Statue of Equality: पीएम ने 'स्टैच्यू ऑफ इक्वलिटी' राष्ट्र को समर्पित किया है।

safalta experts Published by: Chanchal Singh Updated Sun, 06 Feb 2022 02:40 PM IST

Highlights

मूर्ति पांच धातुओं से बनी हुई है जैसे - सोना, चांदी, तांबा, पीतल और जस्ता से बना हुआ है।

Statue of Equality:प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 11वीं सदी के भक्ति संत रामानुजाचार्य (saint Ramanujacharya) की स्मृति में हैदराबाद में 216 फीट ऊंची 'स्टैच्यू ऑफ इक्वलिटी' राष्ट्र को समर्पित किया है। प्रतिमा की परिकल्पना श्री रामानुजाचार्य आश्रम के चिन्ना जीयर स्वामी ने किया है। प्रतिमा का उद्घाटन 12-दिवसीय श्री रामानुज सहस्रब्दि समारोह का एक हिस्सा है, जो भक्ति संत की चल रही 1000वीं जयंती समारोह है। कार्यक्रम के दौरान संत के जीवन और उनकी शिक्षाओं पर एक 3डी प्रस्तुति भी दिखाई जाएगी।

मूर्ति की संरचना:

मूर्ति पांच धातुओं से बनी हुई है जैसे - सोना, चांदी, तांबा, पीतल और जस्ता से बना हुआ है। यह दुनिया में बैठी हुई स्थिति में सबसे ऊंची धातु की मूर्तियों में से एक है।
216 फीट ऊंची 'स्टैच्यू ऑफ इक्वलिटी' की प्रतिमा 54 फीट ऊंची बेस बिल्डिंग पर लगाई गई है, जिसे 'भद्र वेदी  कहा जाता है।
इमारत के फर्श एक वैदिक डिजिटल पुस्तकालय और अनुसंधान केंद्र, प्राचीन भारतीय ग्रंथों, एक थिएटर, एक शैक्षिक गैलरी  है।

Source: Safalta

जो श्री रामानुजाचार्य के द्वारा किए गए कार्यों का विवरण देते हैं

दिव्य देशम की उपाधि

स्मारक तिरुमाला, श्रीरंगम, कांची, अहोभिलम, भद्रीनाथ, मुक्तिनाथ, अयोध्या, बृंदावन, कुंभकोणम और अन्य जैसे श्री वैष्णववाद परंपरा  के 108 'दिव्य देशम' से घिरा होगा। देवताओं और संरचनाओं की मूर्तियों का निर्माण मौजूदा मंदिरों में  किया गया था। 

राष्ट्रपति करेंगे मुर्ति का उद्घाटन 

आधार भवन, जो 16.5 मीटर लंबा था, जिसमें एक ध्यान कक्ष था जहां 120 किलो सोने से बनी रामानुजाचार्युलू की 54 इंच की मूर्ति, जो उनके जीवन के प्रतिनिधित्व और मुल्यों को बताती है, मूर्ति का उद्घाटन राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा 13 फरवरी को होगा।

Free Demo Classes

Register here for Free Demo Classes

Please fill the name
Please enter only 10 digit mobile number
Please select course
Please fill the email
उद्घाटन के पहले राष्ट्रपति मुर्ति की पूजा करेंगे फिर उद्घाटन किया जाएगा। पहले आंतरिक गर्भगृह देवता लोगों द्वारा दैनिक पूजा के लिए था ।

Free E Books