Download Safalta App
for better learning

Download
Safalta App

X
Whatsup

पोषण के बारे में मुख्य जानकारी Important Information About Nutrition

Safalta Experts Published by: Anonymous User Updated Wed, 25 Aug 2021 04:23 PM IST
पोषण (Nutrition)
पोषण प्राणियों का एक विशिष्ट लक्षण है। प्राणियों में बहुत सारे कार्य सम्पन्न रहते हैं जिनके लिए ऊर्जा की आवश्यकता होती है और ऊर्जा भोजन से प्राप्त  होती है। अतः जीव शरीर को  जीवित दशा  में बनाए रखने के लिए ऊर्जा  उत्पादन तथा वृदृि एवं मरम्मत के लिए आवश्यक पदार्थ अपने बाहरी वातावरण से ग्रहण करते हैं और उसे उपापचय के दृारा इसे जीवद्रव्य में खपने योग्य बना देते हैं। इसे जीव का पोषण कहते है।
Source: Aaj Tak



1) कार्बोहाइड्रेट (Carbohydrate) - यह कार्बन , हाइड्रोजन एवं आँक्सीजन का अनुपात जल के हाइड्रोजन एवं आँक्सीजन के अनुपात के अनुरूप होता है। इसका सामान्य सूत्र (CH20)n है। सामान्य रूप से ये भोजन में शर्कराओं एवं अघुलनशील मण्डों (Starches) के रूप में उपस्थित होते हैं।
कार्बोहाइड्रेट के प्रमुख कार्य
1) कुछ विशेष जन्तुओं के बाहृा कंकाल (Exoskeleton) का निर्माण ।
2) न्यूक्लिक अम्लों (Nucleic acids) का निर्माण।
3) शरीर में भोजन संचय की तरह कार्य करना।
11) वसाएँ (Fats) - इसके मुख्य स्रोत - मक्खन , घी , तेल , मूँगफली  इत्यादि हैं। हाइड्रोजन एवं आँक्सीजन की ही यौगिक होती है, किन्तु रासायनिक रूप से कार्बोहाइड्रेट से भिन्न होती है। ये जल में अघुलनशील एवं कार्बनिक विलायकों , जैसे -बेंजीन, ऐसीटोन , ऐल्कोहाॅल , ईथर ,क्लोरोफाॅर्म इत्यादि में घुलनशील होती है। वसा के एक अणु का निर्माण ग्लिसराॅल के एक तथा वसीय अम्लों के तीन अणुओं के इंस्टरबन्ध दृारा परस्पर जुड़ने से होता है। ये कार्बोहाइड्रेट की अपेक्षा दोगुनी से अधिक ऊर्जा मुक्त करती है। वसा का संचय विशिष्ट वसीय ऊतकों (Adipose tissues) में होता है। 

Free Study Materials

Start Your Preparation with Free Courses and E-Books


वसा के प्रमुख कार्य
1) प्रति ग्राम वसा से 9 कैलोरी ऊर्जा प्राप्त होती है।
2) प्लाज्मा झिल्ली के निर्माण में सहायक होती है।
3) शरीर के विभिन्न अंगों को चोट से बचाती है।
111) प्रोटीन्स (Proteins)- इसके मुख्य स्रोत - दूध , अण्डा , मछली , मांस ,दाल ,सोयाबीन एवं फली हैं। प्रोटीन में कार्बन , हाइड्रोजन , एवं आँक्सीजन के अतिरिक्त नाइट्रोजन, फाॅस्फोरस , गन्धक एवं आयोडीन भी होते हैं। पूर्णरूप से विखणिडत होने के बाद इसके अणु सरल अमीनो अम्लों के अणुओं के रूप में होते हैं। अतः प्रोटीन अमीनो अम्लों की यौगिक होती है। बीस प्रकार के अमीनो अम्ल प्रोटीन्स की इकाइयाँ होती हैं।
प्रोटीन के मुख्य कार्य
1) शारीरिक वृदृि में सहायक होता है।
2) एण्टीबाॅडीज के निर्माण में सहायक होता है।
3) एंजाइम एवं हाॅर्मोन के निर्माण में सहायक होता है।

स्वास्थ्य विज्ञान की संपूर्ण तैयारी के लिए आप हमारे फ्री ई-बुक्स डाउनलोड कर सकते हैं।

1V) विटामिन (Vitamins)- 
ये बहुत ही अल्प मात्रा में जन्तु के शरीर में होते है जो उपापचय को नियन्त्रित रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निर्वहन करते हैं। हालाँकि विटामिन से ऊर्जा की प्राप्ति नहीं होती है, लेकिन इनकी कमी उपापचय को त्रुटिपूर्ण बनाकर शरीर को रोगयुक्त कर देता है।

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree