National Press Day: जानिए राष्ट्रीय प्रेस दिवस का क्या महत्व है।

Safalta Experts Published by: Blog Safalta Updated Tue, 16 Nov 2021 06:28 PM IST

16 नवंबर को हर साल राष्ट्रीय प्रेस दिवस मनाया जाता है । पत्रकारिता को लोकतंत्र का चौथा स्तंभ माना जाता है। भारत में प्रेस की स्वतंत्रता ,भारतीय संविधान के आर्टिकल 19 में भारतियों को दिए गए अभिव्यक्ति की आजादी के मूल अधिकार को सुनिश्चित करती है। 4 जुलाई 1966 को भारत ने प्रेस काउंसिल की स्थापना की और 16 नवंबर 1966 से कार्य करना शुरू किया । इस दिवस का मूल उद्देश्य प्रेस की आजादी के महत्व के प्रति जागरूकता फैलाना है , लोकतंत्र के मूल्य की सुरक्षा में मीडिया अहम भूमिका निभाता है । इस अवसर पर पूरे देश में संस्थानों , कार्यालो में , समाचार पत्र - पत्रिकाओं के संस्थानों में कार्यक्रम आयोजित किए जाते है , और चर्चा की जाती है,  कि राष्ट्र को आगे बढ़ाने के लिए प्रेस की क्या -क्या भूमिकाएं हो सकती है। इस वर्ष भारत में 55वां राष्ट्रीय प्रेस दिवस मनाया जा रहा है।

Source: Nature

यदि आप प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं और विशेषज्ञ मार्गदर्शन की तलाश कर रहे हैं, तो आप हमारे करंट अफेयर्स को सब्सक्राइब करे FREE Current Affairs Ebook- Download Now.

इतिहास

भारत सरकार ने फर्स्ट प्रेस कमीशन का गठन 1952 में किया। इसका उद्देश्य था , भारत में प्रेस की स्थिति को जानना और भविष्य में प्रेस राष्ट्रीय विकास में, किस तरह से भूमिका निभाएगी ,यह देखना  प्रेस कमीशन का एक लक्ष्य था। फर्स्ट प्रेस कमीशन के सिफारिशों के आधार पर प्रेस काउंसिल का गठन करने के लिए 1965 में एक एक्ट बनाया गया जिसे प्रेस काउंसिल एक्ट के नाम से जाना जाता है ।

Free Demo Classes

Register here for Free Demo Classes

Please fill the name
Please enter only 10 digit mobile number
Please select course
Please fill the email
इस एक्ट के आधार पर 4 जुलाई 1966 को प्रेस काउंसिल का गठन हिंदुस्तान में किया गया , लेकिन प्रेस काउंसिल ने 16 नवंबर 1966 काम करना शुरू किया और यही कारण का की हर साल 16 नवंबर को राष्ट्रीय प्रेस दिवस मनाया जाता है।

भारत का पहला अखबार कौन सा था

हिक्की का बंगाल गैजेट

भारत का सबसे पुराना अखबार कौन सा है?

 बॉम्बे समाचार
 बॉम्बे समाचार अब मुंबई समाचार के नाम से जाना जाता है।

फ्री मॉक टेस्ट का प्रयास करें- Click Here

प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें


प्रतियोगी परीक्षाओं की बेहतर तैयारी के लिए उम्मीदवार सफलता के फ्री कोर्स की सहायता भी ले सकते हैं। सफलता द्वारा इच्छुक उम्मीदवार परीक्षाओं जैसें- SSC GD, UP लेखपाल, NDA & NA, SSC MTS आदि परीक्षाओं की तैयारी कर सकते हैं। इसके साथ ही इच्छुक उम्मीदवार सफलता ऐप से जुड़कर मॉक-टेस्ट्स, ई-बुक्स और करेंट-अफेयर्स जैसी सुविधाओं का लाभ मुफ्त में ले सकते हैं।

Free E Books