Draupadi Murmu Biography, द्रौपदी मुर्मू के जीवन परिचय, शिक्षा, राजनीतिक करियर के बारे में विस्तार से

Safalta Experts Published by: Nikesh Kumar Updated Thu, 17 Nov 2022 05:34 PM IST

Draupadi Murmu Biography in Hindi- द्रौपदी मुर्मू भारत की 15वीं राष्ट्रपति बन गई हैं, एनडीए के साथ-साथ देश के अलग पॉलिटिकल पार्टियों से समर्थन मिलने के बाद उन्होंने 21 जुलाई को जारी राष्ट्रपति चुनाव के नतीजों में जीत हासिल की है। अपनी इस ऐतिहासिक जीत के बाद द्रौपदी मुर्मू जी भारत की दूसरी और पहली ट्राइबल महिला राष्ट्रपति बन गई है। द्रौपदी मुर्मू जी की उम्र 64 साल है और वह उड़ीसा की रहने वाली है। उनके राष्ट्रपति चुनाव जीतने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनके घर जाकर उड़ीसा में उनको नए राष्ट्रपति बनने की बधाइयां दी है और साथ ही प्रधानमंत्री के पूरी केंद्रीय कैबिनेट मिनिस्ट्री भी नए राष्ट्रपति के घर जाकर उनको बधाइयां दी है। चलिए जानते हैं एनडीए द्वारा प्रस्तावित राष्ट्रपति कैंडिडेट श्रीमती द्रौपदी मुर्मू के बारे में विस्तार से - अगर आप प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं और विशेषज्ञ मार्गदर्शन की तलाश कर रहे हैं, तो आप हमारे जनरल अवेयरनेस ई बुक डाउनलोड कर सकते हैं  FREE GK EBook- Download Now. 
GK Capsule Free pdf - Download here
President of India From 1950 to 2022

Table of Content

1. कौन हैं द्रौपदी मुर्मू
1.1 जन्म
1. 2 शिक्षा और करियर
1.3 परिवार, विवाह और बच्चे
1.4 सतत कार्यशील राजनीतिक जीवन 
1.5 पुरस्कार 
1.6  FAQ

 

 

कौन हैं द्रौपदी मुर्मू - Who is Draupadi Murmu

द्रौपदी मुर्मू झारखंड की पहली महिला आदिवासी राज्यपाल हैं. बतौर राज्यपाल झारखण्ड में इनका कार्यकाल 18 मई 2015 से 12 जुलाई 2021 तक का रहा है. श्रीमति मुर्मू झारखंड में सबसे लंबे समय तक कार्य करने वाली राज्यपाल भी हैं. इन्होंने 6 साल से भी अधिक समय तक झारखण्ड में राज्यपाल के पद पर काम किया है.

जन्म -
द्रौपदी मुर्मू का जन्म 20 जून 1958 को मयूरभंज, राज्य उड़ीसा में हुआ था.

Source: safalta

वर्तमान में सुश्री मुर्मू की आयु 64 वर्ष की है. गौरतलब है कि भारत का राष्ट्रपति बनने के लिए उम्मीदवार की आयु न्यूनतम 35 वर्ष की होनी आवश्यक है.

Former IAS as Presidential Election Candidate

शिक्षा और करियर -
  • श्रीमति मुर्मू ने रमा देवी महिला महाविद्यालय, भुवनेश्वर से ग्रेजुएशन किया है.
  • श्रीमति मुर्मू उड़ीसा राज्य की भारतीय जनता पार्टी की नेता हैं.
परिवार, विवाह और बच्चे -

द्रौपदी मुर्मू ओडिशा के पूर्व मंत्री दिवंगत बिरंची नारायण टुडू की बेटी हैं. श्रीमति मुर्मू के पति का नाम श्याम चरण मुर्मू है.

Free Demo Classes

Register here for Free Demo Classes

Please fill the name
Please enter only 10 digit mobile number
Please select course
Please fill the email
Something went wrong!
Download App & Start Learning
परन्तु कम उम्र में हीं श्रीमति मुर्मू के पति श्याम चरण मुर्मू का निधन हो गया था. उनके तीन बच्चों में से दोनों बेटों की मौत भी असमय हीं हो गई थी. श्रीमति मुर्मू की बेटी इतिश्री मुर्मू जो रांची में रहती हैं, वही उनकी एकमात्र जीवित संतान हैं. इतिश्री मुर्मू के पति का नाम गणेश चंद्र हेम्बरम है.
 
सामान्य हिंदी ई-बुक -  फ्री  डाउनलोड करें  
पर्यावरण ई-बुक - फ्री  डाउनलोड करें  
खेल ई-बुक - फ्री  डाउनलोड करें  
साइंस ई-बुक -  फ्री  डाउनलोड करें  
अर्थव्यवस्था ई-बुक -  फ्री  डाउनलोड करें  
भारतीय इतिहास ई-बुक -  फ्री  डाउनलोड करें  


सतत कार्यशील राजनीतिक जीवन, कुछ झलकियाँ -

 
उड़ीसा गवर्नमेंट में राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार के तौर पर द्रौपदी मुर्मू को साल 2000 से लेकर साल 2004 तक ट्रांसपोर्ट एवं वाणिज्य डिपार्टमेंट संभालने का अवसर दिया गया था।

इसके बाद उन्होंने साल 2002 से लेकर साल 2004 तक उड़ीसा गवर्नमेंट के राज्यमंत्री के तौर पर पशुपालन एवं मत्स्य पालन डिपार्टमेंट का कार्यभार संभाला था।

 साल 2002 से लेकर 2009 तक यह भारतीय जनता पार्टी के अनुसूचित जाति मोर्चा के लिए राष्ट्रीय कार्यकारिणी की सदस्य भी थी।

 भारतीय जनता पार्टी के एसटी मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष के पद को इन्हें साल 2006 से लेकर 2009 तक संभालने का अवसर मिला था।

 एसटी मोर्चा के साथ ही साथ भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारिणी के मेंबर के पद पर यह साल 2013 से लेकर 2015 तक कार्यरत थी।

 झारखंड के राज्यपाल के पद के लिए उन्हें साल 2015 में चुना गया और इस पद पर साल 2021 तक कार्यरत रही।

1997  में चुनी गई थी जिला परिषद

 साल 1997 में उड़ीसा के रायरंगपुर जिले से पहली बार इन्हें जिला पार्षद के रूप में चुना गया। यह रायरंगपुर की उपाध्यक्ष भी बनी थी। इसके अलावा इन्हें साल 2002 से लेकर 2009 तक मयूरभंज जिला में भाजपा के अध्यक्ष बनने का भी अवसर मिला था और साल 2004 में यह रायरंगपुर विधानसभा के विधायक बनने में भी कामयाब हुई और आगे बढ़ते बढ़ते साल 2015 में उन्हें झारखंड और आदिवासी बहुल राज्य के राज्यपाल के पद को संभालने का अवसर मिला था।
 
बाबरी मस्जिद की समयरेखा- बनने से लेकर विध्वंस तक, राम जन्मभूमि के बारे में सब कुछ
जाने क्या था खिलाफ़त आन्दोलन – कारण और परिणाम
2021 का ग्रेट रेसिग्नेशन क्या है और ऐसा क्यों हुआ, कारण और परिणाम
जानिए मराठा प्रशासन के बारे में पूरी जानकारी
क्या आप जानते हैं 1857 के विद्रोह विद्रोह की शुरुआत कैसे हुई थी

पुरस्कार
  • द्रौपदी मुर्मू को ओडिशा विधानसभा के द्वारा वर्ष के सर्वश्रेष्ठ विधायक के पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है.
  • वर्ष 2007 में, द्रौपदी मुर्मू को "नीलकंठ पुरस्कार" से सम्मानित किया गया था.

 FAQ


1. द्रौपदी मुर्मू कौन है ?
उत्तर-द्रौपदी मुर्मू भारत की राष्ट्रपति हैं।

2. झारखंड की पहली महिला राज्यपाल कौन थी? 
उत्तर-द्रौपदी मुर्मू।

3.द्रौपदी मुर्मू के पति का क्या नाम था? 
उत्तर-श्याम चरण मुर्मू।

4.द्रौपदी मुर्मू के कितने संतान?
उत्तर-द्रौपदी मुर्मू के 3 संतान हैं 2 पुत्र एवं एक पुत्री। 

5.द्रौपदी मुरमू किस समुदाय से संबंध रखती हैं? 
उत्तर-आदिवासी समुदाय ।

6.द्रौपदी मुर्मू को किस पुरस्कार से सम्मानित किया गया था?
उत्तर- नीलकंठ पुरस्कार ।

8.द्रौपदी मुरमू जिला पार्षद के पद के लिए कब चुनी गई थी? 
उत्तर-साल 1997 में।

सभी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए इन करंट अफेयर को डाउनलोड करें
 
November Current Affair E-Book  DOWNLOAD NOW
October Current Affairs E-book DOWNLOAD NOW
September Month Current affair DOWNLOAD NOW
August  Month Current Affairs 2022 डाउनलोड नाउ
Monthly Current Affairs July 2022 डाउनलोड नाउ
                              

 

Free E Books