जानिये क्यों केंद्र सरकार महिलाओं के लिए विवाह की न्यूनतम उम्र 18 से बढ़ा कर 21 वर्ष करने पर जोर दे रही है ?

Safalta Experts Published by: Abhivardhan Bajpayee Updated Sat, 18 Dec 2021 11:58 PM IST

चाहते हैं Safalta के Verified Experts द्वारा अपने कठिन से कठिन प्रश्नों के उत्तर, तो यहाँ क्लिक करें


हाल ही में देश में लड़कियों के विवाह की वैध न्यूनतम आयु 18 वर्ष से बढ़ाकर 21 वर्ष करने का निर्णय लिया है । इस निर्णय को लागू करने के लिए केंद्र सरकार की कैबिनेट ने अपनी मंजूरी दे दी है। सरकार के इस निर्णय से लड़के और लड़की की विवाह की वैद्य न्यूनतम आयु में समानता आ सकेगी। उल्लेखनीय है कि देश में इसके पहले भी लड़की की विवाह की न्यूनतम आयु को बढ़ाकर 12 वर्ष, 14 वर्ष, 15 वर्ष और 18 वर्ष किया गया था किंतु लड़की की विवाह की आयु लड़के के विवाह की आयु से कम थी। वर्तमान कानूनी प्रावधानों के तहत लड़कों की विवाह के लिए न्यूनतम आयु 21 वर्ष और लड़की के लिए विवाह की न्यूनतम आयु 18 साल निर्धारित है

Free Demo Classes

Register here for Free Demo Classes

Please fill the name
Please enter only 10 digit mobile number
Please select course
Please fill the email
Something went wrong!
Download App & Start Learning

Source: safalta

सरकार द्वारा लड़कियों की विवाह की न्यूनतम आयु सीमा बढ़ाने का उद्देश्य लैंगिक निष्पक्षता के साथ-साथ लड़कियों के शिक्षा, स्वास्थ्य, आजीविका के स्तर में भी सुधार लाना है। इसके फलस्वरूप शिशु मृत्यु दर और मातृ मृत्यु दर में कमी आएगी एवं नारी सशक्तिकरण को भी बढ़ावा मिलेगा

 

भारतीय निशानेबाज अवनी लखेरा को मिला सर्वश्रेष्ठ महिला पदार्पण सम्मान

डेली करेंट अफेयर्स पढने के लिए यहाँ क्लिक करें

 

 


महत्वपूर्ण तथ्य
महिलाओं से संबंधित महत्वपूर्ण अधिनियम
  • सती प्रथा अधिनियम - 1829
  • बाल विवाह अधिनियम - 1929
  • विधवा पुनर्विवाह अधिनियम - 1856
  • दहेज प्रथा निषेध अधिनियम - 1961
  • हिंदू विवाह अधिनियम - 1955
  • विशेष विवाह अधिनियम – 1954

Free E Books