KISHAN App : भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान रुड़की  ने  किसानों के लिए ‘किसान’ ऐप डेवलप किया है।

safalta experts Published by: Chanchal Singh Updated Thu, 24 Feb 2022 01:52 PM IST

Highlights

1. ग्रामीण कृषि मौसम सेवा (GKMS) योजना के तहत IIT रुड़की द्वारा किसान जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम में देहरादून, हरिद्वार और पौड़ी गढ़वाल जिले के किसानों ने भाग लिया।
2. भाग लेने वाले किसानों को एग्रोमेट एडवाइजरी सर्विसेज के बारे में सिखाया गया जो भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) और AMFU रुड़की द्वारा संयुक्त रूप से प्रदान की जाती है।
3.हरिद्वार के 6 प्रखंडों के किसानों को पहले से ही सप्ताह में दो बार एग्रोमेट एडवाइजरी सेवाएं प्रदान की जा रही हैं।

KISHAN App :भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान रुड़की (IIT रुड़की) ने बॉल्क स्तर के किसानों के लिए ‘किसान’ नाम से एक मोबाइल एप्प डेवलप किया है। इस ऐप के माध्यम से किसानों को कृषि-मौसम संबंधी सभी जानकारी दी जाएंगी जिससे किसान अपने खेती के लिए योजना बना सकेंगे। General Knowledge Ebook Free PDF: डाउनलोड करें  रिपोर्ट के अनुसार अभी तक, यह ऐप सिर्फ हरिद्वार के किसानों को कृषि एवं मौसम संबंधी जानकारी दे रहा है, जो कि जल्द ही आने वाले समय में, यह पौड़ी, गढ़वाल और देहरादून जिलों के किसानों और पूरे उत्तराखंड के क्षेत्र को कवर करेगा। 

इस लेख के मुख्य बिंदु 

1. ग्रामीण कृषि मौसम सेवा (GKMS) योजना के तहत IIT रुड़की द्वारा किसान जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम में देहरादून, हरिद्वार और पौड़ी गढ़वाल जिले के किसानों ने भाग लिया।
2. भाग लेने वाले किसानों को एग्रोमेट एडवाइजरी सर्विसेज के बारे में सिखाया गया जो भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) और AMFU रुड़की द्वारा संयुक्त रूप से प्रदान की जाती है।
3.हरिद्वार के 6 प्रखंडों के किसानों को पहले से ही सप्ताह में दो बार एग्रोमेट एडवाइजरी सेवाएं प्रदान की जा रही हैं।
4.इस किसान एप्प में किसानों के लिए मौसम से जुड़ें बुलेटिन जारी किया जाएगा साथ ही उसमें फिडबैक का भी ऑपशन रहेगा, जिससे किसानो को मौसम संबंधी सभी जानकरी समय समय पर मिलता रहे।
5.इस एप्प की विशेष खासियत  यह है कि एडवाइजरी बुलेटिन और मौसम पूर्वानुमान केवल उस विशेष ब्लॉक के लिए  दिखाया जाएगा जिसे किसानों द्वारा चुना गया है।
6.किसान उन बुलेटिनों पर फीडबैक भी दे सकते हैं, जो ऐप डेवलपर को  बेहतर सेवाएं देने में मदद करेंगे।
7.किसानों की आवश्यकताओं के अनुसार इस एप्प को समय समय पर अपडेट किया जाता रहेगा।

ग्रामीण कृषि मौसम सेवा (Gramin Krishi Mausam Sewa)

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय (ministry of earth sciences) ने किसानों को सप्ताह में दो बार प्रिंट, विजुअल, रेडियो और आईटी जैसे माध्यम से फसल-विशिष्ट जानकारी देने के लिए ग्रामीण कृषि मौसम सेवा शुरू की है।ग्रामीण कृषि मौसम सेवा  को भारतीय मौसम विभाग द्वारा विभिन्न राज्य के कृषि विश्वविद्यालयों और भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के सहयोग से लागू किया गया है।Current Affairs Ebook Free PDF: डाउनलोड करे

Free E Books