Pradhanmantri e-Vidya Scheme: क्या है प्रधानमंत्री ई-विद्या योजना? क्यों और किसे लाभ मिलेगा इस योजना से 

safalta experts Published by: Chanchal Singh Updated Mon, 07 Feb 2022 06:45 PM IST

Highlights

आपको बता दें कि इंटरनेट, मोबाइल फोन, टीवी रेडियो के माध्यम से छात्रों को उनकी क्षेत्रीय भाषाओं में उच्च गुणवत्ता वाली ई - शिक्षा सामग्री उपलब्ध होगी।मतलब हर एक क्षेत्र में छात्रों को अपनी क्षेत्रीय भाषा में डिजिटल शिक्षा मिल सकेगी।

Pradhanmantri e-Vidya Scheme:देश में दो साल के कोरोना महामारी के चलते सभी क्षेत्रों में बहुत नुकसान हुआ है, सभी क्षेत्र तो अपना नुकसान का भरपाई कर लेंगे पर शिक्षा का भरपाई कैसे करेंगे, शिक्षा का समय एक बार बीत गया सो बीत गया। इसी पर  वित्त मंत्री ने कहा कि कोरोना महामारी के चलते स्कूल कॉलेज एवं अन्य सभी शैक्षणिक संस्थान लंबे समय तक बंद थे, जिसका प्रभाव हर एक वर्ग के छात्र की शिक्षा पर पड़ा है, चाहे वो शहरी हो या ग्रामीण एक बार को ते शहरी और हाई क्लास परिवार के बच्चे ने ऑनलाइन पढ़ाई कर के अपने वक्त और शिक्षा को बरबाद होने से बचा लिया, लेकिन महामारी के दौरान ग्रामीण क्षेत्र के छात्रों के शिक्षा पर बहुत असर हुआ है इस लिए  वित्त मंत्री ने बजट पेश करते हुए डिजिटल एजुकेशन को बढ़ावा देने के लिए 'पीएम ई-विद्या' योजना की घोषणा की है।

क्या है प्रधानमंत्री ई-विद्या योजना


 केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 01 फरवरी को आम बजट 2022-23 की घोषणा की है, आपको बता दें कि कोरोना काल में दूसरी बार यूनियन बजट डिजिटल माध्यम से पेश किया गया। वित्त मंत्री ने बजट पेश करते हुए डिजिटल एजुकेशन को बढ़ावा देने के लिए 'पीएम ई-विद्या' योजना की घोषणा की है इस योजना में टीवी चैनल के माध्यम से बच्चों को उनके क्षेत्रीय भाषा में ही शिक्षित करेंगे।
Current Affairs Ebook Free PDF: डाउनलोड करे

प्रधानमंत्री ई-विद्या योजना क्यों लागु किया गया


वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा ने कहा कि ज्यादातर सरकारी स्कूलों के बच्चों की शिक्षा कोरोना महामारी के चलते प्रभावित हुई है. ऐसे में मौजूदा समय को देखते हुए शिक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने हेतु पीएम ई-विद्या योजना लागू की जा रही है। इसके तहत वन क्लास वन टीवी चैनल कार्यक्रम में 12 से बढ़ाकर 200 टीवी चैनलों के माध्यम से छात्रों को शिक्षा देने का काम किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि भले ही हर एक क्षेत्र में छात्र इंटरनेट तक नहीं पहुंच पाते, लेकिन टीवी लगभग सभी क्षेत्रों में मौजूद है। आज के समय में सभी घरों में टीवी  की व्यवस्था है इसलिए अब बच्चों को टीवी चैनल के माध्यम से पढ़ाया जाएगा।वित्त मंत्री ने कहा है कि लोग अपनी अपनी क्षेत्रीय भाषाओं में टीवी देखते हैं ऐसे में टीवी चैनल के माध्यम से क्षेत्रीय भाषाओं में शिक्षा प्रदान की जाएगी।

इसके अलावा


वित्त मंत्री ने आगे कहा कि वित्त वर्ष 2022-23 में छात्रों के कौशल ज्ञान को बढ़ावा देने हेतु वोकेशनल कोर्सेज एवं क्रिएटिविटी कोर्स  भी शुरू किए जाएंगे। विज्ञान और गणित भाषा में 750 वर्चुअल लैब एवं 75 कौशल ई-प्रयोगशालाएं शुरू की जाएंगी। जिसके लिए शिक्षक डिजिटल शिक्षा को बढ़ावा देते हुए ऑनलाइन मोड से उपलब्ध होंगे।

आपको बता दें कि इंटरनेट, मोबाइल फोन, टीवी रेडियो के माध्यम से छात्रों को उनकी क्षेत्रीय भाषाओं में उच्च गुणवत्ता वाली ई - शिक्षा सामग्री उपलब्ध होगी।मतलब हर एक क्षेत्र में छात्रों को अपनी क्षेत्रीय भाषा में डिजिटल शिक्षा मिल सकेगी।
General Knowledge Ebook Free PDF: डाउनलोड करें 
 

Free E Books