बाल विवाह मुक्त घोषित होने वाला ओडिशा का पहला जिला बना गंजम

Safalta Experts Published by: Abhivardhan Bajpayee Updated Thu, 06 Jan 2022 06:39 AM IST
ओडिशा के तटीय जिले गंजम को बाल विवाह मुक्त जिला घोषित कर दिया है। गंजम, यह उपलब्धि हासिल करने वाला ओडिशा का पहला जिला है। जिला प्रशासन पिछले दो वर्षों - 2020 और 2021 में 450 बाल विवाहों को रोकने और 48,383 विवाहों की वीडियो-रिकॉर्डिंग करने  में सक्षम रहा है । ग्राम सरपंच और विशेष रूप से गठित एक टास्क फोर्स कमेटी के सदस्यों ने सिफारिशें भेजी कि उनके संबंधित क्षेत्र में कोई बाल विवाह नहीं हुआ। इसी के आधार पर प्रशासन ने उचित सत्यापन के बाद पूरे जिले को बाल विवाह से मुक्त घोषित कर दिया।
Source: OrissaPost

Free Demo Classes

Register here for Free Demo Classes



Yearly Current Affairs Ebook Free PDF: डाउनलोड करे

उल्लेखनीय है कि गंजम ने निर्भया कढ़ी (निर्भय कली) नाम से एक कार्यक्रम शुरू किया था। इस कार्यक्रम के तहत, सभी शैक्षणिक संस्थानों के प्रमुखों को यह काम सौंपा गया था कि यदि 12 से 18 वर्ष की आयु के बीच की कोई भी छात्रा लगातार पांच दिनों तक स्कूल से अनुपस्थित रहती है तो वह इसकी सूचना तुरंत अधिकारियों को दें । इसके साथ ही पिछले दो वर्षों में लगभग 1 लाख किशोर/किशोरियों को उचित काउंसलिंग दी गयी और किसी भी विवाह के लिए प्रशासन द्वारा आधार कार्ड का उत्पादन अनिवार्य कर दिया गया था। प्रशासन ने किसी भी बाल विवाह की सूचना देने पर 5,000 रुपये के इनाम की भी घोषणा की थी, इस राशि को अब बढ़ाकर 50,000 रुपये कर दिया गया है।
  • 1929 के 'बाल विवाह निरोध अधिनियम' को लॉर्ड इरविन द्वारा अनुमोदित किया गया था।


जानिये क्यों केंद्र सरकार महिलाओं के लिए विवाह की न्यूनतम उम्र 18 से बढ़ा कर 21 वर्ष करने पर जोर दे रही है ?
 

उड़ीसा-
  • राज्यपाल- गणेशी लाली
  • मुख्यमंत्री- नवीन पटनायक
  • राजधानी- भुवनेश्वर

और दैनिक करंट अफेयर्स पढ़ने के लिए- यहां क्लिक करें