What is Social Entrepreneurship? क्या होती है सोशल एंटरप्रेन्योरशिप जानिये यहाँ

Safalta Experts Published by: Kanchan Pathak Updated Sat, 17 Sep 2022 10:45 PM IST

Highlights

सामाजिक उद्यमिता या सोशल एंटरप्रेन्योरशिप सामाजिक, सांस्कृतिक तथा पर्यावरणीय मुद्दों को जोड़ कर पूरी दुनिया में बदलाव लाने के प्रयास का एक तरीका है. तो आइए समझते हैं सोशल एंटरप्रेन्योरशिप से जुड़ी सभी कड़ियों को विस्तार से

नमस्कार दोस्तों, आइए आज हम जानते हैं कि सोशल एंटरप्रेन्योरशिप क्या होता है. सोशल एंटरप्रेन्योरशिप को हम सामाजिक उद्यमिता भी कहते हैं. सामाजिक उद्यमिता या सोशल एंटरप्रेन्योरशिप सामाजिक, सांस्कृतिक तथा पर्यावरणीय मुद्दों को जोड़ कर पूरी दुनिया में बदलाव लाने के प्रयास का एक तरीका है. तो आइए समझते हैं सोशल एंटरप्रेन्योरशिप से जुड़ी सभी कड़ियों को विस्तार से. अगर आप प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं और विशेषज्ञ मार्गदर्शन की तलाश कर रहे हैं, तो आप हमारे जनरल अवेयरनेस ई बुक डाउनलोड कर सकते हैं  FREE GK EBook- Download Now. / GK Capsule Free pdf - Download here
September Month Current Affairs Magazine DOWNLOAD NOW 
 


सोशल एंटरप्रेन्योर किसे कहते हैं

सीधे सीधे कहें तो सामाजिक उद्यमिता का कार्य करने वाले व्यक्ति को सामाजिक उद्यमि या सोशल एंटरप्रेन्योर कहा जाता है. अधिकांशतः सोशल एंटरप्रेन्योर व्यक्ति किसी एक आर्गेनाइजेशन या किसी सामाजिक ग्रुप का हिस्सा बनकर लोगों की भलाई का काम करते हैं, उनकी समस्याओं का हल निकालते हैं और उनकी सेवा करते हैं. 
सोशल एंटरप्रेन्योरशिप का काम करने वाले व्यक्ति या आर्गेनाइजेशन एक अलहदा और नए तरीके से सोशल वेल्थ के लिए फण्ड, साधन और अवसरों को बढ़ाने या विकसित करने के लिए काम करते हैं. वे लोगों को उनकी अपनी नजरों में समाज के किसी एक या अधिक समस्या को लेकर उसका विवरण और पहचान करवाते हैं जिसके बाद वे सोशल एंटरप्रेन्योरशिप या सामाजिक उद्यमिता का सहारा लेते हुए और उसके सिद्धांतों पर चलते हुए समाज में कुछ ऐसे परिवर्तन करते हैं जिससे कि काफी आसानी से उस सामाजिक समस्या का हल निकल आए.


बिजनस एंटरप्रेन्योरशिप और सोशल एंटरप्रेन्योरशिप में फर्क

एक बिजनस एंटरप्रेन्योरशिप या व्यापारिक उद्यमिता के उलट सोशल एंटरप्रेन्योरशिप में धनराशि या रकम के आधार पर आर्गेनाइजेशन का लाभ या हानि तय नहीं किया जाता. एक सामाजिक उद्यमिता की सफलता को उसके प्रयास और उसकी सफलता और असफलता दोनों को मिला कर देखा जाता है.
आपने बहुत से ऐसे सोशल एंटरप्रेन्योरशिप का काम करने वाले आर्गेनाइजेशन्स को देखा होगा जो अपने निजी लाभ की चिंता किए बगैर समाज के जरुरतमंद लोगों के लिए अपना समय देते हैं.
पिछले वर्षों में कोरोना महामारी के चरमोत्कर्ष के समय जब बहुत से लोग असहाय हो गए थे और उन्हें सहायता की आवश्यकता थी, तब सोशल एंटरप्रेन्योरशिप का काम करने वाले लोग और संस्थानों ने दुनिया भर में जरूरतमंद लोगों को हौसला देते हुए उनकी दवा, पैसे आदि अनेक प्रकार के साधनों से मदद की थी.

 
Attempt Free Mock Test - Click here
Attempt Free Daily General Awareness Quiz - Click here
Attempt Free Daily Quantitative Aptitude Quiz - Click here
Attempt Free Daily Reasoning Quiz - Click here
Attempt Free Daily General English Quiz - Click here
Attempt Free Daily Current Affair Quiz - Click here
 


सोशल एंटरप्रेन्योरशिप, महत्व

  • आमतौर पर सामाजिक उद्यमिता का मुख्य मकसद समाज की समस्याओं का सटीक निवारण निकालना होता है.
  • अगर हम ये कहें कि समाज में जहाँ कहीं भी तकलीफ अथवा किसी को मदद की जरुरत हो तो एक सोशल एंटरप्रेन्योर वहाँ पर पहुँच जाता है तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी.

