ICRISAT प्रधान मंत्री ने अर्ध-शुष्क उष्णकटिबंधीय के लिए अंतर्राष्ट्रीय फसल अनुसंधान संस्थान की 50 वीं वर्षगांठ समारोह का उद्घाटन किया

safalta experts Published by: Chanchal Singh Updated Mon, 07 Feb 2022 04:06 PM IST

Highlights

1.पीएम मोदी ने कहा कि भारत ने 2070 तक अपने शुद्ध शून्य लक्ष्य की घोषणा की है, और जीवन मिशन की आवश्यकता पर भी प्रकाश डाला है।
2.समारोह में प्रो प्लैनेट पीपल मूवमेंट का भी आह्वान किया गया  जो की एक ऐसा आंदोलन है  जो जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए महत्वपूर्ण है।
3. पीएम ने बताया कि सरकार 80 प्रतिशत से ज्यादा छोटे किसानों पर ध्यान दे रही है,  इस साल के बजट में भी प्राकृतिक खेती और डिजिटल एग्रीकल्चर पर काफी जोर दिया गया है।

ICRISAT :प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने हैदराबाद के पाटनचेरु में अर्ध-शुष्क उष्णकटिबंधीय के लिए अंतर्राष्ट्रीय फसल अनुसंधान संस्थान (International Crops Research Institute for the Semi-Arid Tropics - ICRISAT) की 50 वीं वर्षगांठ समारोह का उद्घाटन किया। इस अवसर पर प्रधानमंत्री ने पौधा संरक्षण पर ICRISAT के जलवायु परिवर्तन अनुसंधान केंद्र और रैपिड जनरेशन एडवांसमेंट केंद्र का भी उद्घाटन किया है।

ये दो सुविधाएं एशिया और उप-सहारा अफ्रीका के छोटे किसानों को समर्पित हैं। प्रधान मंत्री ने ICRISAT के विशेष रूप से डिज़ाइन किए गए लोगो का भी उद्घाटन  किया और साथ ही इस अवसर पर जारी एक स्मारक डाक टिकट का शुभारंभ किया। इस स्मारक डाक टिकट का उद्देश्य एशिया और उप-सहारा अफ्रीका में ग्रामीण विकास के लिए कृषि रिसर्च करना है।
Current Affairs Ebook Free PDF: डाउनलोड करे
 

समारोह के दौरान कही गई मुख्य बातें

1.पीएम मोदी ने कहा कि भारत ने 2070 तक अपने शुद्ध शून्य लक्ष्य की घोषणा की है, और जीवन मिशन की आवश्यकता पर भी प्रकाश डाला है।
2.समारोह में प्रो प्लैनेट पीपल मूवमेंट का भी आह्वान किया गया  जो की एक ऐसा आंदोलन है  जो जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए महत्वपूर्ण है।
3. पीएम ने बताया कि सरकार 80 प्रतिशत से ज्यादा छोटे किसानों पर ध्यान दे रही है,  इस साल के बजट में भी प्राकृतिक खेती और डिजिटल एग्रीकल्चर पर काफी जोर दिया गया है।
4. पीएम मोदी ने कहा कि भारत एक तरफ मोटे अनाज का दायरा बढ़ाने की ओर फोकस कर रहे हैं,और किसान केमिकल फ्री खेती पर बल दे रहे हैं, तो वहीं दूसरी तरफ सोलर पंप से लेकर किसान ड्रोन तक आधुनिक टेक्नोलॉजी के उपयोग के लिए सरकार किसानों को प्रोत्साहित कर रही है। 
5. पीएम ने बताया कि अब हम फूड सिक्योरिटी के साथ-साथ न्यूट्रिशन सिक्योरिटी पर ध्यान दे रहे है। इसी विजन के साथ बीते 7 सालों में भारत ने अनेक जैव-फोर्टिफाइड किस्में का विकास किया है.

मुख्य फैक्ट 


ICRISAT मुख्यालय: पाटनचेरु, हैदराबाद;
ICRISAT की स्थापना: 1972;
ICRISAT के संस्थापक: एम.

Source: Safalta

एस. स्वामीनाथन, सी. फ्रेड बेंटले, राल्फ कमिंग्स।
General Knowledge Ebook Free PDF: 
डाउनलोड करें 

Free Demo Classes

Register here for Free Demo Classes

Please fill the name
Please enter only 10 digit mobile number
Please select course
Please fill the email

Free E Books