष को सभी तकनीकी और नीतिगत मामलों के लिए जिम्मेदार बनाया गया.
  • तृतीय श्रेणी के डिब्बों में, सोने के व्यवस्था की शुरुआत की गई.
  • खंडवा-हिंगोली एमजी खंड को मंजूरी दी गई.
  • साल 1955 में 1 अगस्त को, दक्षिण-पूर्वी क्षेत्र को पूर्वी रेलवे क्षेत्र से अलग कर दिया गया.

साल 1956 में -
  • यात्रियों का किराया क्रमश: पहली, दूसरी और तीसरी श्रेणी के लिए 30 पैसे, 16 पैसे, 9 पैसे और 5 पैसे प्रति मील पर मानकीकृत किया गया.
  • कई क्षेत्रीय रेलवे के लिए प्रशासन की एक मंडल प्रणाली स्थापित की गई.
  • पूरी तरह से वातानुकूलित पहली ट्रेन हावड़ा और दिल्ली के बीच शुरू की गई.
  • इसी साल बाद में, दिल्ली और बॉम्बे सेंट्रल के बीच एक और पूरी तरह से वातानुकूलित ट्रेन शुरू की गई.

साल 1957 में -
  • IR के अनुसंधान, डिजाइन और मानक संगठन (RDSO) की स्थापना की गयी.
  • लोकोमोटिव के लिए अखिल भारतीय नंबरिंग योजना शुरू की गई.
  • एसएनएफसी को तकनीकी सलाहकार के रूप में चुनते हुए, भारतीय रेलवे द्वारा 25 केवी एसी विद्युतीकरण को अपनाने का निर्णय लिया गया.
  • साथ ही, उसी वर्ष, मेन लाइन विद्युतीकरण परियोजना की स्थापना की गई और बाद में यह रेलवे विद्युतीकरण परियोजना बन गई.
  • साल 1958 में 15 जनवरी को, उत्तर-पूर्वी रेलवे को एक नया पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे बनाने के लिए विभाजित किया गया.

साल 1959 में -
  • पहले खंड को राज खरस्वां-डोंगोपोसी से 25kV एसी ट्रैक्शन के साथ विद्युतीकृत किया गया.
  • पहला स्टीम लोको पूरी तरह से सीएलडब्ल्यू द्वारा डिजाइन और निर्मित किया गया.
  • परमानेंट वे ट्रेनिंग स्कूल की स्थापना की गई (बाद में इरिसेन बन गया).
  • सभी यात्री डिब्बों में, पंखे और रोशनी को शामिल किया गया.
  • साल 1960 में राज खरस्वां-डोंगोपोसी खंड पर 25kV एसी ट्रैक्शन का उपयोग करके पहली ट्रेन चलाई गई.

साल 1961 में -
  • CLW ने 1500 V DC इलेक्ट्रिक लोको का उत्पादन शुरू किया.
  • डीजल लोको वर्क्स (DLW), वाराणसी की स्थापना की गई.

साल 1962 में -
  • सिलीगुड़ी न्यू जलपाईगुड़ी से जुड़ा.
  • आईसीएफ ने स्व-चालित इकाइयों (ईएमयू) का उत्पादन शुरू किया जो शुरू में केवल ट्रेलर कोचों के लिए किया गया था.
  • दिल्ली की ट्रामों ने परिचालन बंद कर दिया.
  • जमालपुर की कार्यशालाओं में 'जमालपुर जैक' का उत्पादन शुरू
  • गोल्डन रॉक कार्यशालाओं ने वैगनों का निर्माण शुरू किया.

सन 1963 में -
  • सीएलडब्ल्यू ने 25 केवी एसी इलेक्ट्रिक लोको का उत्पादन शुरू किया.
  • 12 मार्च को, CLW ने अपना पहला WP-क्लास लोको भी बनाया.
  • मुंबई में सभी 8-कार रेक को 9-कार रेक में बदल दिया गया.

सन 1966 में -
  • पहली माल ढुलाई सेवा बॉम्बे और अहमदाबाद के बीच कंटेनरों के साथ शुरू की गई.
  • दिल्ली, मद्रास और कलकत्ता में विभिन्न उपनगरीय पटरियों के 25kV एसी के साथ विद्युतीकरण किया गया.
  • 1979 में मेन लाइन विद्युतीकरण परियोजना को रेलवे विद्युतीकरण (कोर) के लिए केंद्रीय संगठन में परिवर्तित किया गया.

