Download Safalta App
for better learning

Download
Safalta App

X
Whatsup

मुगल शासक अकबर महान् से जुडे़ तथ्य Mughal Emperor Akbar

Safalta Experts Published by: Blog Safalta Updated Thu, 19 Aug 2021 12:56 PM IST

अकबर महान् (1556-1605 ई.)

  • हमीदा बानू बेगम के गर्भ से अक्टूवर, 1542 ई. को अकबर का जन्म अमरकोट (सिंध क्षेत्र) को काणा वीरसाल के महल में हुआ था।
  • अकबर का बचपन क्रमषः चाचा अस्करी तथा कामरान के य़हाँ बीता । इसका शिक्षक अब्दुल लतीफ ईरानी विव्दान था। 
  • 1552ई. में मात्र 9 वर्ष की आयु में अकबर को मुनीम खाँ के संरक्षण में गजनी का गवर्नर नियुक्त किया गया था।
  • अकबर का राज्याभिषेक 14 फरवरी,1556 ई. को पंजाब के कलानौर नमक स्थान पर हुआ था ।
  • वह जलालुद्दीन मुहम्मद अकबर बादशाही की गजी की उपाधि से राजसिन्हासन पर बैठा।
इतिहास की संपूर्ण तैयारी के लिए आप हमारे फ्री ई-बुक्स डाउनलोड कर सकते हैं।
  • बैरम खाँ  1556 से 1560ई. तक अकबर का संरक्षक था।
  • पानीपत की दुसरी लड़ई 5 नवंबर, 1556 ई.को अकबर और हेमू के बिच हुई थी। 
  • मक्का की तीर्थ यात्रा के दौरन पटना नमक स्थान पर मुबारक खाँ नामक युवक ने बैरम खाँ की हत्या कर दी।
  • हल्दीघाटी का युद्ध 18 जून, 1576 ई. को मेवाड़ के शासक महाराणा प्रताप एंव अकबर के बिच हुआ। इस युद्ध में अकबर विजयी हुआ। इस युद्ध में मुगस सेना का नेतृत्व मानसिंह एंव आसफ खाँ ने किया था।
  • अकबर का सेनापति मानसिंह था।
  • अकबर ने दीन ए इलाही धर्म चलाया था।
  • अकबर के दरबार का प्रसिद्ध संगीतकार तानसेन था।
  • अकबर के दरबार के प्रसिद्ध चित्रकार अब्दुस समद था। 
  • अकबर की शासन प्रणाली की प्रमुख विशेषता मनसबदारी प्रथा थी।
  • अकबर के समकालीन प्रसिद्ध सूफी संत शेख सलीम चिश्ती थे।
  • अकबर को सिकंदराबाद के निकट दफ़नाया गया।
  • अकबर के दरबार को सुशोभित करने वाले नवरत्न थे।
  1. बीरबल
  2. टोडरमाल
  3. अबुलफजल 
  4. भगवानदास
  5. तानसेन
  6. मानसिंह
  7. अब्दुलर्रहीम खानखाना
  8. मुल्ला दो प्याज़ा
  9. हकीम हुकाम।
  • अबुलफजल ने अकबरनामा ग्रन्थ की रचना की । वह दीन ए इलाही धर्म का कट्टर समर्थक था।
  • अकबर के काल को हिंदी साहित्य का स्वर्ण कल कहा जाता है।
Source: Scroll


Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree