Weekly Current Affair, 21 से  27 November तक के करंट अफेयर यहां पढ़े।

safalta expert Published by: Chanchal Singh Updated Sun, 27 Nov 2022 08:52 PM IST

Weekly current affair: अगर आप भी किसी प्रकार के प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं, तो आपके लिए यह लेख बहुत ही महत्वपूर्ण साबित हो सकता है। इसमें हम आज आपके लिए लाए हैं राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय स्तर के करंट अफेयर। जो कि आपके प्रतियोगी परीक्षा के लिए लाभदायक हो सकता है। इस लेख का एक मात्र उद्देश्य यह है कि इस लेख से ज्यादा से ज्यादा प्रतियोगी परीक्षा के लिए तैयारी कर रहे छात्रों की सहायता करना है। वीकली करंट अफेयर के विषय में पढ़ने के लिए नीचे स्क्रोल कीजिए।  अगर आप प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं और विशेषज्ञ मार्गदर्शन की तलाश कर रहे हैं, तो आप हमारे जनरल अवेयरनेस ई बुक डाउनलोड कर सकते हैं   FREE GK EBook- Download Now. / GK Capsule Free pdf - Download here
 
21-11-2022

 

New Election Commissioner, अरुण गोयल कौन हैं, जिन्हें नए चुनाव आयुक्त के रूप में अप्वॉइंट किया गया है

 
New Election Commissioner : अरुण गोयल को भारत के नए चुनाव आयुक्त के रूप में अप्वॉइंट किया गया है।

Free Demo Classes

Register here for Free Demo Classes

Please fill the name
Please enter only 10 digit mobile number
Please select course
Please fill the email
Something went wrong!
Download App & Start Learning

Source: safalta

अरुण गोयल ने सोमवार 21 नवंबर को अपना पदभार ग्रहण किया है। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के मंजूरी के बाद अब अरुण गोयल मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार के साथ चुनाव पैनल के हिस्सा बन गए हैं। रिटायर्ड आईएएस अरुण गोयल को चुनाव आयुक्त की कमान सौंपी गई है, साथ ही कुछ ही दिनों में गुजरात एवं हिमाचल प्रदेश में विधानसभा के चुनाव होने वाले हैं, ऐसे में नए चुनाव आयुक्त अरुण गोयल होने वाले चुनाव में अपनी अहम और मुख्य भूमिका निभाएंगे, इसके अलावा गुजरात एवं हिमाचल प्रदेश के विधानसभा चुनाव शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न करवाना उनकी मुख्य चुनौती एवं जिम्मेदारी होगी।
 

 अरुण गोयल के बारे में

 
अरुण गोयल पंजाब कैडर के 1985 बैच के आईएएस ऑफिसर थे।
उनका रिटायरमेंट दिसंबर 2022 को होने वाला था लेकिन उन्हें सेवा पूरी करने से 1 महीने पहले ही अपने पद से इस्तीफा दे दिया था, इसके साथ ही चुनाव आयुक्त का पद मई 2022 से रिक्त चल रहा था। इस पर अरुण गोयल को अप्वॉइंट किया गया है।
केंद्रीय कानून मंत्रालय की ओर से जारी एक प्रेस नोट के मुताबिक राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने अरुण गोयल को चुनाव आयुक्त के पद के लिए अप्वॉइंट किया है। अरुण गोयल ने 18 नवंबर को स्वैच्छिक रूप से अपने पद से रिटायरमेंट ले ली थी, हालांकि उन्हें 60 साल पूरा होने के बाद 31 दिसंबर 2022 को रिटायर्ड होना था।
गोयल को शनिवार 19 नवंबर को चुनाव आयुक्त नियुक्त किया गया था। 
चुनाव आयुक्त पद का कार्यभार संभालने के बाद वे मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार एवं चुनाव आयुक्त अनूप चंद्र पांडे के साथ इलेक्शन कमीशन की पैनल के हिस्सा होंगे।
मई साल 2022 में मुख्य चुनाव आयुक्त सीईसी के रूप में सुशील चंद्र की रिटायरमेंट के बाद एक पद रिक्त था  जिसमें अब अरुण गोयल को अप्वॉइंट किया गया है।
गोयल इसके पहले भारी उद्योग सचिव के पद का कमान संभाल रहे थे और उन्होंने संस्कृति मंत्रालय में भी अपनी सेवा दी है।
 
 

Mary Tharp Google Doodle,कौन हैं मैरी थार्प जिनका डूडल गूगल ने बनाया है

 
Mary Tharp Google Doodle : गूगल बड़ी हस्तियों को याद करने एवं उन्हें सम्मानित करने के लिए समय-समय पर डूडल बनाता है, वैसे ही आज गूगल ने डूडल के माध्यम से अमेरिकन जियोलॉजिस्ट मेरी थार्प को डूडल के माध्यम से याद किया है। कांग्रेस पुस्तकालय ने  21 नवंबर 1998 में मैरी थार्प को बीसवीं सदी के महान चित्रकारों में से एक का दर्जा दिया था। मैरी थार्प  की उपलब्धियों को जश्न मनाने के लिए गूगल ने एक एनीमेटेड वीडियो बनाया है। मैरी थार्प जियोलॉजिस्ट के साथ ही समुद्र विज्ञान मानचित्रकार भी थी। मैरी ने महाद्वीप बहाव के सिद्धांतों  के बारे में पता लगाया है,  मैरी थार्प ने अपने करियर की शुरुआत साल 1950 से की थी, इस समय तक धरती के बहुत से इलाकों का मैप बनाया गया था लेकिन महासागरों को लेकर किसी के पास कोई खास और अधिक जानकारी नहीं थी। मैरी ने समुद्र के ऊपर काफी रिसर्च किया और समुद्र तल का पहला वर्ल्ड मैप पब्लिश करवाया था। समुद्र तल का पहला वर्ल्ड मैप बनाने में मैरी थार्प का मुख्य भूमिका है और इसे पब्लिश करवाया।
 

 कैसे बनाया गया वर्ल्ड मैप

 
गूगल ने अपने सर्च पेज के माध्यम से यह बताया है कि मैरी थार्प  अपने वर्ल्ड मैप को कैसे बनाया था, मैरी ने अटलांटिक महासागर में महासागर गहराई को लेकर पूरा डाटा इकट्ठा किया, जिसके बाद रहस्यमई समुद्र तल के नक्शे को बनाने के लिए इकट्ठे किए हुए डेटा का प्रयोग कर मैप तैयार किया था। मैरी को इको साउंडर्स के नए कंक्लुजन पता चलता है कि मध्य अटलांटिक रिज की खोज करने में उनको मदद मिली थी और जिसके बाद मैरी थार्प  और हेजेन एक साथ साल 1947 में उत्तरी अटलांटिक में समुद्र तल का पहला नक्शा बनाया था, जिसे नेशनल ज्योग्राफिक के द्वारा थार्प और हेजन के द वर्ल्ड ओशन फ्लोर टाइटल से महासागर  तल के पहले मैप को पब्लिस करवाया था। साल 1995 में मैरी थार्प  ने अपने कलेक्शन किए हुए सभी मैप को लाइब्रेरी ऑफ कांग्रेस को दान में दे दिया था।
 
 

मैरी थार्प के बारे में

 
मैरी थार्प का जन्म 30 जुलाई 1920 को यप्सिलंती,  मिशिगन में हुआ था। थार्प के पिता अमेरिकी कृषि विभाग में कार्यरत थे। मैरी ने मिशिगन यूनिवर्सिटी में पेट्रोलियम विज्ञान में मास्टर की डिग्री के लिए एडमिशन लिया और साल 1948 में न्यूयॉर्क गई। लैमोंट जियोलॉजिकल ऑब्जर्वेटरी में काम करने वाली पहली महिला के नाम पर मैरी थार्प का नाम दर्ज है। 

December Bank Holiday 2022, दिसंबर माह में पड़ने वाले बैंक अवकाश 

 

 December Bank Holiday 2022 : दिसंबर महीने में कुल 13 दिन बैंक बंद रहेंगे, इस हिसाब से अगर आपको बैंक में कुछ काम है तो उसकी शेड्यूलिंग अभी से ही कर लें, कहीं आप बैंक जाए और बैंक बंद न हो। दिसंबर महीने में अगर आपको किसी दिन महत्वपूर्ण काम करना हो या काम पेंडिंग हो तो बैंक की छुट्टियों की लिस्ट जरूर देख लें, जिससे आपको पता चल जाएगा कि आपको कौन से दिन बैंक जाना चाहिए और आपका काम पूरा हो।  ऐसे में अपने समय की बर्बादी को बचाने के लिए बैंक छुट्टियों की लिस्ट देख लें, दिसंबर में चार रविवार के अलावा दूसरा और चौथा शनिवार है, जिस दिन बैंक बंद रहते हैं।
आरबीआई जारी करता है बैंक छुट्टियों की लिस्ट 

छुट्टियों के लिस्ट भारत में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया आरबीआई के द्वारा जारी की जाती है। रिजर्व बैंक पूरे साल की लिस्ट एक बार में ही जारी कर देता है, जिसे देखकर आप छुट्टियों की जानकारी ले सकते हैं। रिजर्व बैंक तीन कैटेगरी में छुट्टी जारी करता है, जिसमें हॉलीडे अंडर नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट एक्ट होता है, हॉलीडे अंडर नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट एक्ट एंड रियल टाइम ग्रॉस सेटेलमेंट हॉलीडे होता है और क्लोजिंग अकाउंट जैसे दिन तीन कैटेगरी के तहत बैंक बंद रहते हैं।

 
 दिसंबर माह में पड़ने वाली छुट्टियों की लिस्ट 

 

3 दिसंबर - सेंट जेवियर फीस्ट (गोवा में बैंक बंद)।

4. दिसंबर - रविवार पूरे देश में बैंक बंद। 

10 दिसंबर - दूसरा शनिवार पूरे देश में बैंक बंद रहेंगे। 

11 दिसंबर - रविवार पूरे देश में बैंक बंद। 

 12 दिसंबर - सोमवार सोमवार - तगान- नेंगमिंजा संगम मेघालय।

 18 दिसंबर  - रविवार पूरे देश में बैंक बंद ।

 19 दिसंबर - सोमवार गोवा लिबरेशन डे गोवा में बैंक बंद रहेगा ।

24 दिसंबर - क्रिसमस और चौथे शनिवार के चलते देश में पूरा बैंक बंद रहेगा ।

25 दिसंबर - रविवार को बैंक बंद रहेगा।  

26 दिसंबर - सोमवार क्रिसमस लासूंग, नामसूंग मेघालय उत्तर पूर्वी भारत  में बैंक बंद। 

29 दिसंबर - गुरुवार- गुरु गोविंद सिंह जयंती चंडीगढ़ में बैंक बंद।

 30 दिसंबर - शुक्रवार-यू कियांग - मेघालय में बैंक बंद। 

31 दिसंबर - शनिवार नए साल के पूर्व संध्या, मिजोरम के सभी बैंक बंद।

 

Important Days In December, दिसंबर माह में पड़ने वाले महत्वपूर्ण दिन और तिथियां

 

Important Days In December : दिसंबर साल का बारहवां और आखिरी महीना होता है, दिसंबर के महीने कई मायनों में महत्वपूर्ण होते हैं, क्योंकि इस महीने कई सांस्कृतिक और धार्मिक महत्व के कारण बनाए जाते हैं। इस महीने में बहुत से ऐसे राष्ट्रीय एवं वैश्विक महत्वपूर्ण दिन तिथि हैं जिसे मनाया जाता है। दिसंबर के महीने के कुछ दिनों को किसी घटना, जयंती की याद में मनाया जाता है। दिसंबर के महीने में ऐसे बहुत से महत्वपूर्ण दिन होते हैं और जिसे उनके उद्देश्यों के साथ मनाते हैं। 
 
 
यह लेख क्यों महत्वपूर्ण है

 छात्रों के आने वाले सरकारी परीक्षा के लिए दिसंबर में आने वाले महत्वपूर्ण दिनों को याद करना बहुत जरूरी होता है। ऐसे में आज के इस लेख में हम आपके लिए विस्तार से दिसंबर महीने के महत्वपूर्ण दिनों को लिस्ट किए हैं। दिसंबर के महीने में बहुत से महत्वपूर्ण दिन और त्यौहार है जिनके बारे में आप इस लेख में  पढ़ेंगे।  GK Capsule Free pdf - Download here

 दिसंबर महीने में महत्वपूर्ण दिनों की सूची 


1 दिसंबर 

विश्व एड्स दिवस - एचआईवी संक्रमण के कारण होने वाले एड्स के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए हर साल 1 दिसंबर को विश्व एड्स दिवस मनाया जाता है।

2 दिसंबर 

विश्व कंप्यूटर साक्षरता दिवस - विश्व कंप्यूटर साक्षरता दिवस हर साल 2 दिसंबर को मनाया जाता है। इस दिन को मनाने का उद्देश्य डिजिटल साक्षरता को बढ़ावा देना और विश्व के कोने से कोने में रहने वाले लोगों तक डिजिटल साक्षरता के पहुंच को बढ़ावा देना है। 

Free Daily Current Affair Quiz-Attempt Now with exciting prize

 2 दिसंबर

 दासता के उन्मूलन का अंतर्राष्ट्रीय दिवस - विश्व स्तर में हर साल 2 दिसंबर को अंतर्राष्ट्रीय दासता उन्मूलन दिवस मनाया जाता है। दासता के उन्मूलन का अर्थ है दासता कानून का निषेध करना  है। 

 3 दिसंबर 

विकलांग लोगों का अंतर्राष्ट्रीय दिवस हर साल 3 दिसंबर को मनाया जाता है। विकलांग व्यक्तियों को मजबूत बनाने के लिए और जीवन में जो कुछ भी वह चाहते हैं उन्हें हासिल करने के लिए प्रेरित करके यह दिन मनाया जाता है। विकलांग लोगों की सहायता के लिए विश्व स्तर पर बहुत से अभियान शुरू किए गए हैं।

 3 दिसंबर

 विश्व प्राकृति संरक्षण दिवस  हर साल जुलाई महीने के 28 तारीख को विश्व स्तर पर मनाया जाता है।  इस दिन को मनाने का उद्देश्य दुनिया भर के लोगों को स्वस्थ रखने के लिए पर्यावरण एवं प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण की आवश्यकता के बारे में जागरूकता फैलाई जाती है।

 4 दिसंबर

नौसेना दिवस - भारत में हर साल 4 दिसंबर को नौसेना दिवस मनाया जाता है। यह देश में भारतीय नौसेना की उपलब्धियों एवं भूमिका को हाईलाइट करने के लिए मनाया जाता है।

 5 दिसंबर 

आर्थिक और सामाजिक विकास के लिए अंतर्राष्ट्रीय स्वयंसेवी दिवस - आर्थिक और सामाजिक विकास के लिए अंतर्राष्ट्रीय स्वयंसेवी दिवस 5 दिसंबर को विश्व स्तर पर मनाया जाता है। संयुक्त राष्ट्र स्वयंसेवक कार्यक्रम 5 दिसंबर को अंतर्राष्ट्रीय स्वयंसेवी दिवस का समन्वय करता है, ना केवल संयुक्त राष्ट्र के स्वयंसेवकों के लिए बल्कि दुनिया भर के सभी स्वयंसेवकों के कार्य को पहचानने और उन्हें प्रोत्साहित करने के लिए यह दिन मनाया जाता है।

 
7 दिसंबर 

सशस्त्र सेना झंडा दिवस -सशस्त्र सेना झंडा दिवस हर साल 7 दिसंबर को मनाया जाता है। साल 1949 से 7 दिसंबर को देश में शहीद एवं वर्दी में पुरुष को सम्मानित करने के लिए सशस्त्र सेना झंडा दिवस मनाया जाता है। जिन्होंने देश के सम्मान और लोगों की रक्षा के लिए सीमा पर अपनी जान दी है और देश के लिए बहादुरी से लड़ाई लड़ी है।

 7 दिसंबर 

अंतर्राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन दिवस हर साल 7 दिसंबर को दुनिया भर के सभी देशों में मनाया जाता है। इस दिन सामाजिक एवं आर्थिक विकास के लिए विमानन के महत्व एवं योगदान को पहचान करने के लिए यह दिन मनाया जाता है।


 9 दिसंबर

भ्रष्टाचार के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय दिवस - दुनिया भर में 9 दिसंबर को आयोजित किया जाता है। इसका उद्देश्य इस दिन को मनाने का उद्देश्य भ्रष्टाचार को पूरी तरह से विश्व स्तर पर खत्म करना है और इसके लिए बहुत से अधिनियम एवं अभियान शुरू किए गए हैं।

 10 दिसंबर 

मानव अधिकार दिवस - हर साल 10 दिसंबर को मानव अधिकार दिवस मनाया जाता है। इस दिन लोगों को उनके अधिकारों के बारे में बताया जाता है।

 
11 दिसंबर

अंतर्राष्ट्रीय पर्वत दिवस - हर साल 11 दिसंबर को अंतर्राष्ट्रीय दिवस मनाया जाता है। यह जीवन के लिए पर्वतों के महत्व के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए मनाया जाता है।

 14 दिसंबर 

अंतर्राष्ट्रीय ऊर्जा दिवस - 14 सितंबर को विश्व स्तर पर ऊर्जा दिवस मनाया जाता है। ऊर्जा की खपत के महत्व और दैनिक जीवन में उपयोग की कमी और वैश्विक ग्लोबल इकोसिस्टम की स्थिरता पर इसके प्रभाव को उजागर करने के लिए यह दिन मनाया जाता है।

 18 दिसंबर 

अंतर्राष्ट्रीय प्रवासी दिवस - हर साल 18 दिसंबर को विश्व स्तर पर अंतर्राष्ट्रीय प्रवासी दिवस मनाया जाता है। यह मानव अधिकारों की सुरक्षा के लिए आयोजित किया जाने वाला दिन है।

 19 दिसंबर

 गोवा मुक्ति दिवस - गोवा मुक्ति दिवस हर साल 19 दिसंबर मनाया जाता है। यह गोवा के इतिहास में सबसे खास और महत्वपूर्ण दिनों में से एक है, 19 दिसंबर को भारतीय सशस्त्र बलों के द्वारा को पुर्तगाली शासन से गोवा को मुक्त कराया गया था एवं भारतीय उपमहाद्वीप की पूर्ण सुरक्षा के लिए यह दिन मनाया जाता है।

 23 दिसंबर 

किसान दिवस - किसान दिवस पूर्व प्रधानमंत्री एवं किसान नेता चौधरी चरण सिंह की जयंती के अवसर पर मनाया जाता है। यह दिन देस के किसानों के महत्व और संघर्ष को उजागर करने के लिए मनाया जाता है।

25 दिसंबर 

क्रिसमस डे - क्रिसमस डे पर हर साल 25 दिसंबर को ईसा मसीह के जन्म दिवस के अवसर पर मनाया जाता है। यह अधिकांश ईसाइयों द्वारा मनाया जाने वाला महापर्व है।

29 दिसंबर 

जैव विविधता दिवस हर साल 29 दिसंबर को मनाया जाता है। साल 2022 में अंतरराष्ट्रीय जैव विविधता दिवस का थीम सभी जीवन के लिए एक साझा भविष्य का निर्माण रखा गया है।

 

22-11-2022

India will host SCO, एससीओ क्या जिसकी मेजबानी साल 2023 में भारत करने वाला है

India will host SCO : भारत शंघाई सहयोग संगठन एससीओ की साल 2022 के लिए आधिकारिक वेबसाइट लॉन्च कर दी है। साल 2023 में भारत ऐसे संगठन के अध्यक्ष के रूप में एससीओ शिखर सम्मेलन की मेजबानी करने वाला है, इस वेबसाइट पर अगले साल होने वाले शंघाई सहयोग संगठन की टीम, कार्यक्रम, आयोजन के विषय में महत्वपूर्ण जानकारियां दी गई है। साइट को खोलते ही आपको अगले साल के लिए एससीओ के बैठक स्थल वाराणसी के विषय में वीडियो के माध्यम से जानकारी दी गई है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने ट्विटर पर कहा है कि एक सुरक्षित ऐससीओ के लिए राष्ट्राध्यक्षों की एससीओ  परिषद की भारत की अध्यक्षता के लिए ऑफिशल वेबसाइट  https://indiainsco.in पर लाइव हो चुका है। ऐससीओ अध्यक्ष के रूप में भारत के विषय में नवीनतम जानकारी, घटनाओं के कैलेंडर एवं दूसरे अन्य अपडेट के लिए वेबसाइट पर जरूरी जानकारियां दी गई है।

 भारत करेगा शंघाई सहयोग संगठन की अध्यक्षता 


साल 2022 में हुए उज्बेकिस्तान  के समरकंद के एससीओ में भारत को अध्यक्षता मिली थी। आने वाले साल 2023 में भारत एससीओ की अध्यक्षता करने वाला है जिसमें अध्यक्ष सहित सदस्य देश के नेता शामिल होंगे । भारत में होने वाला एससीओ 23वां सम्मेलन होगा इसके पहले 22 वां सम्मेलन की अध्यक्षता उज्बेकिस्तान के समरकंद द्वारा साल 2022 में किया गया था। वाराणसी को साल 2022-2023 के लिए शंघाई सहयोग संगठन की पहली पर्यटन एवं कलचरल कैपिटल के रूप में नामित किया गया है। यह निर्णय उज्बेकिस्तान समरकंद में हुए शंघाई सहयोग संगठन के अध्यक्षों की बैठक में लिया गया था। विदेश मंत्रालय के मुताबिक इससे भारत एवं सदस्य देश के बीच पर्यटन सांस्कृतिक एवं मानवीय आदान-प्रदान को बढ़ावा मिलता है। यह निर्णय एससीओ के सदस्य देशों ने, विशेष रूप से मध्य एशियाई गणराज्य के साथ भारत के प्राचीन संबंधों को दिखाता है।  

 इस प्रमुख सांस्कृतिक कार्यक्रम के तहत साल 2022 23 के लिए वाराणसी में इस कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा, जिसमें सभी पेशेवर सदस्य देशों के मेहमान आमंत्रित होंगे, आयोजन में विद्वान, लेखक, संगीतकार और कलाकार, फोटो जर्नलिस्ट, ट्रैवल ब्लॉगर और अन्य अतिथि आमंत्रित होंगे। ऐससीओ सदस्य देशों के बीच संस्कृति एवं पर्यटन के क्षेत्र का आयोजन किया जाता है।

 एसीओ क्या है 


शंघाई सहयोग संगठन जिसे  एससीओ कहा जाता है, यह 8 सदस्य बहुपक्षीय संगठन है, इस संगठन की स्थापना  15 जून 2001 को चीन, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, रूस, उज्बेकिस्तान, तजाकिस्तान के नेताओं द्वारा चीन के राजधानी शंघाई में हुई थी। उज्बेकिस्तान को छोड़कर बाकी सभी देश संघाई फाइव ग्रुप के सदस्य हुआ करते थे, जिसका गठन साल 26 अप्रेल 1996 को सीमावर्ती क्षेत्रों में सैन्य ट्रस्ट को और अधिक गहरा करने की संधि पर साइन किया गया था।

 साल 2001 में शंघाई में वार्षिक शिखर सम्मेलन के दौरान 5 सदस्य देशों ने पहली बार उजबेकिस्तान को शंघाई फाइफ मैकेनिज्म में शामिल किया था, जिसके बाद यह शंघाई सिक्स में बदला जिसके बाद 15 जून साल 2001 को शंघाई सहयोग संगठन की घोषणा पर हस्ताक्षर किया गया। जून 2002 में शंघाई सहयोग संगठन सदस्य देशों के प्रमुख s.c.o. चार्टर पर साइन किया गया जो ऑर्गेनाइजेशन के उद्देश्यों, सिद्धांतों संरचनाओं और संचालन के रूपों में व्याख्या करने के साथ ही इसे इंटरनेशनल लेवल पर स्थापित किया जाता है।


भारत और एससीओ


 साल 2005 जुलाई में अस्ताना शिखर सम्मेलन हुआ था जिसमें भारत को पर्यवेक्षक का दर्जा दिया गया, जुलाई 2015 को रूस ऊफ में हुए एससीओ ने भारत को पूर्ण सदस्य बनाने के लिए निर्णय लिया था। साल 2016 में भारत ने ताशकंद उज़्बेकिस्तान में दायित्व  हस्ताक्षर किए जिसके बाद पूर्ण सदस्य के रूप में एससीओ में शामिल होने की ऑफिशियल प्रोसेस शुरू हुई। अस्ताना में ऐतिहासिक शिखर सम्मेलन के दौरान भारत को ऑफिशियल रूप से पूर्ण सदस्य के रूप में एससीओ में शामिल किया गया।
 

53rd International Film Festival, चिरंजीवी को इंडियन फिल्म पर्सनालिटी ऑफ द ईयर अवार्ड से सम्मानित किया गया

 
 
53rd International Film Festival : 53 वां इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल रविवार 22 नवंबर 2022 को  गोवा में आयोजित किया गया था, जिसमें सुपरस्टार चिरंजीवी को इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में इंडियन फिल्म पर्सनालिटी ऑफ द ईयर अवार्ड साल 2022 से सम्मानित किया गया है. केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने ट्वीट कर चिरंजीवी की फोटो शेयर करते हुए लिखा है कि एक एक्टर डांसर एवं प्रोड्यूसर के रूप में चिरंजीवी अपने फिल्म करियर में डेढ़ सौ से अधिक फिल्मों पर काम किया है। उन्होंने चार दशकों से एक शानदार और सफल कैरियर बनाया है। वह तेलुगू सिनेमा के लोकप्रिय एक्टर्स में से एक हैं और अपने करियर के दौरान उन्होंने दिल छू लेने वाली कई सारे अद्भुत परफॉर्मेंस दी है।
 

 डेढ़ सौ से अधिक फिल्मों पर किया है काम

 
 चिरंजीवी ने अपने फिल्म करियर के दौरान लगभग डेढ़ सौ से अधिक फिल्मों पर काम किया है. यह तेलुगू, तमिल और हिंदी जैसे कई फिल्मों का हिस्सा रहे हैं। इन्होंने साल 1978 में फिल्म पुनाधिरल्लू से अपनी एक्टिंग करियर की शुरुआत की थी। उनकी पहली फिल्म बहुत   सुपरहिट साबित हुई थी, इनके बहुत से  फिल्म बॉक्स ऑफिस पर सक्सेसफुल रही है। पिछले चार दशक यानी 40 साल के करियर में चिरंजीवी को 10 फिल्म फेयर अवार्ड से सम्मानित किया गया है, इसके अलावा इन्हें नंदी अवार्ड से भी नवाजा गया है।
 

 चिरंजीवी के फिल्मों के बारे में

 
चिरंजीवी वर्तमान में अपने 2 फिल्म पर काम कर रहें हैं, वाल्टर वीरय्या और भोला शंकर की रिलीज का इंतजार कर रहे हैं। फिल्म गॉडफादर में चिरंजीवी नजर आए थे, जिसमें सलमान खान के साथ इन्हें काम करने का अवसर मिला था। इसके पहले चिरंजीवी के बेटे राम चरण के साथ उन्होंने फिल्म आचार्य में साथ काम किया था, लेकिन आचार्य फिल्म बॉक्स ऑफिस पर नहीं चली थी,
 

 गोवा में हुआ है फिल्म फेस्टिवल

 
गोवा में इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल 2022 का आयोजन किया गया है। इस फेस्टिवल में इंडियन सिनेमा के 100 साल पूरे होने में मनाया गया है। इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में  कार्तिक आर्यन वरुण धवन मृणाल ठाकुर और अन्य फिल्मी सितारों ने अपनी परफॉर्मेंस से लोगों को एंटरटेन करेंगे।
 

Network Readiness Index, नेटवर्क रेडीनेस इंडेक्स क्या है, और इसमें भारत का स्थान क्या है

 
Network Readiness Index : भारत नेटवर्क रेडीनेस रिकॉर्ड्स साल 2022 का इंडेक्स जारी किया गया है, जिसमें भारत ने 61 वां स्थान बनाया है। जारी किए गए इस नेटवर्क रेडीनेस राशि n.r.i. 2022 में भारत 6 जगहों पर जा रहा है। यह पूरे विश्व की 131 अर्थव्यवस्थाओं के नेटवर्क आधारित  रेडीनेस परिदृश्य को स्पेसिफाई करता है। केंद्रीय संचार मंत्रालय ने इस बात की जानकारी दी है।
 

नेटवर्क रेडीनेस इंडेक्स का मानाक क्या है

 
नेटवर्क रेडीनेस 2022 को तैयार करने में टेक्नोलॉजी, गवर्नेंस एवं उन देशों के लोगों को शामिल किया गया है। इसमें पूरे देश के लोगों को    शामिल किया है,  इस इंडेक्स में टेक्नोलॉजी, गवर्नेंस  सहित 58 वेरिएबल को खबर करने वाले प्रभाव को भी शामिल किया गया है।

 

रैंकिंग में भारत का परफॉर्मेंस क्या था

 
इस रैंकिंग में भारत ने अपने पिछले 6 अंक का सुधार  किया है, साल 2021 में भारत का स्थान 49.74 था जो कि इस बार बढ़कर 51.19 गया है।
 
 इंडेक्स में भारत की पोजीशन के बारे में बात करें तो दूसरे देशों से आगे है। जो सरकार की लक्ष्यों को सही पक्का करता है, जो सरकार की नीतियों एवं योजनाओं को सही ठहराते हैं।
 
 इस इंडक्शन में भारत आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस में पहला स्थान हासिल किया है।
मोबाइल ब्रॉडबैंड इंटरनेट, बैंडविड्थ में भारत ने दूसरा स्थान बना लिया है।
भारत इस इंडेक्स में बहुत अच्छा प्रदर्शन किया है और टेलीकम्युनिकेशन सर्विस में एनुअल इन्वेस्टमेंट के मामले में तीसरा स्थान बनाया है।
 भारत में आईसीटी सेवा निर्यात में चौथे स्थान एवं एआई वैज्ञानिक प्रकाशन में पांचवा स्थान बनाया है।
 
 

 नेटवर्क रेडीनेस इंडेक्स 2022 के टॉप 5 देश कौन से हैं


 

नेटवर्क रेडीनेस इंडेक्स क्या है

 
नेटवर्क रेडीनेस इंडेक्स में देश को के चार ग्रुप में बांटा गया है जिसके तहत इंडेक्स को रैंक करते हुए तैयार किया जाता है। इन कैटेगरी में हाई इनकम कंट्रीज, अपर मिडिल इनकम कन्ट्रीज, लो इनकम कंट्रीज, को बांटा गया है।
 

 नेटवर्क कैसे काम करता है

 
नेटवर्क रेडीनेस इंडेक्स को तीन स्तर के साथ तैयार किया जाने वाला एक कोम्पोजिट इंडेक्स है। प्राइमरी लेवल के चार पिलर होते हैं जो नेटवर्क कांसेप्ट के मूलभूत आयाम को तैयार करने का काम करते हैं। इनकी मदद से दूसरे स्तर के डाटा को तैयार किया जाता है और तीसरे लेवल में प्राथमिक एवं माध्यमिक स्तरों के विभिन्न रूप स्तंभों में व्यक्तिगत संकेतक को शामिल किया गया है
 
 

World Heritage Week, विश्व विरासत सप्ताह कब और क्यों मनाया जाता है

 

World Heritage Week : हर साल विश्व स्तर पर 19 नवंबर से लेकर 15 नवंबर तक विश्व विरासत सप्ताह मनाया जाता है। यह सप्ताह सांस्कृतिक एवं विरासत के संरक्षण को बढ़ावा देने एवं लोगों के बीच संस्कृति और प्राचीन विरासत और धरोहर के महत्व के विषय में जागरूक एवं संरक्षण के लिए   यह सप्ताह मनाया जाता है। अभिलेखागार पुरातत्व और संग्रहालय विभाग यह सप्ताह 19 से 25 नवंबर तक मनाता है। सप्ताह भर चलने वाले इस उत्सव का उद्देश्य परंपराओं एवं संस्कृति के बारे में जन जागरूकता बढ़ाना और लोगों को इसके महत्व के बारे में बताना है।
 
 विश्व विरासत सप्ताह यूनेस्को और कई अन्य इंटरनेशनल ऑर्गेनाइजेशन के द्वारा मनाया जाता है। भारत में विश्व धरोहर सप्ताह भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के द्वारा मनाया जाता है
 

भारत में विश्व विरासत सप्ताह कैसे मनाया जाता है

 
भारत विश्व विकासत सम्मेलन के एक हस्ताक्षरकर्ता होने के नाते भारत विश्व विरासत सम्मेलन की भावना का जश्न मनाने के लिए हर साल विश्व विरासत दिवस 18 अप्रैल, और 19 नवंबर से 25 नवंबर तक विभिन्न पहल के माध्यम से मनाता है। इनमें से कुछ  पहल और कार्यक्रम में टिकट वाले स्मारकों में फ्री एंट्री प्रोवाइड की जाती है।
 
 विश्व विरासत पर कई सारे किताबें पब्लिश करना, पेंटिंग कंपटीशन, विरासत की सैर करवाना इन सभी सम्मेलन और कार्यक्रम के माध्यम से यह सप्ताह भारत में मनाया जाता है।
 
 यूनेस्को के सदस्यों देशों 1972 में विश्व विरासत सम्मेलन को अपनाया था। 191 राज्यों ने भारत सहित इस विश्व विरासत सप्ताह सम्मेलन है भारत सरकार ने देश में विरासत स्थलों को बढ़ावा देकर यह सप्ताह मनाता है। प्राचीन स्मारक और पुरातत्व स्थल एवं अवशेष नियम 1959 के नियम 6 में पुरातत्विक स्थलों के प्रवेश द्वार पर एकत्रित शुल्क के बारे में वर्णन किया गया।
 

 सभी प्रतियोगी परीक्षा से जुड़े महत्वपूर्ण

 
भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के संस्थापक कौन हैं
अलेक्जेंडर कनिंघम 
 
भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण की स्थापना कब हुई थी
वी  विद्यावती, आईएएस
 
 भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण का मूल संगठन कहां है
संस्कृति मंत्रालय
 
 भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण का मुख्यालय कहां है
नई दिल्ली
 
23-11-2022

Hypertrichosis Syndrome, हाइपरट्रिचोसिस सिंड्रोम क्या है जाने विस्तार से
 

Hypertrichosis Syndrome : सामान्य इंसान के शरीर में बालों की ग्रोथ की असामान्य स्थिति को हाइपरट्रिचोसिस कहा जाता है। यह एक तरह का ऐसा सिड्रोंम हैं, हाइपरट्रिचोसिस दो तरह की होती है जिसमें से  एक स्थिति में पीड़ित व्यक्ति के शरीर के कुछ अंगों पर ही बाल आते हैं, तो दूसरी स्थिति में किसी एक निश्चित अंग या एरिया पर बाल आते हैं। हाइपरट्रिचोसिस को वेयरवोल्फ सिंड्रोम के नाम से जाना जाता है। हाइपरट्रिचोसिस होने पर किसी व्यक्ति के शरीर में जानवर के सामान अत्यधिक बालों के ग्रोथ होते हैं। यह सिंड्रोम महिला एवं पुरुष दोनों को प्रभावित कर सकती है, लेकिन यह बहुत दुर्लभ सिंड्रोम है जो लाखों लोगों में एक को होता है। हाइपरट्रिचोसिस जन्म के पहले और बाद, दोनों स्थिति में हो सकती है आइए जानते हैं कि हाइपरट्रिचोसिस के प्रकार क्या हैं,
 
हाइपरट्रिचोसिस के प्रकार
 
जन्मजात हाइपरट्रिचोसिस (Congenital hypertrichosis Lanuginosa)
 
हाइपरट्रिचोसिस सिंड्रोम की इस स्थिति में बच्चा जब जन्म लेता है तभी से उसके शरीर में अत्यधिक बाल देखने को मिलता है। बच्चे के शरीर पर पाए जाने वाले महीन बाल शरीर के अलग-अलग हिस्सों पर दिखाई देने लगते हैं ।
 
कंजेनिटल हाइपरट्रिचोसिस  (Congenital hypertrichosis Terminalis)
 
इस हाइपरट्रिचोसिस सिंड्रोम के इस कंजेनिटल स्थिति में बच्चे के जन्म लेने के साथ ही बाल असामान्य रूप से बढ़ने लगते हैं जो कि पूरे उम्र तक उन बालों का ग्रोथ नहीं रुकता है। यह बाल आमतौर पर लंबे और मोटे होते हैं। जो इस सिंड्रोम से पीड़ित व्यक्ति के पूरे चेहरे को ढक देते हैं,
 
 
 नेवॉइड हाइपरट्रिचोसिस (Nevoid hypertrichosis)
 
हाइपरट्रिचोसिस सिंड्रोम एक ऐसी स्थिति है जिसमें शरीर के किसी भी हिस्से में बालों का पैच दिख सकता है। कई केस में बालों का पैच एक से अधिक जगह पर होता है।
 
 
हर्सुटिज्म (Hirutism):   हाइपरट्रिचोसिस के ये प्रकार महिलाओं में होती है, महिलाओं के शरीर के उन हिस्सों में बहुत ज्यादा बाल आते हैं, जहां पर समान्य रूप से बाल नहीं होते हैं, जैसे छाती चेहरा और पीठ।
 
एक्वायर्ड हाइपरट्रिचोसिस (Acquired Hypertrichosis)
 
 बच्चे के जन्म के समय होने वाले हाइपरट्रिचोसिस सिंड्रोम के विपरीत यह स्थिति जीवन कभी भी बन सकती है। इस टाइप के हाइपरट्रिचोसिस में  पेट में छोटे-छोटे  मखमल जैसे बाल आते हैं। यह किसी भी व्यक्ति के जीवन काल में कभी भी हो सकता है।
 

हाइपरट्रिचोसिस का क्या कारण है

 
हाइपरट्रिचोसिस  का कारण अभी तक डॉक्टर और एक्सपर्ट समझ नहीं पाए हैं, लेकिन यह एक तरह की बीमारी है जो जैनेटिक भी हो सकती है। हाइपरट्रिचोसिस  के संभावित कारण हो सकते हैं, कुपोषण या फिर ईटिंग डिसऑर्डर, एनोरेक्सिया नर्वोसा, कैंसर, कुछ ऐसे दवाई का साइड इफेक्ट जैसे एंड्रोजेनिक स्टेरॉयड के स्थिति में होता है।
 

 
क्या भारत में कोई इस सिंड्रोम से पीड़ित है
 

भारत में एक बच्चा ऐसा है जिसे हाइपरट्रिचोसिस सिंड्रोम है ,उसके चेहरे में इतने अधिक बाल हैं कि चेहरे का स्किन नहीं दिखता है और वह किसी जानवर की भांति दिखता है। मध्यप्रदेश के छोटे से गांव नंदलेटा का रहने वाला  यह 17 साल का है, इस सिंड्रोम से पीड़ित है जिसके कारण उसके चेहरे पर बहुत ज्यादा बाल हैं। इस लड़के का नाम ललित पाटीदार है जो कि मिडिल क्लास फैमिली से आता है।
 

53 hours Challenge, क्रिएटिव माइंड्स ऑफ टुमॉरो पहल क्या है जाने विस्तार से 

 
 
53 hours Challenge : आईएफएआई में देश भर के 18 से 35 साल के 75 युवा फिल्मकार 53 घंटे में शॉर्ट फिल्म बनाकर दिखाने के प्रयास करेंगे कि आजादी के 24 साल में भारत की तस्वीर कैसी होगी, भविष्य में भारत की प्रगती कैसी होगी, केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने सोमवार को 75 क्रिएटिव माइंड्स ऑफ टुमारो पहल के दूसरे एडिशन 53 ऑवर चैलेंज को लॉन्च किया है। इस प्रोग्राम का आयोजन 53 वें आईएफएआई (भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव) गोवा के साथ किया गया है, युवाओं को कंपटीशन के माध्यम से एक हजार से ज्यादा एप्लीकेशन चुना गया है। विजेताओं को बधाई देते हुए केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने यह कहा है कि उम्मीद है कि राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय सिने दिग्गजों के मास्टर क्लास से आप सभी का हुनर और भी ज्यादा निखरेगा और कामयाबी  की ऊंचाइयों को छू लेंगे। इस पहल को शॉर्ट्स टीवी सहयोग से नेशनल फिल्म डेवलपमेंट कॉरपोरेशन ने समर्थन किया है। 

युवाओं को प्रोत्साहित किया जा रहा है


 75 क्रिएटिव माइंड्स ऑफ टुमॉरो पहल के माध्यम से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रेरणा को बताते हुए केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा है कि इसके माध्यम से सिनेमा, रचनात्मक और संस्कृति के प्रेम शेयर करने वाले सशक्त व्यक्तियों का एक कम्युनिटी डिवेलप हो रहा है, जो कि सिनेमा एवं फिल्म उद्योग के भविष्य में अपना अहम और मुख्य योगदान देंगे। इस पहल के माध्यम से युवाओं को प्रोत्साहित किया जा रहा है कि वह अपने फिल्म करियर को बूस्ट करें।

हैडिनलेंटू व शो मस्ट गो ऑन से आगाज


 आईएफएफआई के इंडियन पैनोरमा खंड का आगाज हैडिनलेंटू फीचर व द शो मस्ट गो ऑन फीचर के प्रदर्शन से हुआ है। इंडियन पैनोरमा ग्रेट कैटेगरी में इस बार 25 फीचर एवं 20 गैर फीचर फिल्मों को चुना गया है, हैडिनलेंटू  के डायरेक्टर पृथ्वी कोनानूर ने यह कहा है कि फिल्म शहरी समाज में किशोरों के सामने आने वाली संवेदनशील मुद्दों एवं चुनौतियों से ओतप्रोत है। वैसे ही द शो मस्ट गो ऑन की निर्देशक दिव्या कौवासजी ने यह बताया है कि उनकी फिल्म दशकों की निष्क्रियता के बाद पारसी रंगमंच के पुराने कलाकारों  के आखरी प्रस्तुति के लिए मंच पर लौटने की कहानी उनके फिल्म के माध्यम से बताई गई है।


 चिरंजीवी को मिला इंडियन फिल्म पर्सनालिटी ऑफ द ईयर ऑवार्ड 


 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तेलुगू अभिनेता चिरंजीवी को आईएफएफआई में इंडियन फिल्म पर्सनालिटी ऑफ द ईयर से सम्मानित होने के बाद बधाई दी है और पीएम मोदी ने ट्वीट किया है कि चिरंजीवी गारू शानदार हैं, उनके शानदार काम विविध भूमिका एवं निराले स्वभाव ने उन्हें पीढ़ियों से फिल्म प्रेमियों का चहेता और बनाया है। केंद्रीय सूचना ब्यूरो ने स्वतंत्रता आंदोलन और सिनेमा की विषय पर प्रदर्शनी लगाई है, सबसे ज्यादा रोमांचक अनुभव वर्चुअल रियलिटी के माध्यम से काकोरी कांड को देखना रहा है।
 
 
 

 Russia Supplier of Fertilizers to India, रूस बना भारत का सबसे बड़ा फर्टिलायजर सप्लायर जाने इसके कारण के बारे में 

 
Russia Supplier of Fertilizers to India : रूस पहली बार भारत के सबसे बड़े  फर्टिलाइजर सप्लायर बन गया है,  रशियन एक्सपोर्टर ने कथित तौर पर यह कहा है कि साल 2022 में फाइनेंशियल ईयर के पहली छमाही में भारतीय उर्वरक बाजार का 21 परसेंट हिस्सा पर कब्जा कर लिया गया है, जो पहले भारत के सबसे बड़े सप्लायर चीन से आगे निकल गया है।

 इस लेख के मुख्य बिंदु 

 
अप्रैल से अक्टूबर तक रूसी एक्सपोर्टर कथित तौर पर 371 परसेंट बढ़कर 2.15 मिलियन टन हो गया है।  मॉनिटरी संदर्भ में कहे तो इस समय में भारत का इंपोर्ट 765 परसेंट बढ़कर 1.6 मिलीयन डॉलर हो गया है। पिछले फाइनैंशल इयर के दौरान भारतीय फर्टिलाइजर इंपोर्ट में रूसी की हिस्सेदारी लगभग 6 परसेंट थी जबकि चीन की हिस्सेदारी 24 परसेंट थी, साल 2022 देश की पहली छमाही में बढ़ती रूसी सप्लाई के बीच भारत का चीन से निर्यात आधा होकर 1.78 मिलियन टन हो गया।

वैश्विक उर्वरक कीमतों के बारे में 


अमेरिका यूरोपीय संघ और संबंध राज्यों द्वारा रूस और बेलारूस से फर्टिलाइजर सप्लाई के लिए प्रतिबंध लगाने के बाद मार्च में उर्वरक की वैश्विक कीमतों मैं बढ़ोतरी बढ़ोतरी हुई है, जबकि पश्चिमी देश प्रतिबंध से पीछे हट गए हैं और उसको अपने एक्सपोर्ट के लिए नए बाजार मिल गए हैं, जो कि ज्यादातर एशिया में ही हैं।

 फर्टिलाइजर प्रोडक्शन के बारे में 


 संयुक्त, रूस और बेलारूस ने पिछले साल पोटाश के वैश्विक निर्यात एक्सपोर्ट में 40% से अधिक का योगदान दिया था, रूस अमोनिया के वैश्विक एक्सपोर्ट का लगभग 22 परसेंट दुनिया के यूरिया एक्सपोर्ट का 14 परसेंट और मोनोअमोनिया फॉस्फेट का लगभग 14 परसेंट सभी प्रमुख प्रकार के फर्टिलाइजर के लिए जिम्मेदार है।

 भारत का फर्टिलाइजर इंपोर्ट 


जून में भारत ने लागत और माल ढुलाई के आधार पर रूस से 920 से $925 प्रति टन पर डाई अमोनिया फॉस्फेट हासिल किया था, जब अन्य एशियाई देश  खरीदार $1000 से अधिक का भुगतान कर रहे थे।  रूसी सप्लाई में बढ़ोतरी ने साल 2022-23 की पहली छमाही में भारत को चीन के निर्यात को आधा करके 1.78 मिलियन टन कर दिया है।


 जॉर्डन मिस्त्र एवं संयुक्त अरब अमीरात जैसे अन्य गंतव्य से निर्यात एक्सपोर्ट भी गिर गया है, साल 2021 - 22  फाइनैंशल इयर में भारतीय आयात में रूस की हिस्सेदारी लगभग 6% थी जबकि चीन की हिस्सेदारी 24 परसेंट थी। साल 2022-23 की पहली छमाही में रूसी बाजार हिस्सेदारी बढ़ाकर 21 परसेंट हो गई  जो कि अब भारत को  सबसे बड़े सप्लायर के रूप में चीन से आगे निकल गई है। 
 

 

Manipur Sangai Festival, मणिपुर शंगाई महोत्सव क्या है, जाने इसके बारे में विस्तार से

 
Manipur Sangai Festival : मणिपुर में हर साल 21 से 30 नवंबर तक मणिपुर संगाई महोत्सव का आयोजन किया जाता है। इस महोत्सव का नाम केवल मणिपुर में पाए जाने वाले मृग संगाई हिरण के नाम पर इस महोत्सव का नाम रखा गया है। इसकी शुरुआत साल 2010 में हुई थी और अब यह महोत्सव दुनिया में मणिपुर की समृद्धि परंपरा और संस्कृति का प्रदर्शन करने का सबसे बड़ा मंच बन गया है। इस महोत्सव का आयोजन राज्य पर्यटन विभाग द्वारा हर साल किया जाता है एवं जो कि पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए आयोजित किए जाने वाले सबसे बड़े महोत्सव में से एक है।  

मणिपुर संगाई महोत्सव का उद्देश्य 


मणिपुर संगाई महोत्सव का आयोजन राज्य के संस्कृति, परंपरा, कला और पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए किया जाता है। इंफाल के हपता कांगजेइबुंग में उत्सव का औपचारिक प्रदर्शन किया जाएगा।

 इस लेख से जुड़े संबंधित फैक्ट 


21 से 30 नवंबर तक हर साल मणिपुर संगाई महोत्सव का आयोजन किया जाता है 
इस संगाई महोत्सव का नाम मणिपुर में पाए जाने वाले खास तरह के मृग संगाई हिरण के नाम पर रखा गया है।
संगाई हिरण मणिपुर राज्य का राजकीय पशु है। 
इस महोत्सव का प्रारंभ सबसे पहले साल 2010 में हुआ था।
 साल 2022 में यह संगाई महोत्सव अपना 13 वां संस्करण मनाएगा। 
 वर्तमान में यह विश्व में मणिपुर की समृद्ध परंपरा  एवं संस्कृति का प्रदर्शन करने का एक बड़ा मंच है।
 इस महोत्सव का आयोजन राज्य पर्यटन विभाग द्वारा किया जाता है।
 

International Day for the Elimination of Violence against Women, महिलाओं के खिलाफ हिंसा के उन्मूलन का अंतर्राष्ट्रीय दिवस कब मनाया जाता है, जानें विस्तार से

 

International Day for the Elimination of Violence against Women : हर साल 25 नवंबर को विश्व स्तर पर संयुक्त राष्ट्र महिलाओं के खिलाफ हिंसा के उन्मूलन का अंतर्राष्ट्रीय दिवस मनाया जाता है, ताकि दुनिया भर में हो रहे महिलाओं एवं लड़कियों के साथ हिंसा और  दुर्व्यवहार के बारे में अधिक से अधिक जागरूकता बढ़ाई जाए और महिलाओं के खिलाफ हो रहे हिंसा को रोका जा सके। महिलाओं के खिलाफ हिंसा के उन्मूलन का अंतर्राष्ट्रीय दिवस का उद्देश्य है महिलाओं एवं लड़कियों के खिलाफ हिंसा को रोकने एवं उसका जवाब देने  के अलावा लोगों को महिलाओं के बुनियादी मानव अधिकारों और लैंगिक समानता के विषय में जागरूक एवं शिक्षित करना है ताकि महिलाओं के खिलाफ हो रहे हिंसा को रोका जा सके।

 UNiTE अभियान क्या है 


 UNiTE अभियान महिलाओं के खिलाफ हो रहे हिंसा के उन्मूलन के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस के पालन को चिन्हित करना है, संयुक्त राष्ट्र महासचिव की 2030 तक  UNiTE अभियान की शुरुआत महिलाओं के खिलाफ  कि महिलाओं के खिलाफ हिंसा को समाप्त करने के लिए इस अभियान को 2008 में शुरू किया था।


 इस अभियान का लक्ष्य क्या है 


दुनिया भर में महिलाओं एवं बालिकाओं के खिलाफ हिंसा को रोकना और इसका उन्मूलन करना है। महिलाओं के खिलाफ हो रहे दुर्व्यवहार और हिंसा को लेकर जन जागरूकता बढ़ाना एवं चुनौतियों और समाधान पर चर्चा के अवसर पैदा करने के लिए वैश्विक कार्रवाई का आवाहन करना है। साल 2008 में  UNiTE अभियान की शुरुआत संयुक्त राष्ट्र के महासचिव बान की मून के द्वारा शुरू किया गया था। यह एक बहु वर्षीय प्रयास है। साल 2008 से  UNiTE अभियान का नेतृत्व संयुक्त राष्ट्र महासचिव एवं संयुक्त राष्ट्र महिला संस्था के द्वारा किया जाता है।

 लिंग आधारित हिंसा के खिलाफ 16 दिन की सक्रियता 


हर साल महिलाओं के खिलाफ हिंसा के उन्मूलन के लिए अंतरराष्ट्रीय दिवस लिंग आधारित हिंसा के खिलाफ 16 दिन की सक्रियता अंतर्रष्ट्रीय अभियान है। यह एक अंतर्राष्ट्रीय अभियान है जिसके तहत 25 नवंबर को शुरू होता है और 10 दिसंबर को समाप्त होता है। जिस दिन विश्व स्तर पर अंतर्राष्ट्रीय मानव अधिकार दिवस मनाया जाता है। 


25 नवंबर को ही महिलाओं के खिलाफ हिंसा के उन्मूलन का अंतर्राष्ट्रीय दिवस क्यों चुना गया 


25 नवंबर को मीराबल बहनों (पेट्रिया, मिनर्वा और मारिया टेरेसा को सम्मानित करने के लिए 25 नवंबर का दिन चुना गया, जो कि राजनीतिक कार्यकर्ता थीं। साल 1960 में  राफेल जिओ के आदेश से इन तीनों की हत्या करवा दी गई थी, इन्हीं के याद में महिलाओं के खिलाफ हिंसा के उन्मूलन का अंतर्राष्ट्रीय दिवस मनाया जाता है।

संयुक्त राष्ट्र महिला के बारे में 


संयुक्त राष्ट्र महिला संयुक्त राष्ट्र की ऐसी यूनीट है जो कि लैंगिक समानता एवं महिलाओं के एंपावरमेंट को लेकर समर्पित है।
संयुक्त राष्ट्र  महिला कार्यकारी निदेशक सीमा सामी बहोस  है। 
संयुक्त राष्ट्र महिला का मुख्यालय न्यू यॉर्क सिटी यूनाइटेड स्टेट्स ऑफ अमेरिका में स्थित है।
 

 
TRAI Report Released, TRAI भारतीय दूरसंचार सेवा प्रदर्शन संकेतक रिपोर्ट क्या है, जानें विस्तार से

TRAI Report Released : भारतीय दूरसंचार विनियामक प्राधिकरण ट्राई (Telecom Regulatory Authority of India TRAI) ने 30 जून 2022 को समाप्त हुई तिमाही के लिए भारतीय दूरसंचार सेवा प्रदर्शन संकेतक रिपोर्ट को जारी कर दिया है। इस रिपोर्ट में भारत में दूरसंचार सेवाओं के एक व्यापक  पर्सपेक्टिव प्रोवाइड करती है और 1 अप्रैल साल 2022 से 30 जून तक की अवधि के लिए भारत में टेलीकॉम सर्विस के साथ-साथ केवल टीवी, डीटीएच और रेडियो ब्रॉडकास्टिंग सर्विस के प्रमुख मापदंडों एवं विकास के रुझान को प्रेजेंट करती है। साल 2022 मुख्य रूप से सर्विस प्रोवाइडर द्वारा दी गई जानकारी के आधार पर कंपाइल्ड किया गया है।

 भारत में टेलीफोन के ग्राहक 

भारत में टेलीफोन के ग्राहकों की संख्या 22 मार्च के अंत में 1166.93 मिलियन से बढ़कर 22 जून के अंत तक 1172.96 मिलियन हो गई है, जो कि पिछली तिमाही की तुलना में 0.52% की बढ़ोतरी दर्ज की है। पिछले साल की तिमाही की तुलना में साल दर साल 2% की गिरावट को दर्शाता है। भारत में समग्र टेली घनत्व 22 मार्च 2022 को समाप्त तिमाही में 84.88% से बढ़कर जून 2022 को समाप्त तिमाही में 85.13 परसेंट हो गई है।
 

Startup India App, स्टार्टअप इंडिया ने एप किया लॉन्च, जानें इसके बारे में विस्तार से  


Startup India App : भारत में बढ़ते स्टार्टअप कल्चर को ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार इसे और अधिक बढ़ावा देने के लिए लगातार कुछ ना कुछ नए प्रयास कर रही है। सरकार योजनाओं और पहल के माध्यम से स्टार्टअप कल्चर को भारत में मजबूत करने एवं तेजी लाने के लिए वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के अंतर्गत उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग डीपीआईआईटी ने स्टार्टअप इंडिया द्वारा MAARG पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन के लिए स्टार्टअप एप्लीकेशन को लॉन्च किया है। वर्तमान में विश्व भर में 3 स्थान का बीज भारतीय स्टार्टअप इकोसिस्टम को बढ़ावा देने के लिए इस पोर्टल की शुरुआत की है।

 स्टार्टअप संस्कृति के लिए कैसे फायदेमंद है 


यह ऐप स्टार्टअप इंडिया, स्टार्टअप कलचर को बढ़ावा देने एवं भारत में इनोवेशन एवं एंटरप्रेन्योरशिप के लिए एक मजबूत एवं समावेशी इको सिस्टम बनाने के लिए केंद्रित है। इस संदर्भ में MAARG पोर्टल  टाउनशिप, एडवाइजरी असिस्टेंट, रिलायंस एंड ग्रोथ विभिन्न क्षेत्रों कार्यों चरणों एवं बैकग्राउंड में स्टाफ के लिए मेंटरशिप की सुविधा देने के लिए वन स्टॉप प्लेटफार्म है। इस प्लेटफार्म के माध्यम से स्टार्टअप कंपनी को एक नई बूस्ट मिलेगी, उन्हें स्टार्टअप कंपनी से जुड़े जानकारी के लिए अलग-अलग जगह भटकना नहीं पड़ेगा।  उनके आवश्यकता की सभी जानकारी इस ऐप और प्लेटफार्म में मिल जाएगी।  

MAARG पोर्टल क्या है 


देश में भारत में स्वरोजगार को बढ़ावा देने के लिए स्टार्टअप कंपनी को सरकार द्वारा समर्थन और बढ़ावा दिया जा रहा है। इसके लिए लांच किए गए MAARG पोर्टल का उद्देश्य उनके लाइफ साइकिल के दौरान गाइडलाइन, हैंडहोल्डिंग एवं हेल्प फ्राइड करना है। ये स्टेज स्टार्टअप शुरू करने के लिए सलाहकारों को सुविधा भी प्रोवाइड करता है। इंगेजमेंट को समय पर करने की अनुमति देता है।


 आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और स्टार्टप


स्टार्टप कंपनी के विकास एवं रणनीति पर व्यक्तिगत गाइडलाइन के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस बेस्ट मैच मेकिंग के माध्यम से उद्योग विशेषज्ञों संस्थापकों, अनुभवी निवेशकों  एवं दुनियाभर के अन्य विशेषज्ञों के साथ प्रभावी ढंग से इस पोर्टल के माध्यम से जुड़ सकते हैं। पोर्टल की प्रमुख विशेषताओं में इको सिस्टम के लिए कस्टमाइजेबल यूजर इंटरफेस के योगदान के लिए पहचान एवं ऑडियो कॉल ऑप्शन शामिल है।


 पोर्टल को तीन चरणों में किया जा रहा है संचालन


संचालन के लिए बनाया गया MAARG पोर्टल का संचालन तीन चरणों में किया जा रहा है। इसके पहले चरण में ऑनबोर्डिंग किया जा रहा है, जिसके तहत स्टार्टअप सक्सेसफुली लॉन्च और एग्जीक्यूट करने की प्रोसेस दी जाएगी। इस चरण में सभी क्षेत्रों में लगभग 400 परामर्शदाता और एक्पर्ट्स को भी शामिल किया गया है।

 दूसरे चरण में स्टार्टअप ऑनबोर्डिंग किया जा रहा है। इस चरण के लिए डीपीआईआईटी 14 नवंबर 22 मार्च की शुरू करेगा कर रहा है।

तीसरे चरण में मार्ग पोर्टल लांच और मीटिंग की प्रक्रिया की जा रही है। जिसके तहत लांच से मिलने - मिलान किया जाएगा डीपीआईआईटी ने दूसरे चरण के तहत की ऑनबोर्डिंग प्रोसेस शुरू की है।

 भारत में स्टार्टअप के बारे में


 इनोवेशन देश के डेवलपमेंट के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। भारत में अकेले 82 हजार से अधिक डीपीआईआईटी मान्यता प्राप्त और 107 से अधिक यूनिकॉर्न का घर है। तेजी से बढ़ रही स्टार्टअप कंपनी के ग्रोथ एंड डेवलपमेंट के लिए केंद्र सरकार विभिन्न पहल एवं योजना के माध्यम से स्टार्टअप कंपनी को सपोर्ट कर रही है।

 

25-11-2022

 

World Environmental Protection Day, विश्व पर्यावरण संरक्षण दिवस (26 नवम्बर) क्यों मनाया जाता है जानें विस्तार से

 

World Environmental Protection Day : हर साल विश्व स्तर पर 26 नवंबर को विश्व पर्यावरण संरक्षण दिवस मनाया जाता है। इस दिन को मनाने का उद्देश्य पर्यावरण को संतुलित करने के लिए लोगों के बीच जागरूकता बढ़ाना और पर्यावरण संतुलन और सकारात्मक कदम उठाने के लिए मनाया जाता है, साल 1992 में पर्यावरण संरक्षण दिवस मनाने की शुरुआत हुई थी। पर्यावरण संरक्षण कार्यक्रम एक अंतर्राष्ट्रीय स्तर का कार्यक्रम है, यह पूरे विश्व द्वारा मनाया जाता है और पर्यावरण के संरक्षण और बचाव के लिए लोगों को अधिक से अधिक जागरूक की जाती है।
 

 पर्यावरण की परिभाषा क्या है या पर्यावरण किसे कहते हैं

 
साधारण तौर पर और आम बोलचाल की भाषा में पर्यावरण का अर्थ है हमारे चारों ओर का वातावरण जहां हम रहते हैं और जिसमें निहित तत्व एवं उस में रहने वाले लोगों से हैं। पर्यावरण में हमारे चारों और उपस्थित हवा, पानी, पशु, पक्षी, पेड़ पौधे और हम, इन सभी से मिलकर पर्यावरण बना है और इन सभी का संरक्षण करने के लिए 26 नवंबर को पर्यावरण संरक्षण दिवस मनाया जाता है। जिस प्रकार हम अपने पर्यावरण से प्रभावित होते हैं, वैसे ही हमारे द्वारा किए गए कार्यों से पर्यावरण भी प्रभावित होते हैं।
 
पर्यावरण को संरक्षित क्यों करना चाहिए
 
जैसे लकड़ी काटने के लिए जंगल समाप्त करना, सुविधा और सहूलियत के लिए सड़कों पर भारी मात्रा में वाहन का चलना। सिवेज और गारबेज को नदियों में प्रवाहित करवाना, शहरों एवं महानगरों में बने फैक्ट्री निकले वाली गर्म और विषैली कार्बन डाइऑक्साइड पर्यावरण के तापमान को गर्म कर रही है। जिस प्रकार जंगल के समाप्त होने से पेड़ पौधे नष्ट हो रहे हैं, उसके साथ ही जंगल में रहने वाले पशु पक्षी भी प्रवास कर रहे हैं और धीरे धीरे इनकी प्रजाति विलुप्त होते जा रहे हैं। जंगल को समाप्त करने पर भले ही मनुष्य को थोड़ी देर का फायदा मिल रहा है, लेकिन धीरे-धीरे इसका असर लोगों के स्वास्थ्य एवं जीवन भरी पड़ रहा है। इसके साथ ही धीरे-धीरे भविष्य में अगर पेड़ पौधे ही नहीं रहेंगे तो मनुष्य का जीवन कठिन हो जाएगा। इसी डर से और पर्यावरण के बचाव के लिए पर्यावरण संरक्षण दिवस मनाया जाता है और इसके तहत कई पहल और कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है, ताकि पर्यावरण को संरक्षित किया जा सके।
 
 पर्यावरण प्रदूषण के क्या प्रकार हैं
 
पर्यावरण में जल
थल  प्रदूषण
वायु  प्रदूषण
ध्वनि प्रदूषण
जल प्रदूषण
 
प्रदूषण के क्या कारण हैं,
 
 कारखानों एवं गाड़ियों से निकलने वाला धुआं, नदी तालाब में गंदे पानी और गार्बेज को डालना, घर उद्योग की गंदगी को खुले में फेंकना, लाउडस्पीकर को तेज साउंड में करना।
 
 पर्यावरण प्रदूषण को रोकने के क्या उपाय हैं
 
 सबसे प्रमुख उपाय की बात करें तो वह है जनसंख्या  नियंत्रण , कारखानों से निकलने वाली धुंआ को कंट्रोल करने के लिए शहर से दूर और ऊंचाई पर चिमनी को बनाना चाहिए ताकि धुआं ऊपर की ओर उड़े ना कि नीचे में पृथ्वी में रहने वाले लोगों के करीब, 2 पहिया वाहन में ऑयल डालें और समय-समय पर सर्विसिंग करवाते रहें, ताकि गाड़ी धुंआ ना छोड़े, अधिक से अधिक वृक्षारोपण करें और कचरे को कचरे के डिब्बे में ही डालें, आसपास स्वच्छता बनाए रखें, तकनिक की बात करें तो अभी तक ऐसे किसी प्रकार के टेक्नोलॉजी का निर्माण नहीं किया गया है, जिससे पर्यावरण प्रदूषण को कंट्रोल किया जा सके या फिर काबू पाया जा सके, लेकिन मनुष्य अपने छोटे से छोटे प्रयास कर इन समस्या को कम जरूर कर सकते हैं। यह कुछ उपाय हैं जिससे आप पर्यावरण को संरक्षित कर सकते हैं और प्रदूषण पर काबू पा सकते हैं।
 
 आज तक जो फैक्ट्री और कारखाने स्थापित किए गए हैं, उन्हें दूसरी जगह शिफ्ट नहीं कर सकते हैं, लेकिन सरकार को इस इस बात का ध्यान रखना होगा कि नए कारखाने खुले वह शहर के दूर में स्थापित किया जाए ताकि प्रदूषण लोगों को इफेक्ट ना करें।
 
 व्यक्ति जितना हो सके उतना अपने आसपास के प्रदूषण पर काबू पा सकता है। इसके लिए वह कम से कम वाहन का उपयोग करके, पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल करें, साथ ही अपने आसपास के गारबेज कचरे को डस्टबिन में डालें और हर जगह कचरा ना फैलाएं।
 
जंगलों की कटाई पर पूरी तरह रोक लगाई जाए और नए पेड़ों का वृक्षारोपण किया जाए जो लोग पेड़ लगा रहे हैं उन्हें रिवॉर्ड दिया जाए।
 
कारखाने के हानिकारक पदार्थ को रिफ्रेश करके उसे दोबारा उपयोग करना चाहिए।
 
नदियों एवं तालाबों में गार्बेज वेस्ट को न ही फेंकना चाहिए और बहाना।

 

 

National Milk Day, दुग्ध दिवस कब और क्यों मनाया जाता है

 

National Milk Day : हर साल भारत में 26 नवंबर को राष्ट्रीय दुग्ध दिवस मनाया जाता है। यह एक राष्ट्रीय स्तर दिवस है जोकि 2014 से मनाया जा रहा है। भारत में श्वेत क्रांति के जनक डॉ वर्गीज कुरियन के जन्म दिवस के अवसर पर राष्ट्रीय  दुग्ध दिवस मनाया जाता है। साल 2014 में भारतीय डेयरी एसोसिएशन आईडीए ने पहली बार इस दिन को मनाने के लिए पहल की थी। पहला राष्ट्रीय दुग्ध दिवस 26 नवंबर 2014 को मनाया गया जो कि भारत में श्वेत क्रांति के जनक डॉ वर्गीज कुरियन का जन्म अवसर था, जिसमें 22 अलग-अलग राज्यों ने दूध उत्पादकों ने भाग लिया था। संयुक्त राष्ट्र द्वारा हर साल 1 जून को विश्व दुग्द दिवस मनाया जाता है। यह अंतरराष्ट्रीय दिन है, भारत में 2 सालों से यानी 2014 से लेकर 2016 में दूध की उत्पादन परसेंट बड़ी है, जिसमें प्रति व्यक्ति दूध की उपलब्धता साल 2013-14 के 307 ग्राम प्रत्येक दिन बढ़कर, 2015-16 में 340 ग्राम प्रतिदिन हो गई है। 1998 में संयुक्त राज्य अमेरिका को भारत में दूध के प्रोडक्शन में पीछे पछाड़ दिया था। भारत दुनिया का सबसे बड़ा दूध उत्पादक देश है।

 दुग्ध दिवस क्यों मनाया जाता है 


राष्ट्रीय दुग्ध दिवस और दूध उद्योगों से संबंधित गतिविधियों के विषय में एवं लोगों में आजीवन दूध और दूध उत्पादकों के महत्व को बताने के लिए और दुग्ध व्यापार के क्षेत्र में कार्यरत व्यक्तियों को सम्मानित करने के लिए यह दिन मनाया जाता है। 

राष्ट्रीय दुग्ध दिवस के बारे में अन्य जानकारी 


डॉ वर्गीज कुरियन के जीवन परिचय के बारे में विस्तार से 

 डॉ वर्गी कुरियन का जन्म केरल के कोझिकोड में 26 नवंबर 1921 को हुआ था, डॉक्टर वर्गीज कुरियन 1 उद्यमी थे, और ये फादर ऑफ द व्हाइट रिवॉल्यूशन के नाम से जाने जाते हैं, इन्होंने अपने बिलियन लीटर आईडिया, (ऑपरेशन फ्लड) विश्व के सबसे बड़े कृषि विकास कार्यक्रम के लिए मशहूर हुए हैं। डॉ वर्गीज कुरियन को भारत में श्वेत क्रांति के जनक के रूप में जाना जाता है, इस ऑपरेशन के चलते भारत में 1998 में भारत को अमेरिका से भी ज्यादा इस क्षेत्र में तरक्की दी थी और दूध अपूर्ण देश से विश्व दूध का सबसे बड़ा उत्पादक देश बना था।

अमूल ब्रांड


 डॉ वर्गीज कुरियन को मिल्क मैन ऑफ इंडिया के नाम से जाना जाता है। देश को दूध की कमी से निकालकर विश्व की सबसे ज्यादा दूध के प्रोडक्शन करने वाले देश बनाया था। वर्गीज कुरियन ने 30 संस्थानों की स्थापना की जिन्हें विभिन्न किसानों एवं कार्यकर्ताओं द्वारा चलाया गया और उन्होंने अपने इस संस्थानों के माध्यम से बेरोजगार लोगों को रोजगार दिया था। वर्गीज कुरियन अमूल ब्रांड की स्थापना की और इस ब्रांड ने सफलता की ऊंचाइयों को छुआ।

डॉ वर्गीज कुरियन के अवॉर्ड


साल 1963 में सामुदायिक नेतृत्व के लिए उन्हें रैमन मैग्सेस पुरस्कार एवं साल 1999 में वर्ल्ड फूड प्राइस सम्मानित किया गया था। दूध प्रोडक्शन के क्षेत्र में सम्मानित किया गया था। भारत सरकार ने साल 1965 में पद्मश्री और 1966 में पद्म भूषण और 1999 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया था। डॉ वर्गीस कुरियन को को कार्नेगी वटलर विश्व शांति पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था। डॉ वर्गीज कुरियन अमेरिका के इंटरनेशनल पर्सन ऑफ द ईयर सम्मान से भी सम्मानित हुए हैं। वर्गीज कुरियन को कृषि रत्न सम्मान से भी सम्मानित किया गया है।

 9 सितंबर 2012 को 90 साल की आयु में वर्गीज कुरियन का निधन हुआ था
 

 
National Law Day,राष्ट्रीय विधि दिवस कब और क्यों मनाया जाता है, जाने विस्तार से

 
National Law Day : हर साल भारत में 26 नवंबर को राष्ट्रीय विधि दिवस या राष्ट्रीय कानून दिवस मनाया जाता है। 26 नवंबर के दिन भारत का संविधान स्वीकारा गया था, जिसके बाद से 26 नवंबर को ही विधि दिवस मनाया जाता है। सबसे पहले भारत के प्रख्याता  विधिवेत्ता, डॉक्टर लक्ष्मी मल्ल सिंघवी के प्रयासों एवं सुप्रीम कोर्ट बार एशोशिएशन द्वारा साल 1979 में शुरू हुई थी, जिसके बाद से इस दिन को  भारतीय संविधान के नाम से  जाने जाने लगा।

 राष्ट्रीय कानून दिवस का इतिहास क्या है 


 26 नवंबर 1949 के बाद करीब 30 सालों के बाद भारत के उच्चतम न्यायालय के बार एसोसिएशन ने 26 नवंबर की तिथि को राष्ट्रीय विधि दिवस के रूप में घोषित की किया था, तब से लेकर हर साल पूरे देश में तब से लेकर अब तक हर साल 26 नवंबर को भारतीय राष्ट्रीय विधि दिवस मनाया जाता है, देश में विधिक बंधुत्व को बढ़ावा देने एवं विचारधारा को फैलाने के लिए इस दिन को विशेष महत्व के साथ मनाया जाता है। यह दिन संविधान बनाने वाली संविधान सबा के 207 सदस्यों के अतुलनीय योगदान को देखते हुए उन्हें सम्मानित करने के लिए और देश में विधि एवं कानून के महत्त्व को सम्मानित करने के लिए यह दिन मनाया जाता है।

 राष्ट्रीय कानून दिवस का उद्देश्य क्या है 


भारत के उच्चतम न्यायालय के बार एशोशिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष के मुताबिक भारत का उच्चतम न्यायालय  मानव अधिकारों एवं समाज में शांति को बनाए रखने में, संविधान की रक्षा करना है। हमेशा समाज में हो रहे सकारात्मक परिवर्तनों में अपनी सहभागिता निभाना, समाज के मूल कर्तव्य को आगे बढ़ाने में सहभागी होना और उनके उद्देश्यों को एक नई गति प्रदान करना है। यह विधि के नियमों को स्थापित करने के साथ साथ लोकतंत्र के रक्षक भी होते हैं और मानव अधिकारों की रक्षा करते हैं। संविधान के अनुच्छेद 21 के अंतर्गत इस संदर्भ में बहुत सी जानकारियां हैं, साथ ही विधि के उद्देश्य एवं लक्ष्य को इसमें परिभाषित किया गया है।

 राष्ट्रीय कानून दिवस के बारे में महत्वपूर्ण बिंदु 


भारत का संविधान विश्व का सबसे बड़ा लिखित संविधान है।
भारतीय दंड संहिता 1860 में अंग्रेजों द्वारा निर्धारित किया गया था जो कि भारत में आपराधिक कानून का आधार है।
साल 1973 में निर्धारित दंड प्रक्रिया संहिता, अपराधिक कानून की प्रत्येक पहलुओं को अपने तरीके से कंट्रोल करता है और गाइडलाइन प्रोवाइड करता है।
भारतीय कंपनी कानून वर्तमान में अद्यतन हो गया है इसका नाम बदलकर कंपनी अधिनियम 2013 रखा गया है।
भारतीय संविधान के दौरान इसमें आयरलैंड, यूएसए, ब्रिटेन, फ्रांस के कानूनों को ऐड किया गया है।  
भारतीय कानून संयुक्त राष्ट्र के मानव अधिकारों एवं वातावरण संबंधी गाइडलाइन के अनुरूप है, जिसमें कुछ इंटरनेशनल कानून जैसे बौद्धिक अधिकारों भारत में लागू किया गया है।

 
 

10 Facts About 26/11 Attack,  26/11 मुंबई ताज होटेल हमले के बारे में जाने 10 फैक्ट

 
10 Facts About 26/11 Attack : साल 2008 में मुंबई में हुए आतंकी हमले को  साल 2022 में 14 साल पूरे हो जाएंगे, लेकिन इस दिन हुए आतंकी हमले का डर  और दर्द आज भी भारतीय लोगों के दिल में जिंदा है। 26/11 भारत के इतिहास का सबसे काले दिनों में से एक है। जब मुंबई में आतंकवादियों ने क्रूरता से आतंकी हमले को अंजाम दिया था, इस 26 /11 हमले में लश्कर-ए-तैयबा के 10 आतंकवादियों ने मुंबई में घुसपैठ कर 4 दिनों तक गोलीबारी एवं सिलसिलेवार बम विस्फोट किए थे, इस हमले के चलते 164 लोग मारे गए थे और 300 से अधिक लोग घायल हुए थे। इस 26 /11 हमले के पीछे आतंकियों का कोई मकसद था, जिसका खुलासा धीरे-धीरे समय के साथ होते आ रहा है। ऐसे में आज हम आपको आज के इस लेक के माध्यम  से 26 /11 की पूरी कहानी विस्तार से बताएंगे। 
26/ 11 हमले से जुड़े 10 फैक्ट
 
  1. 26 /11 के हमले में भाग लेने वाले आतंकी पाकिस्तान से थे यह सभी भारत में समुद्री मार्ग से आए थे और उनका भारत आने का मुख्य मकसद आतंक फैलाना और अपने कुछ प्रमुख आतंकवादियों को कंधार अपहरण मामले से मुक्त करवाना था।
  2.  मुंबई आतंकी हमले की योजना कई महीने पहले से चल रही थी, इस हमले में शामिल आतंकवादियों ने भारत-बांग्लादेश सीमा में से सिम कार्ड खरीद कर कम्यूकेशन किया था। इसके अलावा ऐसी भी इसके बाद योजनाबद्ध तरीके से 2008 को आतंकवादियों ने पाकिस्तान से गुजरात के रास्ते भारत आए।
  3.  अपने मार्ग में इन्होंने 4 मछुआरों को मार डाला था और नाव के कैप्टन को भारत में एंट्री दिलवाने की धमकी दी थी। जिसके बाद आतंकवादियों ने 26 नवंबर 2008 को कप्तान को भी मार डाला और कोलाबा की ओर बढ़े।
  4.  आतंकी मुंबई में एंट्री लेने से पहले ये आतंकवाद एलएसजी, कोकीन एवं स्टेरॉयड का सेवन कर रहे थे, ताकि वह ज्यादा देर तक एक्टिव रह सके। आतंकवादियों ने मुंबई में दाखिल होने के बाद ताज होटल, ओबरॉय ट्राइडेंट एवं नरीमन हाउस में धावा बोल दिया था।
  5.  ताज होटल में लगभग 6 विस्फोट हुए थे । इस हमले में आतंकवादियों ने कई दिनों तक लोगों को किडनैप करके रखा और उनके साथ क्रूरता का व्यवहार भी किया था। मुंबई में अलग-अलग जगहों पर किए गए इस हमले में 64 लोग मारे गए थे और 600 से अधिक लोग हमले के चलते घायल हुए थे।
  6.  इस हमले में सभी आतंकवादी मारे गए लेकिन मोहम्मद अजमल आमिर कसाब जिंदा पकड़ा गया जिसे यरवदा जेल में 21 नवंबर 2012 को फांसी दी गई। आतंकी हमले में एकमात्र जिंदा पकड़े गए आतंकवादी अजमल कसाब के खिलाफ आर्म्स एक्ट, गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम एक्ट,  विस्फोट एक्ट सीमा शुल्क एक्ट के खिलाफ युद्ध छेड़ने एवं रेलवे एक्ट के अन्य धाराओं के सहित इनके खिलाफ मामला दर्ज किया गया और साल 2012 में फांसी की सजा दी गई
  7.  इस हमले में रिटायर्ड फौजी तुकाराम ओंबले एवं मुंबई पुलिस के सहायक सब इंस्पेक्टर अजमल कसाब को पकड़ने के लिए अपनी जान गंवाई थी। ओंबले को कर्तव्य के पालन में असाधारण बहादुरी एवं वीरता के लिए अशोक चक्र से सम्मानित किया गया था।
  8. जमात-उद-दावा का सरगना हाफिज सईद 26 /11 के मुंबई हमले का मास्टरमाइंड था, जिसे अब तक पाकिस्तान बचाते हुए आया है।
  9. 26 /11 के हमले में आतंकवादियों को मारने में मरीन कमांडो ने अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी और कमांडो सुनील यादव को बचाते हुए एनएसजी के मेजर संदीप उन्नीकृष्णन इस मिशन में शहीद हो गए थे, जिसे ताज में रेस्क्यू ऑपरेशन के दौरान पैरों में गोली लगी थी। 
  10. इस 26 /11 हमले में लश्कर-ए-तैयबा के 10 आतंकवादियों ने मुंबई में घुसपैठ कर 4 दिनों तक गोलीबारी एवं सिलसिलेवार बम विस्फोट किए थे
 
27-11-2022
 

National Gopal Ratna Award, राष्ट्रीय गोपाल रत्न पुरस्कार क्या है जाने विस्तार से

 
 
National Gopal Ratna Award : केंद्रीय पशु पालन मत्स्य पालन एवं डेयरी मंत्री डॉ संजीव कुमार बलिया ने देश में दूध उत्पादन क्षेत्र में लोगों के अनुकरणीय योगदान एवं कार्यों के लिए कृत्रिम गर्भाधान में शामिल किसानों, सहकारी समितियों एवं टेक्नीशियन को राष्ट्रीय गोपाल रत्न पुरस्कार दिया है। यह पुरस्कार 26 नवंबर साल 2022 को डॉक्टर बाबू गजेंद्र प्रसाद अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन केंद्र जीकेवीके केंपस बेंगलुरू कर्नाटक में राष्ट्रीय दुग्ध दिवस समारोह के दौरान किसानों, सहकारी समितियों एवं टेक्नीशियन को प्रोवाइड किया गया है। इस पुरस्कार को  केंद्रीय मंत्री ने यह कहा है कि वैश्विक उत्पादन में 32 परसेंट योगदान के साथ भारत सबसे अधिक दुग्ध  उत्पादन करने वाला विश्व का देश बन गया है। देश में 222 सहकारी समितियां हैं जिनमें से 17 मिलियन से अधिक किसान दूध की सप्लाई करते हैं।

 

 राष्ट्रीय गोपाल रत्न पुरस्कार 

 
राष्ट्रीय गोपाल रत्न पुरस्कार और डेयरी क्षेत्र में सर्वोच्च राष्ट्रीय पुरस्कार में से एक है। जिसे दुग्ध उत्पादन करने वाले किसानों सहकारी समितियों एवं टेक्नीशियन को दिया जा रहा है। इस पुरस्कार का उद्देश्य स्वदेशी मवेशियों को पालने वाले किसानों सर्वेक्षण कृत्रिम गर्भाधान टेक्नीशियन एवं डेयरी सहकारी समितियों, दुग्ध प्रोडक्शन कंपनी, डेयरी प्रोडक्शन संगठनों की पहचान करना एवं उन्हें कार्यक्षेत्र में प्रोत्साहित करना और उनके कार्यों को लेकर सम्मानित करना है। यह पुरस्कार तीन कैटेगरी में बांटा गया है स्वदेशी मवेशी भैंस की नस्ल को पालने वाले सर्वश्रेष्ठ डेयरी किसान, सर्वश्रेष्ठ कृतिम गर्भाधान तकनीशियन आईटी एवं सर्वश्रेष्ठ डेयरी सहकारी दुग्ध उत्पादक कंपनी डेरी किसान उत्पादक संगठन।
 
 

Times Higher Education THE,टाइम्स हायर एजुकेशन THE में भारत ने बनाई जगह, इन देशों को पछाड़ा

 
 
Times Higher Education THE : टाइम्स हायर एजुकेशन THE ने हाल ही में एक रिपोर्ट जारी की है, इस रिपोर्ट में दुनिया के उन टॉप इंस्टिट्यूट का नाम शामिल किया गया है जहां से पढ़ने वाले छात्रों को कंपनियां नौकरी देने के लिए तैयार बैठी रहती है या फिर ऐसा कहें कि पढ़ाई करते ही उन्हें तुरंत ही प्लेसमेंट की अपॉर्चुनिटी मिलती है। इस रैंकिंग में टॉप 50 इंस्टिट्यूट है जिसमें इंडिया के केवल एक संस्थान को शामिल किया गया है और वह है आईआईटी दिल्ली। ग्लोबल यूनिवर्सिटी एंप्लॉयमेंट रैंकिंग में आईआईटी दिल्ली को टॉप 50 संस्थानों में जगह मिली है। वहीं अगर टॉप 200 इंस्टिट्यूट की बात करेंगे तो भारत के कुल 3 संस्थानों को इस लिस्ट में शामिल किया गया है, आइए जानते हैं इस लेख में इस रिपोर्ट के बारे में विस्तार से,

 

 आईआईटी दिल्ली के अलावा यह इंस्टीट्यूट है शामिल टॉप 200 रैंकिंग में

 
आईआईटी दिल्ली के अलावा जिस इंस्टीट्यूट का नाम शामिल किया गया है वह है इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी बेंगलुरु एवं आईआईटी मुंबई, आईआईएससी बेंगलुरु के साथ iit-bombay यह तीनों को साल 2021 की तुलना में आईआईएससी बेंगलुरु तीन स्थान ऊपर उठ गया है और iit-bombay 97वें स्थान से 72 वें स्थान पर आया है।
 

 अमेरिका के यह इंस्टिट्यूट है शामिल

 
वैश्विक स्तर पर अगर बात करें तो अमेरिका का जलवा इस इंडेक्स में कायम है। यूएस की चार यूनिवर्सिटी को इंडेक्स में शामिल किया गया है। मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट आफ टेक्नोलॉजी, कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, हार्वर्ड यूनिवर्सिटी इन इंस्टीट्यूट ने टॉप 50 पर स्थान बनाए हैं, टॉप 250 में अमेरिका के कुल 55 विश्वविद्यालयों को शामिल किया गया है। जिसके बाद फ्रांस के 18 कॉलेज और यूके के 14 इंस्टिट्यूट को इस इंडेक्स में जगह दी गई है, जिसके बाद टॉप टेन में सिंगापुर और जापान ने जगह बनाई है।
 

इन देशों को पछाड़ा भारत ने

 
भारत ने इस जारी लिस्ट में 44 देशों को शामिल किया गया है, जिसमें 250 में 7 संस्थानों को भारत की संख्या के मामले में स्वीडन, हांगकांग, इटली एवं सिंगापुर जैसे देशों से आगे 13वें स्थान पर बना हुआ है। इस सर्वे में भाग लेने वाले इम्प्लॉयर्स ने साल 2022 में लगभग 8,00,000 स्नातक जॉब एवं प्लेसमेंट प्रोवाइड करवाए हैं। अब यह सर्वे अपने 12वें स्तान में प्रवेश कर चुका है, जिसमें दुनिया भर के नियोक्ताओं के 98,014मतों को शामिल किया गया है।
 
 

World's Most Popular Leader's List, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बने दुनिया के सर्वाधिक लोकप्रिय नेता, इन बड़े नेताओं को पछाड़ा

 
World's Most Popular Leader's List : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम अब विश्व के सबसे लोकप्रिय नेताओं की लिस्ट में शामिल हो गया है, जिसमें उन्हें लोकप्रिय नेताओं में सबसे ऊपर रखा गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 71 परसेंट की रेटिंग के साथ विश्व के नेताओं के बीच ग्लोबल रेटिंग में टॉप पर हैं। दुनिया के 13 नेताओं के इस लिस्ट में शामिल किया गया है, जिसमें भारत के प्रदानमंत्री का नाम सबसे उपर रका गया है। अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन छठवें स्थान पर हैं और उन्हें 43 परसेंट रेटिंग दी गई है, जिसके बाद केनेडा के राष्ट्रपति जस्टिन ट्रूडो का नाम शामिल है। इन्हें 43 परसेंट रेटिंग दी गई है और ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्काट मारिसन को 41 परसेंट रेटिंग दी गई है। आपको बता दें कि साल 2021 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दुनिया के लोकप्रिय नेताओं की लिस्ट में शामिल थे।
 

 रेटिंग रिपोर्ट के बारे में

 
मॉर्निंग कंसल्ट पॉलिटिकल इंटेलिजेंस वर्तमान में ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, भारत, इटली, जापान, मेक्सिको, दक्षिण कोरिया, स्पेन, यूनाइटेड किंगडम, यूनाइटेड स्टेट्स ऑफ अमेरिका में राष्ट्र भक्तों की अनुमोदन रेटिंग और देश के ट्रैजेक्टरी पर नजर बनाए रखा है। मॉर्निंग कंसल्ट अपनी वेबसाइट पर यह कहा है कि नए अनुमोदित रेटिंग 13 से 19 जनवरी 2022 को इकट्ठे किए गए डाटा पर आधारित है। अनुमोदन रेटिंग प्रत्येक देश में व्यस्क निवासियों के सात दिनों तक चलने वाले एवं एवरेज चलित पर आधारित होती है, जिसमें नमूनों के आकार के अनुसार अलग-अलग रेटिंग दी जाती है। इस वेबसाइट ने मई 2020 में 84% मंजूरी के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सबसे ज्यादा रेटिंग प्रोवाइड की थी, जो कि मई 2021 में घटकर 63% पर आ गई थी। मॉर्निंग कंसल्ट के वेबसाइट के मुताबिक 7 दिन के आधार पर किया जाता है। साल 2022 के मई महीने में इसी वेबसाइट ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सबसे ज्यादा रीडिंग यानी 84 परसेंट रेट कि थी जो कि कम होकर 63 परसेंट हो गई थी।
 

Free E Books