सन 1984 में -
  • 24 अक्टूबर को, कलकत्ता मेट्रो भारत की पहली रैपिड-ट्रांजिट लाइन बनी.
  • भारत में पहली मेट्रो ट्रेन एस्प्लेनेड से कलकत्ता में भवानीपुर (वर्तमान में नेताजी भवन स्टेशन के रूप में जानी जाती है) तक चली.

सन 1986 में -
  • नई दिल्ली में, कम्प्यूटरीकृत टिकट और आरक्षण की शुरुआत की गई (पायलट परियोजना 1985 में शुरू हुई).
  • हावड़ा राजधानी एयर ब्रेक.

सन 1987 में -
  • बॉम्बे-दिल्ली पश्चिम रेलवे मार्ग पूरी तरह से विद्युतीकृत.
  • 25 जुलाई को श्रीरंगम में पहली सॉलिड-स्टेट इंटरलॉकिंग (एसएसआई) प्रणाली चालू.
  • कपूरथला में रेलवे कोच फैक्ट्री की स्थापना.
  • 7275 मार्ग-किमी पर विद्युतीकरण.

सन 1988 में -

भारत की सबसे तेज चलने वाली ट्रेन शताब्दी एक्सप्रेस को नई दिल्ली और झांसी के बीच शुरू किया गया.
1990 पहली सेल्फ-प्रिंटिंग टिकट मशीन (SPTM) नई दिल्ली में शुरू की गई थी।
1993 में तीन स्तरीय वातानुकूलित पृथक डिब्बे और एक शयनयान श्रेणी की शुरुआत की गई।
1995 16 जनवरी को, बीना-कटनी लाइन पर 2x 25kV कर्षण के साथ पहली नियमित रूप से निर्धारित सेवा शुरू हुई।

सन 1996 में -
  • 4 मार्च को विक्टोरिया टर्मिनस का नाम बदलकर छत्रपति शिवाजी टर्मिनस कर दिया गया.
  • सितंबर में, केंद्रीय मंत्रिमंडल ने दिल्ली मेट्रो के पहले चरण को मंजूरी दी.
  • कम्प्यूटरीकृत आरक्षण की कंसर्ट प्रणाली को नई दिल्ली, मुंबई और चेन्नई में आगे शुरू किया गया.
  • 1 फरवरी को, बॉम्बे-दिल्ली मार्ग का विद्युतीकरण किया गया.

सन 1999 में -
  • राष्ट्रीय स्तर पर, CONCERT प्रणाली अप्रैल में चालू हुई.
  • उसी वर्ष दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे क्षेत्र का भी गठन किया गया था और कुछ स्टेशनों पर टिकट और आरक्षण के लिए क्रेडिट कार्ड स्वीकार किए गए थे.

सन 2001 में -
  • पेट्रापोल-बेनापोल बीजी लिंक पर 25 साल के अंतराल के बाद जनवरी में भारत और बांग्लादेश के बीच माल ढुलाई सेवाओं को आधिकारिक रूप से फिर से शुरू किया गया.

सन 2013 में -
  • सितंबर में, टिकट की तत्काल या आपातकालीन प्रणाली को भारत में उपलब्ध सभी ट्रेनों तक बढ़ा दिया गया.

सन 2016 में -
  • 5 अप्रैल को, गतिमान एक्सप्रेस (भारत की सबसे तेज़ ट्रेन) ने दिल्ली से आगरा के लिए अपनी पहली यात्रा की.
  • अप्रैल में, सेंट्रल रेलवे ज़ोन (सीआर) पूरी तरह से 25 केवी एसी ट्रैक्शन में बदल गया. इसने मुंबई क्षेत्र के देश के मुख्य लाइन रेल नेटवर्क में डीसी ट्रैक्शन का उपयोग समाप्त कर दिया.
  • साथ ही यात्रियों के लिए गतिमान एक्सप्रेस की शुरुआत की गई.

सन 2017 में -
  • भारतीय रेलवे ने घोषणा की कि भारत में पूरे रेल नेटवर्क को 2022 तक विद्युतीकृत किया जाएगा.
  • भारतीय रेलवे ने 2025 तक अपनी बिजली की मांग का 25% नवीकरणीय ऊर्जा, मुख्य रूप से सौर ऊर्जा से पूरा करने के लिए हरित प्रौद्योगिकियों में निवेश किया है.

Free Daily Current Affair Quiz-Attempt Now

Hindi Vyakaran E-Book-Download Now

Polity E-Book-Download Now

Sports E-book-Download Now

Science E-book-Download Now

Free E Books