Daily Top 10 Current Affairs: यहां 30 जनवरी का करेंट अफेयर्स हिंदी में पढ़ें।

safalta experts Published by: Chanchal Singh Updated Sun, 30 Jan 2022 07:59 PM IST

Highlights

Covaxin और Covishield के लिए सशर्त बाज़ार मंजूरी दी गई

Daily Top 10 Current Affairs:अगर आप भी किसी प्रकार के प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं, तो आपके लिए यह लेख बहुत ही महत्वपूर्ण साबित हो सकता है। इसमें हम आज आपके लिए लाए हैं राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय स्तर के करंट अफेयर। जो कि आपके प्रतियोगी परीक्षा के लिए लाभदायक हो सकता है। इस लेख का एक मात्र उदेश्य यह है कि इस लेख से ज्यादा से ज्यादा प्रतियोगी परीक्षा के लिए तैयारी कर रहे क्षात्रों की सहायता करना है। आज के प्रमुख करंट अफेयर के विषय में पढ़ने के लिए नीचे स्क्रोल किजिए। 

1. 30 जनवरी : विश्व कुष्ठरोग दिवस (World Leprosy Day)


30 जनवरी को विश्व कुष्ठरोग दिवस के रूप में मनाया जाता है। इसका दिवस को विश्व में मनाने का एकमात्र उद्देश्य कुष्ठरोग को समाप्त करना तथा कुष्ठरोग से पीड़ित लोगों के साथ होने वाले भेदभाव को समाप्त करना है। कुष्ठरोग से पीड़ित लोग सामाजिक भेदभाव के कारण अक्सर डीप्रेशन का शिकार हो जाते हैं। इसके इलाज के लिए पीड़ित को मल्टी-ड्रग थेरेपी की जरूरत पड़ती है, इस थेरेपी में पीड़ित को 6 माहीने से एक साल तक दवाई खाना पड़ता है।

विश्व में विश्व कुष्ठरोग दिवस जनवरी के आखरी रविवार को मनाया जाता है, लेकिन भारत में यह दिवस महात्मा गाँधी की पुण्यतिथि यानी 30 जनवरी को मनाया जाता है।

कुष्ठरोग (Leprosy)
कुष्ठरोग एक संक्रामक बैक्टीरियल रोग है, यह मायकोबैक्टीरियम लेप्रे के कारण होता है। यह रोग मुख्य रूप से त्वचा, सम्बंधित तंत्रिकाओं तथा आखों को पर असर करता है। भारत में इस रोग को समाप्त करने के लिए राष्ट्रीय कुष्ठरोग निवारण कार्यक्रम शुरू किया गया है। भारत में अब कुष्ठरोग एक सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्या नहीं है।

2.प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पंडित जसराज कल्चरल फाउंडेशन का शुभारंभ किया 

पंडित जसराज कल्चरल फाउंडेशन की स्थापना पंडित जसराज के बेटे शारंग देव पंडित और उनकी बेटी दुर्गा जसराज ने किया है। इस फाउंडेशन को भारत की राष्ट्रीय विरासत, कला और संस्कृति की रक्षा, संरक्षण, विकास और बढ़ावा देने के उद्देश्य से शुरू किया गया है।

पंडित जसराज कौन थे?
पंडित जसराज एक भारतीय शास्त्रीय गायक थे। वह मेवाती घराने से सम्बंधित थे। उनका संगीत करियर 75 वर्षों तक चला, जिससे उन्हें राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रसिद्धि, सम्मान और प्रमुख पुरस्कार मिले। 

3. ग्रीष्मकालीन फसल अभियान के लिए कृषि पर राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन किया गया है।


वेस्ट मैनेजमेंट (waste management) में नवाचार को बढ़ाने के लिए स्वच्छता स्टार्ट-अप चुनौती लांच की गई है। इसे एजेंस फ्रैंकाइस डी डेवलपमेंट (AFD) और डिपार्टमेंट ऑफ प्रमोशन ऑफ इंडस्ट्री एंड इंटरनल ट्रेड (DPIIT) द्वारा लॉन्च किया गया था। AFD एक फ्रांसीसी सार्वजनिकfinancial institution है। यह फ्रांस सरकार की नीतियों को लागू करता है। इस चुनौती के टॉप 10 विजेताओं को 25 लाख रुपये की पुरस्कार राशि मिलेगी। इस चुनौती का संचालन आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय की देख रेख में  किया जायेगा।

वेस्ट मैनेजमेंट चुनौती के बारे में
यह चुनौती कचरा प्रबंधन और स्वच्छता के क्षेत्र में काम कर रहे स्टार्टअप पर प्रकाश डालने के लिए है। यह चुनौती स्टार्टअप्स को क्षेत्र में परिवर्तन लाने के लिए प्रोत्साहित करेगी। भारतीय और फ्रेंच दोनों स्टार्टअप इस चुनौती में भाग ले सकते हैं।
प्रतिभागियों को 4  क्षेत्रों में समाधान खोजने होंगे। 
1.जीरो डंप
 2.सामाजिक समावेश
 3.प्लास्टिक कचरा प्रबंधन 
4. डिजिटल सक्षमता के माध्यम से पारदर्शिता हैं।
विलग्रो (Vilgro) इस चुनौती का कार्यान्वयन भागीदार है। विजेता स्टार्टअप्स को को विलग्रो से निवेश पर फॉलो-ऑन के 50 लाख रुपये मिलेंगे।
इसके अलावा, विजेताओं को टेक्नोलॉजी भागीदार अमेज़ॅन वेब सर्विसेज से 1,00,000 डालर मूल्य की टेक्नोलॉजी मदद प्राप्त होगी।

यह चुनौती स्वच्छ भारत मिशन-शहरी 2.0 के तहत स्मार्ट गवर्नेंस की दिशा में एक और कदम है। इसका उद्देश्य स्टार्टअप्स को कचरा मुक्त शहरों के सपने को साकार करने के लिए प्रोत्साहित करना है। स्वच्छ भारत मिशन-शहरी 2.0 का लक्ष्य अगले पांच वर्षों में कचरा मुक्त शहरों का लक्ष्य हासिल करना है।

4..30 जनवरी : शहीद दिवस (Martyr’s Day), जानिए क्यों मनाया जाता है शहीद दिवस?


30 जनवरी को भारत में शहीद दिवस (Martyr’s Day) के रूप में मनाया जाता है। इस दिन 1948 में महात्मा गाँधी की मृत्यु हुई थी। नाथूराम गोडसे द्वारा गांधीजी की हत्या की गयी थी। इस दिवस के अवसर पर राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री तथा रक्षामंत्री गाँधीजी की समाधी पर उन्हें श्रद्धांजली अर्पित किए।

महात्मा गांधी ने भारत की स्वतंत्रता में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। उनका जन्म 2 अक्टूबर, 1869 को  पोरबंदर में हुआ था। उनकी हत्या 30 जनवरी, 1948 को नाथूराम गोडसे द्वारा की गयी थी।

स्वतंत्रता आन्दोलन में उनके निस्वार्थ योगदान के लिए गांधीजी को “बापू” भी कहा जाता है। उन्हें अनाधिकारिक रूप से “राष्ट्रपिता” भी कहा जाता है। उन्होंने लन्दन में कानून की पढाई की थी, तत्पश्चात वे भारत लौटे, बाद में उन्होंने दक्षिण अफ्रीका में एक भारतीय फर्म में कार्य किया।

5.Covaxin और Covishield के लिए सशर्त बाज़ार मंजूरी दी गई


भारत में दवा नियामक ने COVISHIELD और COVAXIN टीकों के लिए सशर्त बाजार की मंजूरी दी है। इसका मतलब है कि निजी अस्पताल भी टीके लगायेंगे। हालांकि, यह टीके खुदरा मेडिकल स्टोर पर उपलब्ध नहीं होंगे।

सशर्त बाजार प्राधिकरण (conditional market authorisation) क्या है?
सीरम इंस्टीट्यूट वैक्सीन के COVISHIELD और भारत बायोटेक के COVAXIN को देश में इमरजेंसी यूज ऑथराइजेशन (EUA) के तहत प्रशासित किया गया था। EUA का अर्थ है दवा का प्रतिबंधित उपयोग। यानि दवा का परिणाम अभी तक सिद्ध नहीं हुआ है। लेकिन महामारी जैसी अपरिहार्य स्थितियों के दौरान दवा का उपयोग किया जाएगा। औषधि और प्रसाधन सामग्री अधिनियम, 1940 के तहत सूचीबद्ध दो टीकों ने अब सुरक्षा और गुणवत्ता के उच्च मानकों को पूरा किया है। इस प्रकार उन्हें अब सशर्त बाजार प्राधिकरण (conditional market authorization) दिया जा रहा है। यह पूर्ण बाजार प्राधिकरण (full market authorization) नहीं है।