    Free Demo Classes

    Register here for Free Demo Classes

    Please fill the name
    Please enter only 10 digit mobile number
    Please select course
    Please fill the email
    जबकि इसमें उसका अपना खुद का कोई व्यक्तिगत लाभ नहीं होता.
  • बहुत से शहरों में सोशल एंटरप्रेन्योरशिप सेंटर (सामाजिक उद्यमिता केंद्र) भी मौजूद हैं, जहाँ पर आपकी समस्याओं का निवारण या निस्तार किया जा सकता है.
  • हमारे देश में बहुत से त्यौहार और अवसर ऐसे होते है जो खूब धूमधाम से मनाए जाते हैं परन्तु वहीँ पिछड़े हुए कई आदिवासी इलाकों में साधनों के अभाव में यह सब नहीं मनाया जाता. ऐसे क्षेत्रों तक पहुँचना भी सोशल एंटरप्रेन्योरशिप के तहत हीं आने वाला कार्य है.
  • आज के आधुनिक युग में भी बहुत से ऐसे गाँव और कस्बे हैं जहाँ विकास और सुधार की आवश्यकता है. सोशल एंटरप्रेन्योरशिप के तहत वहाँ सकारात्मक परिवर्तन लाने की कोशिश की जाती है. ऐसे मुद्दों पर हम सभी को उनका साथ देना चाहिए.
 

सभी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए इस ऐप से करें फ्री में प्रिपरेशन - Safalta Application



सोशल एंटरप्रेन्योरशिप में इंटरनेट की भूमिका

समय के साथ साथ आज बहुत से सामाजिक उद्यमियों और संस्थानों ने इंटरनेट का सहारा लेकर अपने सामाजिक कार्यों को करना शुरू किया है. और इस प्रकार बहुत से  छोटे-छोटे ऑर्गेनाइजेशन और पब्लिक ग्रुप्स बड़े ऑर्गेनाइजेशंस में संयोजित होकर वृहद् स्तर पर सामाजिक उद्यमिता के क्षेत्र में सामने आने लगे हैं.
 

सोशल एंटरप्रेन्योर किसे कहते हैं ?

सीधे सीधे कहें तो सामाजिक उद्यमिता का कार्य करने वाले व्यक्ति को सामाजिक उद्यमि या सोशल एंटरप्रेन्योर कहा जाता है.

बिजनस एंटरप्रेन्योरशिप और सोशल एंटरप्रेन्योरशिप में क्या फर्क है ?

एक बिजनस एंटरप्रेन्योरशिप या व्यापारिक उद्यमिता के उलट सोशल एंटरप्रेन्योरशिप में धनराशि के आधार पर आर्गेनाइजेशन का लाभ या हानि तय नहीं किया जाता. एक सामाजिक उद्यमिता की सफलता को उसके प्रयास और उसकी सफलता और असफलता दोनों को मिला कर देखा जाता है.

सोशल एंटरप्रेन्योरशिप में इंटरनेट की क्या भूमिका है ?

समय के साथ साथ आज बहुत से सामाजिक उद्यमियों और संस्थानों ने इंटरनेट का सहारा लेकर अपने सामाजिक कार्यों को करना शुरू कर दिया है. आज बहुत से छोटे-छोटे ऑर्गेनाइजेशन और पब्लिक ग्रुप्स बड़े ऑर्गेनाइजेशंस में संयोजित होकर वृहद् स्तर पर सामाजिक उद्यमिता के क्षेत्र में सामने आने लगे हैं.

पिछड़े हुए आदिवासी इलाकों तक पहुँचना क्या सोशल एंटरप्रेन्योरशिप के तहत आने वाला कार्य है ?

हाँ, हमारे देश में बहुत से त्यौहार और अवसर ऐसे होते है जो खूब धूमधाम से मनाए जाते हैं, वहीँ पिछड़े हुए कई आदिवासी इलाकों में साधनों के अभाव में यह सब नहीं मनाया जाता. ऐसे क्षेत्रों तक पहुँचना भी सोशल एंटरप्रेन्योरशिप के तहत हीं आने वाला कार्य है. 

सामाजिक उद्यमिता का मुख्य मकसद क्या है ?

सोशल एंटरप्रेन्योरशिप का मुख्य मकसद समाज की समस्याओं का सटीक निवारण करना होता है. अगर हम ये कहें कि समाज में जहाँ कहीं भी तकलीफ अथवा किसी को मदद की जरुरत हो तो एक सोशल एंटरप्रेन्योर वहाँ पर पहुँच जाता है तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी.

Free E Books