6. बीटिंग द रिट्रीट (Beating the Retreat) का आयोजन किया गया


29 जनवरी, 2022 को दिल्ली में बीटिंग द रिट्रीट कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम के साथ ही गणतंत्र दिवस कार्यक्रम का आधिकारिक समापन हो गया। इस कार्यक्रम में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद तथा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत कई अन्य अतिथि शामिल हुए थे। बीटिंग द रीट्रीट समारोह का आयोजन नईं दिल्ली के ऐतिहासिक विजय चौक पर किया जाता है।

सदियों पहले युद्धकाल में संध्या हो जाने पर बिगुल बजने के बाद सेनाएं अपने-अपने शिविरों में वापस चली जाती थीं। बीटिंग द रीट्रीट इसी परंपरा का हिस्सा है। भारत के गणतंत्र दिवस समारोह का समापन बीटिंग द रीट्रीट कार्यक्रम के बाद होता है।

इस समारोह में कई सैन्य बैंड और रेजिमेंटल केंद्रों और बटालियनों से पाइप और ड्रम बैंड ने भाग लिया। इसके अलावा नौसेना, वायु सेना और केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों (सीएपीएफ) के बैंड भी इसमें भाग लेते हैं।

ड्रोन शो
गौरतलब है कि इस बार बीटिंग द रिट्रीट समारोह के दौरान एक शानदार ड्रोन शो का आयोजन किया गया था। इस शो में 1000 से भी ज्यादा ड्रोन का इस्तेमाल किया गया, इन ड्रोन में कई प्रकार के लाइट्स लगी हुई हैं जिनसे आसमान में विभिन्न प्रकार के आकृतियों का निर्माण किया गया। ड्रोन शो यह कार्य IIT दिल्ली के एक स्टार्टअप Botlab Dynamics द्वारा किया गया। इसके साथ-साथ लेजर शो का आयोजन भी किया गया।
General Knowledge Ebook Free PDF: डाउनलोड करें

7.पश्चिम लहर’ अभ्यास आयोजित किया गया


‘पश्चिम लहर’ अभ्यास (Exercise Paschim Lehar) भारतीय नौसेना में विभिन्न नौसैनिक कमांडों के बीच सहयोग बढ़ाने के लिए आयोजित किया जाता है। इसमें भारतीय सेना और भारतीय वायु सेना भी शामिल है। हाल ही में यह अभ्यास पश्चिमी तट पर आयोजित किया गया।

अभ्यास के बारे में
यह अभ्यास 20 दिनों के लिए आयोजित किया गया था। यह भारतीय सेना, भारतीय नौसेना और तटरक्षक बल के बीच परिचालन सहयोग बढ़ाने के लिए आयोजित किया गया था। भारतीय नौसेना की पश्चिमी कमान ने इस अभ्यास में भाग लिया। पश्चिमी कमान का मुख्यालय मुंबई में स्थित है। पूर्वी नौसेना कमान का मुख्यालय विशाखापत्तनम में स्थित है। दक्षिणी नौसेना कमान का मुख्यालय कोच्चि में स्थित है।

पश्चिम लहर 2022 (Paschim Lehar 2022)
इस अभ्यास में 40 से अधिक जहाजों और पनडुब्बियों ने भाग लिया। इसके अलावा, भारतीय वायु सेना ने SU 30 MKI, उड़ान ईंधन भरने वाले विमान और जगुआर समुद्री हड़ताल विमान तैनात किए। IAF ने मानव रहित हवाई प्रणाली, डोर्नियर विमान, P8i, मिग 29K और IL 38 SD भी तैनात किए।
इस अभ्यास के दौरान,  सुरक्षा बलों ने यथार्थवादी स्थिति में काम किया। इसके अलावा, विभिन्न परिदृश्यों के तहत हथियारों से फायरिंग की गई।

8.संगोली रायन्ना कौन थे?


संगोली रायन्ना कित्तूर रियासत के एक योद्धा थे। कित्तूर वर्तमान कर्नाटक है। कर्नाटक सरकार 180 करोड़ रुपये की लागत से संगोली रायन्ना के नाम पर एक सैन्य स्कूल का निर्माण कर रही है। इस स्कूल का संचालन रक्षा मंत्रालय द्वारा किया जाएगा।

संगोली रायन्ना (Sangoli Rayanna)
वे कित्तूर के एक महान योद्धा थे, उन्होंने अपनी मृत्यु तक रानी चेन्नम्मा के साथ डोक्ट्रिन ऑफ लैप्स (Doctrine of Lapse) के खिलाफ लड़ाई लड़ी। अंग्रेजों ने कित्तूर साम्राज्य के राजा और राजकुमार को मार डाला। चूंकि सिंहासन का कोई कानूनी उत्तराधिकारी नहीं था, वे डॉक्ट्रिन ऑफ लैप्स के तहत कित्तूर साम्राज्य पर नियंत्रण करना चाहते थे। रानी चनम्मा ने शिवलिंगप्पा को कित्तूर साम्राज्य के शासक के रूप में गोद लिया। संगोली रायन्ना शिवलिंगप्पा को अगला शासक बनाना चाहते थे।

अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई
रायन्ना ने 1824 के विद्रोह में प्रमुख भूमिका निभाई थी। कित्तूर साम्राज्य की अधिकांश भूमि जब्त कर ली गई थी। और बची हुई भूमि पर भारी कर लगाया जाता था। उन्होंने एक गुरिल्ला सेना बनाई। उन्होंने आम लोगों की सेना बनाई और उसे प्रशिक्षण दिया। उन्हें 1830 में पकड़ लिया गया और अंग्रेजों ने कैद कर लिया।
 

9.भारत और फ्रांस ने स्वास्थ्य पर MoU पर हस्ताक्षर किये


भारत और फ्रांस ने हाल ही में विरासत में मिले विकारों और उभरते व फिर से उभरने वाले संक्रामक रोगों पर एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं। फ्रांस के इंस्टीट्यूट पाश्चर (Institut Pasteur) और भारत के CSIR के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए। इस पर विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय के दायरे में हस्ताक्षर किए गए थे।
इस समझौते के तहत, दोनों देशों ने एक साथ काम करने, कोशिका जीव विज्ञान, वैक्सीन विकास, वायरोलॉजी, संक्रामक रोगों, मानव विकासवादी आनुवंशिकी अध्ययन और कम्प्यूटेशनल जीव विज्ञान में नए तंत्र की पहचान करने और विकसित करने के लिए हस्ताक्षर किए।
इन समझौते के माध्यम से, देश न केवल अपने लोगों के लिए बल्कि वैश्विक भलाई के लिए भी किफायती स्वास्थ्य देखभाल समाधान प्रदान करेंगे।

अक्टूबर 2021 में, G20 शिखर सम्मेलन के मौके पर, पीएम मोदी और फ्रांसीसी राष्ट्रपति ने सहमति व्यक्त की कि स्वास्थ्य, पर्यावरण और नवाचार में दोनों देशों की साझा महत्वाकांक्षाएं हैं। दोनों नेताओं के बीच बातचीत के आधार पर समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए।


10.मोतीलाल तेजावत  कौन थे?

73वें गणतंत्र दिवस परेड के दौरान गुजरात की तस्वीरें पाल और दाधवाव के गांवों में सामूहिक हत्याओं को दर्शाती हैं। नरसंहार 1922 में हुआ था। इस हत्याकांड में करीब 1,200 कबीलों की अंग्रेजों ने बेरहमी से हत्या कर दी थी।

 7 मार्च, 1922 को आदिवासी प्रमुख मोतीलाल तेजावत ने 10,000 भील जनजातियों को संबोधित किया। ये जनजातियां एकी आंदोलन का हिस्सा हैं और दधव (अब गुजरात का साबरकांठा जिला) गांव से संबंधित हैं। सभा ब्रिटिश सरकार द्वारा जागीरदारों, भूमि कराधान प्रणाली और क्राउन स्टेट से संबंधित कानूनों का विरोध करती है। एचजी मेजर सटन ने बर्खास्तगी का आदेश जारी किया। पुलिस ने अनुपालन किया और 1,200 से अधिक बेगुनाहों को मार डाला। इस घटना को पाल दधव शहीद के नाम से जाना जाता है। 

मोतीलाल तेजावत
वे हत्याकांड में बच निकले, हालाँकि उनकी जांघ में दो बार गोली लगी। गांधीजी के अनुरोध पर तेजावत भूमिगत रहे। उन्हें सात साल की जेल हुई थी। आजादी के बाद उन्होंने इस जगह का नाम “विरुभूमि” रखा। गुजरात के लोक गीतों में आज भी इस नरसंहार को याद किया जाता है।

भील आदिवासी (Bhil Tribals)
भील आदिवासी पश्चिमी भारत में जातीय समूह हैं। 2013 तक, भील देश के सबसे बड़े आदिवासी समूह थे। वे राजस्थान, गुजरात, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश राज्यों में फैले हुए हैं
Current Affairs Ebook Free PDF: डाउनलोड करे

 

Source: social media

Free E Books